मांसाहार छोड़ने के चमत्कारी फायदे

भोजन के किस प्रकार को अपनाना है, ये हर व्यक्ति का अपना चुनाव होता है। कई बार जब कई सालों तक मांसाहार करने के बाद उसे छोड़कर शाकाहार को अपनाया जाता है तो इससे शरीर को कई तरह के फायदे मिलते हैं। तो चलिए, आज आपको बताते हैं मांसाहार छोड़ने और शाकाहार अपनाने के फायदों के बारे में–

कोलेस्ट्रॉल का लेवल घटेगा – पौधों से बनने वाले प्रोडक्ट्स में सैचुरेटेड फैट काफी कम पाया जाता है जिससे कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम बना रहता है। कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ने का मतलब है दिल की बीमारियों को बुलावा देना। रिसर्च बताते हैं कि सब्ज़ियां खाने वाले लोगों में तुलनात्मक रूप से कोलेस्ट्रॉल का स्तर 35 प्रतिशत तक कम होता है।

पाचन तंत्र मजबूत बनेगा – शाकाहारी भोजन में फाइबर पाया जाता है जो आँतों को साफ रखने के साथ उन्हें स्वस्थ भी रखता है, फाइबर युक्त भोजन करने से डाइजेशन भी अच्छा रहने लगता है और ये तो आप जानते ही हैं कि अगर पेट सम्बन्धी रोग नहीं हो तो बहुत से रोगों से बड़ी आसानी से दूरी बनायी रखी जा सकती है।

पेट में जलन कम होगी – मांस का सेवन करने से सीने और पेट में जलन की शिकायत रहने लगती है और लगातार रहने वाली ये जलन शरीर को काफी नुकसान पंहुचा सकती है जबकि शाकाहारी भोजन में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते है जिनके कारण ऐसी जलन रहना काफी कम हो जाता है।

प्रोटीन की संतुलित मात्रा मिलने लगेगी – शरीर को प्रोटीन की एक सीमित मात्रा की ही आवश्यकता होती है लेकिन एनिमल प्रोडक्ट्स से ज़्यादा मात्रा में प्रोटीन मिलता है जो वसा के रूप में जमा होता जाता है जिससे वजन बढ़ने की समस्या होती है और आप ये जानते हैं कि मोटापा अपने साथ ढ़ेरों बीमारियां भी लेकर आता है।

वजन कम करना हो जायेगा आसान – एक रिपोर्ट के अनुसार – सब्जियां, दालें, अनाज और फल खाने वाले व्यक्ति के लिए वजन कम करना, मांसाहार करने वाले लोगों की तुलना में काफी आसान होता है।

त्वचा में निखार – मांसाहार छोड़कर शाकाहार को अपनाने से स्किन से जुड़ी समस्याओं में राहत मिलने लगेगी क्योंकि शाकाहार में फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट्स की मौजूदगी से त्वचा से भी गन्दगी साफ होने लगती है जिससे त्वचा में निखार बना रहता है।

डायबिटीज से बचाव सम्भव है – एनिमल प्रोडक्ट्स, खासकर रेड मीट या प्रोसेस्ड मीट का सेवन करने से टाइप 2 डायबिटीज होने की सम्भावना बढ़ जाती है और इन प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किये जाने वाले प्रेजर्वेटिव भी वजन बढ़ाते हैं, इन्सुलिन के कार्यों को बाधित करते हैं और अग्नाशय की सेल्स को भी नुकसान पहुंचाते हैं। ऐसे में मांस का सेवन छोड़ने से डायबिटीज से बचाव संभव है और अग्नाशय को भी सुरक्षित रखा जा सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर से बचाव – मांस छोड़ने से प्रोस्टेट कैंसर जैसी बीमारी की सम्भावना भी कम हो सकती है।

क्षतिग्रस्त डीएनए की मरम्मत आसानी से होगी – मांस छोड़कर शाकाहार करने से शरीर को अपने क्षतिग्रस्त अंगों की मरम्मत में आसानी होने लगेगी क्योंकि शाकाहार में इतने पोषक तत्व पाए जाते हैं जो मिलकर शरीर के डीएनए की मरम्मत करने में सक्षम होते हैं।

अब आप जान चुके हैं कि मांस का सेवन छोड़ने से आपके शरीर को किस तरह राहत मिल सकती है और शाकाहार को अपनाने से सेहत को कितने फायदे मिल सकते हैं इसलिए इन फायदों पर गौर कीजिये और स्वस्थ रहिये।

“प्रोटीन का ज्यादा सेवन भी हो सकता है खतरनाक, जानिए कैसे”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।