मुनक्का और किशमिश में अंतर

अगस्त 21, 2018

ड्राई फ्रूट्स खाना सभी को पसंद होता है। किसी को काजू पसंद होते हैं तो किसी को बादाम या अखरोट और कुछ लोग मीठी किशमिश और मुनक्का को भी खाना पसंद करते हैं। आप जानते हैं कि मुनक्का और किशमिश अंगूर को सुखाकर बनायी जाती हैं और ये ना केवल मिठास से भरपूर और स्वादिष्ट होती है बल्कि व्यंजनों का स्वाद भी बढ़ा देती हैं और सेहत को सुधारने और दुरुस्त करने में भी इनकी खास भूमिका होती है।

मुनक्का यानि बड़ी दाख को आयुर्वेद में एक औषधि माना गया है। इसमें ग्लूकोज, गोंद, स्टार्च, टार्टरिक और रेशेमिक एसिड पाया जाता है। इसमें सोडियम, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम, फास्फोरस और आयरन जैसे तत्व मिलते हैं जो बहुत स्वास्थ्यवर्धक और ऊर्जा प्रदान करने वाले होते हैं।

मुनक्का शब्द की शुरुआत पुराने फ्रेंच भाषा के शब्द लोनवर्ड यानी ऋणी से हुयी है जबकि किशमिश शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द रेसमस से हुयी है जिसका अर्थ अंगूर या जामुन का गुच्छा होता है।

मुनक्का और किशमिश अंगूर से ही बनते हैं लेकिन इनमें कुछ अंतर भी होता है जैसे किशमिश का आकार मुनक्का से छोटा होता है और रंग मुनक्का की तुलना में कम गहरा होता है।

छोटे अंगूर को सुखाकर किशमिश बनायी जाती है जबकि बड़े और पके हुए अंगूरों को सुखाने पर मुनक्का बनती है।

किशमिश में बीज बहुत कम मात्रा में होते हैं जबकि मुनक्का में दो-तीन मोटे बीज होते हैं।

मुनक्का और किशमिश से मिलने वाले पौष्टिक तत्व लगभग एक समान ही होते हैं लेकिन किशमिश में थोड़ी खटास पायी जाती है जो एसिडिटी की समस्या कर सकती है जबकि मुनक्का खाने पर ऐसा नहीं होता और मुनक्का में आयरन और मैग्नीशियम होने की वजह से ये ज्यादा एनर्जी प्रदान करने वाली भी होती है।

दोस्तों, मुनक्का और किशमिश में कुछ अंतर जरूर होते हैं लेकिन इनके गुण और सेहत को मिलने वाले फायदे लगभग एक जैसे ही होते हैं इसलिए आप भी किशमिश और मुनक्का को अपने शरीर की जरुरत के अनुसार डाइट में शामिल कर लीजिये और स्वस्थ बने रहिये।

उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

“एंटीबायोटिक क्या होती हैं?”

शेयर करें