मोटापा बढ़ने के कुछ मुख्य कारण

104

मोटापा बढ़ना आजकल एक ऐसी समस्या बन चुकी है जिससे हर दूसरा व्यक्ति परेशान दिखाई देता है और ऐसा होने की ख़ास वजहें भी हम जानते हैं यानि फिजिकल वर्क में आयी कमी और खाने पीने की आदतों में समय के साथ हुआ बदलाव, जिसके चलते मोटापा बड़ी आसानी से बढ़ने लगा है और इसी कारण ढेरों बीमारियों ने भी हमारे शरीर में घर बनाना शुरू कर दिया है। वजन बढ़ना आजकल किसी उम्र का मोहताज नहीं हैं, हर उम्र के लोग चाहे युवा हो या बच्चे, पुरुष हो या महिला, सभी इसकी गिरफ्त में आसानी से आ जाते हैं। लेकिन इसे सिर्फ अपनी शारीरिक सुंदरता में आयी कमी से जोड़कर देखना ही काफी नहीं होगा बल्कि इसके कारण शरीर में जो बीमारियां बढ़ती जा रही हैं उन्हें रोकना और उनसे बचना भी तो ज़रूरी है। इसलिए मोटापा बढ़ने के कारणों को अच्छे से जान लेना बहुत जरुरी है। तो चलिए, आज हम जानते हैं मोटापा बढ़ने के कारणों के बारे में –

खानपान की आदतें – वजन के लगातार बढ़ते जाने के पीछे सबसे बड़ा कारण है खानपान की ग़लत आदतें। हेल्दी खाना खाने से जहाँ सेहत बनती है वही तला-भुना, मसालेदार खाना, जंक फूड और कोल्ड-ड्रिंक्स जैसी चीज़ों का ज़्यादा सेवन करने से शरीर में कैलोरीज की मात्रा ज़रूरत से ज्यादा हो जाती है और इन एक्स्ट्रा कैलोरीज़ को बर्न करने के लिए हम फिजिकल वर्क भी नहीं करते, इसलिए ये धीरे-धीरे मोटापे का रूप लेती जाती है। ज़्यादा मसालेदार और तेल वाला खाना जहाँ शरीर में वात दोष को बढ़ा देता है वहीँ खाने में ज़्यादा मीठा लेने से कफ दोष भी होने लग जाता है और ऐसा होने पर मोटापा बढ़ने लगता है।

reasons-for-obesity1 मोटापा बढ़ने के कुछ मुख्य कारण

मेटाबोलिज्म का सही तरीके से काम नहीं करना – हर व्यक्ति के मेटाबोलिज्म की कार्यप्रणाली थोड़ी अलग होती है यानि कुछ लोगों का मेटाबोलिज्म यानि चयापचय प्रणाली तेज़ी से काम करती है जिससे वसा का शरीर में जमाव नहीं हो पाता जबकि कुछ लोगों की चयापचय प्रणाली धीमी गति से चलने के कारण उनके शरीर में वसा का जमाव होने लगता है और मोटापा बढ़ने लगता है।

सक्रियता में कमी – दिन भर कंप्यूटर के आगे बैठकर काम करते रहने और मोबाइल पर गेम खेलने में घंटों बिताने की आदतों ने हमें निष्क्रिय बना दिया है। आजकल दोस्तों के साथ सैर पर जाने और छत पर टहलने की बजाये हम फोन में चैट करना ज़्यादा पसंद करने लगे हैं, साथ ही आरामदायक बिस्तरों और सोफों पर घंटों बैठे रहकर बातें करने की हमारी आदतों ने हमें नीचे बैठने से भी रोक दिया है और एक्सरसाइज करने की मेहनत से भी हम कतराने लगे हैं, ऐसे में शरीर गति ही नहीं कर पाता जबकि इसे हर समय एक्टिव बने रहना चाहिए और इन्हीं कारणों से मोटापा लगातार बढ़ता ही जाता है।

पर्याप्त नींद नहीं लेना – अगर आप रोज़ाना 7-8 घंटे की नींद नहीं ले पाते हैं तो ऐसे में शरीर को मनोवैज्ञानिक तनाव झेलना पड़ता है जिसके कारण शरीर पर वसा का जमाव होने लगता है। इसके अलावा ज़रूरत से ज़्यादा ली गयी नींद भी आपके मेटाबोलिज्म को धीमा करके वसा का जमाव कर सकती है और आपकी निष्क्रियता को बढ़ाकर भी आपका मोटापा बड़ी आसानी से बढ़ा सकती है।

आनुवंशिक कारण – मोटापे का आनुवंशिकता से भी सम्बन्ध है। अगर माता-पिता में से कोई एक भी मोटापे से ग्रस्त है तो बच्चों में मोटापा होने की सम्भावना भी बढ़ सकती है।

तनाव – तनाव का सम्बन्ध केवल हमारी मानसिक स्थिति से ही नहीं होता है बल्कि तनाव के कारण शरीर में मोटापा बढ़ाने वाले हार्मोन्स का स्राव भी होने लगता है और तनाव की ऐसी स्थिति में ज़्यादा कार्बोहाइड्रेट्स वाला खाना खाने का मन करता है और ऐसा खाना खाते रहने से हमारे दिमाग में सेरोटोनिन नामक केमिकल निकलता है जो दिमाग को शांत कर देता है और तनाव में राहत मिल जाती है लेकिन ऐसा लगातार करते रहने से मोटापा बड़ी तेज़ी से बढ़ता चला जाता है।

दवाओं का प्रभाव – माइग्रेन, डायबिटीज, मिरगी और ब्लड प्रेशर की कुछ दवाएं वजन को बढ़ा देती है और स्टेरॉइड्स या हार्मोन से जुड़ी दवाएं और गर्भनिरोधक गोलियां भी वजन बढ़ाने का कारण हो सकती हैं। थाइरॉइड हार्मोन में हुए असंतुलन से भी वजन बढ़ने लगता है। ऐसी स्थिति में वजन घटाने के लिए अपनी दवाओं का सेवन ना रोकें बल्कि अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

रजोनिवृत्ति – महिलाओं में एक निश्चित उम्र के बाद रजोनिवृत्ति के कारण वजन बढ़ने लगता है, इसी समय शरीर में आये हार्मोनल बदलाव यानि एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी हो जाने से शरीर का आकार बदलने लगता है और बढ़ती उम्र के साथ मेटाबोलिज्म की धीमी दर और शारीरिक कार्यों में आयी कमी भी मोटापे के लिए जिम्मेदार होती है।

मोटापे के कारणों को जान लेने के बाद ये बात एकदम स्पष्ट हो गयी है कि मोटापा बढ़ने के पीछे जाने-अनजाने में हमारी ही लापरवाहियां और सुस्ती ज़िम्मेदार है। हम चाहे तो घर में रहते हुए भी फिट रहने के लिए एक्सरसाइज कर सकते हैं, अपनी फूड हैबिट्स को सुधार सकते हैं, यहाँ तक कि हम ऑफिस में भी अपने आप को फिट रखने के लिए कई तरीके अपना सकते हैं। अब ये तो हमारे हाथ में हैं कि हमें एक फिट बॉडी और अच्छी सेहत चाहिए या मोटापा और उससे होने वाली ढेरों बीमारियाँ। आपका चुनाव अच्छी सेहत और फिटनेस ही है ना। तो बस, देर किस बात की! अभी से इस आरामपसंद लाइफस्टाइल में थोड़े से अच्छे बदलाव लाने शुरू कर दीजिये और मोटापे को दूर करने और इससे बचने की अपनी ये ख्वाहिश आप खुद ही पूरी कर लीजिये।

“शहद में हैं ऐसे चमत्कारी फायदे की आप हैरान रह जायेंगे”
“पालक का ऐसा जादुई फार्मूला जिससे मोटापा होगा दूर”
“मोटापा घटाने के कुछ आसान उपाय”

Add a comment