माता वैष्णो देवी यात्रा पर जाने से पहले ये नए दिशा निर्देश जरूर जान लें

जनवरी 13, 2018

माता वैष्णों देवी के दर्शन की अभिलाषा आप भी रखते होंगे और हो सकता है कि आपने माता के दर्शन कर भी लिए हो और आगे भी आप माता वैष्णो देवी की यात्रा पर जाने का प्लान बना रहे हों। आप ही की तरह, बहुत से भक्त माता के दर्शन के लिए जाया करते हैं और देश-दुनिया से हजारों श्रद्धालु हर दिन यहाँ आते हैं। इस यात्रा का लम्बा सफर ‘जय माता दी’ के नारे लगाते लगाते बड़ी आसानी से गुजर जाता है और हर कोई इस यात्रा के बेहतरीन अनुभव लेकर घर लौटता है।

भले ही आप इस यात्रा से जुड़ी सभी जानकारियों से परिचित रहे हों लेकिन अब इस यात्रा के सम्बन्ध में कुछ बदलाव किये गए हैं, जिनके बारे में जानना आपके लिए बेहद ज़रूरी है। ऐसे में आज आपको बताते हैं कि माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाते समय, आपको एनजीटी द्वारा लागू किये गए किन नए निर्देशों की जानकारी होनी चाहिए–

यात्रियों की संख्या को सीमित कर दिया गया है – एनजीटी ने माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड को निर्देश जारी कर दिए हैं, जिनके अनुसार अब से इस यात्रा पर एक दिन में केवल 50 हजार श्रद्धालु ही जा सकेंगे। इस नियम के लागू होने के बाद, अगर आप बिना पर्ची लिए कटरा पहुँचेंगे तो आपको काफी दिक्कत उठानी पड़ सकती है क्योंकि अब से यात्रियों की संख्या ज़्यादा होने पर नयी पर्ची जारी नहीं की जायेगी।

इस यात्रा की ऑनलाइन पर्ची लेना फायदेमन्द रहेगा – इस यात्रा के लिए ऑनलाइन पर्ची लेना आपके लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगा क्योंकि अगर आप कटरा पहुँचने के बाद, पंजीकरण कार्यालय में पर्ची बनवाने जायेंगे और उस समय यात्रियों की संख्या ज्यादा होगी तो ऐसा भी हो सकता है कि आपको अगले दिन की पर्ची मिले और आपको अगले दिन तक इंतज़ार करना पड़े।

कटरा में गन्दगी फैलाने पर जुर्माना लगेगा – नए निर्देशों के अनुसार, माता वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालु और यहाँ का प्रशासन सफाई का विशेष ध्यान रखें, इसलिए प्रशासन को ये आदेश दिया गया है कि कटरा में गन्दगी फैलाने वाले व्यक्ति पर 2000 रुपये का जुर्माना लगाया जाए।

नया रास्ता तो मिलेगा पर ये सुविधाएँ नहीं – एनजीटी के आदेश के अनुसार यात्रा का नया रास्ता 24 नवम्बर तक शुरू कर दिया जाना चाहिए और इस रास्ते पर केवल पैदल यात्री और बैटरी कारें ही चलेंगी। घोड़े, टट्टू और पालकी की सुविधा इस नए रास्ते पर नहीं मिलेगी।

आपको ठहरने की व्यवस्था का ख्याल भी रखना होगा – अभी तक माता वैष्णो देवी की यात्रा के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को ठहरने के लिए किसी खास दिक्कत का सामना शायद ही करना पड़ा हो क्योंकि यात्रियों की बढ़ती संख्या के साथ ठहरने के लिए होटलों की संख्या भी तेज़ी से बढ़ती गयी है लेकिन अब एनजीटी के फैसले के अनुसार माता वैष्णो देवी स्थल के आसपास के इलाकों में कोई नया निर्माण नहीं होगा। ऐसे में हो सकता है कि ठहरने की व्यवस्थाएं कुछ हद तक बाधित हो इसलिए बेहतर यही होगा कि आप अपने रुकने की व्यवस्था पहले से ही करके चलें।

दोस्तों, अब आप माता वैष्णो देवी यात्रा से जुड़ी अहम जानकारियां प्राप्त कर चुके हैं। उम्मीद है ये जानकारी आपके लिए फायदेमन्द साबित होगी और आपकी ये यात्रा भी सुखद और आनंददायी साबित होगी। जय माता दी !

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“यात्रा पर जाते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें