एमआरआई स्कैन क्या होता है और कैसे किया जाता है?

सामान्य रूप से तो बीमार होने पर डॉक्टर हमें दवा भी दे देते हैं और चोट लगने की स्थिति में उसका इलाज भी कर देते हैं लेकिन कई बार जब बीमारी का कारण पता नहीं चल पाता है तो एमआरआई करवाने की सलाह दी जाती है। ऐसे में ये जानना बेहतर होगा कि एमआरआई टेस्ट क्या होता है। तो चलिए, आज आपको बताते हैं एमआरआई स्कैन के बारे में –

एमआरआई का अर्थ होता है मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग। इस टेस्ट में गहरे चुंबकीय क्षेत्र का उपयोग किया जाता है। इस टेस्ट में शरीर के अंदर के अंग और संरचनाओं को देखने के लिए एक बड़े कंप्यूटर और रेडियो तरंगों का उपयोग किया जाता है।

ऐसा शरीर के किसी भी हिस्से की तस्वीर लेने के लिए किया जाता है। सीटी स्कैन में मरीज को हानिकारक एक्सरे से गुजरना पड़ता है जबकि इस तकनीक में ऐसा नहीं होता है । एमआरआई में प्रयुक्त रेडियो तरंगें शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती है और ये एक लचीली तकनीक है जिसका इस्तेमाल करके हड्डियों सहित शरीर के विभिन्न अंगों में असामान्यता का अध्ययन किया जा सकता है। दिमाग और रीढ़ की हड्डी का परीक्षण करने के लिए एमआरआई बहुत उपयोगी है।

ct-mri-scan1-1 एमआरआई स्कैन क्या होता है और कैसे किया जाता है?

MRI की प्रक्रिया – इस विधि का आधार चुम्बकीय अनुनाद होता है। एमआरआई करने के लिए व्यक्ति के शरीर के प्रभावित हिस्से या कभी-कभी पूरे शरीर को एक मशीन में बनी नलीनुमा गुहा में प्रवेश कराया जाता है, जिसमें अजीब तरह की आवाज़ें सुनाई देती हैं और कुछ समय बाद व्यक्ति को बाहर निकाल लिया जाता है। इससे कुछ देर बाद उस व्यक्ति के प्रभावित अंग की तस्वीरें फोटोग्राफिक कागज़ या कंप्यूटर पर प्राप्त होती हैं। इसमें लगभग 30-40 मिनट का समय लगता है।

इस स्कैन में कोई तकलीफ नहीं होती है लेकिन एमआरआई मशीन बहुत शोर करती है जिससे बचाव के लिए आपको इयरप्लग्स दिये जा सकते हैं।

एमआरआई स्कैन करवाने से पहले अपने डॉक्टर को ज़रूर बताएं यदि –

  • आप प्रेग्नेंट हैं
  • आपके शरीर में धातु के टुकड़ें हों
  • आपको छर्रों या गोली से चोट लगी है
  • आप वेल्डर हैं (ऐसे में आपके शरीर में धातु हो सकती है)
  • आपके शरीर में धातु या इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लगे हों जैसे कार्डियक पेसमेकर या धातु का कृत्रिम जोड़

हालाँकि एमआरआई एक महँगी तकनीक है लेकिन ये एक सार्थक तकनीक भी है और इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं होते हैं।

दोस्तों, अब आप एमआरआई स्कैन से जुड़ी सामान्य जानकारी प्राप्त कर चुके हैं। उम्मीद है आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“सी टी स्कैन क्या है और क्यों किया जाता है?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।