सड़क किनारे लगे मील के पत्थर अलग-अलग रंग के क्‍यों होते हैं?

फरवरी 1, 2018

जब भी आप किसी हाईवे पर जाते होंगे तो आपने देखा होगा की सड़क किनारे थोड़ी थोड़ी दूरी पर मील के पत्थर लगे होते हैं और अगर आपने गौर किया हो तो ये पत्थर जगह जगह पर अपना रंग बदल लेते हैं यानी ये पत्थर अलग अलग रंग के होते हैं। आपने कभी सोचा है की ऐसा क्यों होता है? शायद आपने इसके बारे में कभी अपने दिमाग पर ज्यादा जोर नहीं डाला होगा लेकिन आइये आज आपको इसके पीछे का कारण बताते हैं।

सड़क किनारे लगे ये मील के पत्थर हमें बताते हैं की हमारा गंतव्य स्थान हमसे कितनी दूरी पर है और आमतौर पर ये मील के पत्थर नारंगी, पीले, हरे, काले, नीले या सफेद रंग के होते हैं। आइये आपको बताते हैं मील के पत्थरों के इन रंगों का क्या मतलब होता है।

पीले रंग वाले मील के पत्थर – सड़क किनारे कुछ मील के पत्थरों के ऊपर पीले रंग की पट्टी होती है और पीले रंग की पट्टी वाले मील के पत्थर नेशनल हाईवे यानी राष्ट्रीय राजमार्ग की निशानी होते हैं। तो अगली बार जब आपको सड़क किनारे पीले रंग की पट्टी वाले मील के पत्थर दिखाई दें तो समझ लीजियेगा आप नेशनल हाईवे पर चल रहे हैं।

हरे रंग वाले मील के पत्थर – सड़क किनारे अगर आपको हरे रंगे की पट्टी वाले मील के पत्थर दिखाई दें तो समझ लीजियेगा की आप स्टेट हाईवे यानी राज्य राजमार्ग पर चल रहे हैं। राज्य राजमार्गों का निर्माण राज्य सरकार द्वारा किया जाता है और मील के पत्थरों पर हरे रंग की पट्टी इस बात की निशानी है की ये स्टेट हाईवे है।

काले, नीले या सफेद रंग वाले मील के पत्थर – सड़क किनारे काले, नीले या सफेद रंग की पट्टी वाले मील के पत्थरों का मतलब है की आप किसी बड़े शहर की सड़क पर चल रहे हैं। इन सड़कों का निर्माण उसी शहर के प्रशासन द्वारा किया जाता है।

नारंगी रंग वाले मील के पत्थर – जब भी आप किसी गांव की सड़क पर चल रहे होंगे तो आपको सड़क किनारे ऐसे मील के पत्थर दिखाई देंगे जिनके ऊपर नारंगी रंग की पट्टी होगी। गांव की इन सड़कों के मील के पत्थरों का नारंगी रंग प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना रोड की निशानी होती है।

तो अब आप जान चुके हैं की मील के पत्थरों का रंग अलग अलग क्यों होता है और इन रंगों का क्या मतलब होता है। तो अगली बार आप इन रंगों को देखकर पता लगा सकते हैं की आप कौनसे हाईवे पर चल रहे हैं।

आपको यह लेख कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“रेल की पटरियों के इर्द-गिर्द क्यों पड़े होते हैं पत्थर”

शेयर करें