मुलेठी के फायदे

दिसम्बर 4, 2018

मुलेठी एक ऐसी जड़ी-बूटी है जिसका उपयोग भारतीय आयुर्वेद के साथ-साथ चीनी दवाओं में भी होता आया है। इसे अंग्रेजी में लिकोरिस कहा जाता है। स्वाद में चीनी से भी ज्यादा मिठास वाली इस औषधि की सूखी जड़ का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जैसे विटामिन बी, विटामिन ई, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, पोटैशियम, सिलिकन और जिंक। इनके अलावा मुलेठी में कई फाइटोन्यूट्रिएंट्स भी पाए जाते हैं और फ्लेवोनॉइड्स की एक विस्तृत शृंखला भी मौजूद होती है। आइये, अब आपको बताते हैं मुलेठी के फायदे के बारे में।

श्वसन तंत्र को मजबूत बनाये – मुलेठी में मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण गले की खराश, सर्दी, खांसी और दमा में राहत दिलाते हैं और श्वसन तंत्र को मजबूत बनाते हैं।

इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाये – शरीर को वायरस, बैक्टीरिया और इन्फेक्शन से बचाने में मुलेठी मदद करती है। ये लिम्फोसाइट्स और मैक्रोफेज जैसे केमिकल्स के निर्माण में सहायक होती है जिससे इम्यून सिस्टम मजबूत बनता है।

लिवर की सुरक्षा – मुलेठी में पाए जाने वाले नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट गुण फ्री-रेडिकल्स से लिवर की सुरक्षा करते हैं और पीलिया और हेपेटाइटिस जैसे लिवर रोगों के इलाज में मदद करते हैं।

पाचन को बेहतर बनाये – कब्ज, अल्सर, गैस, पेट में जलन और सूजन को कम करके पाचन को बेहतर बनाने का काम भी मुलेठी आसानी से कर देती है।

वजन कम करने में सहायक – मुलेठी में मौजूद फ्लेवेनॉइड्स शरीर में जमा हुयी अतिरिक्त वसा को कम करने में सहायक होते हैं।

गठिया के इलाज में उपयोगी – मुलेठी रूमेटाइड आर्थराइटिस जैसे सूजन वाले रोगों के इलाज में उपयोगी साबित होती है। ये गठिया के दर्द और सूजन को कम कर देती है।

इनके अलावा मेनोपॉज़ की समस्याएं और डिप्रेशन को दूर करने में भी मुलेठी मददगार साबित होती है।

इसकी तासीर ठंडी होती है इसलिए सर्दियों में इसके ज्यादा इस्तेमाल से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती है इसलिए इसका सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए।

उम्मीद है कि मुलेठी के फायदे के बारे में ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी।

“आँख का वजन कितना होता है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें