म्यूचुअल फण्ड क्या होता है?

दिसम्बर 28, 2017

आजकल मार्केट में इन्वेस्ट करने के लिए ढ़ेरों विकल्प मौजूद है और ऐसा ही एक विकल्प है म्यूचुअल फण्ड, जो निवेशकों को ऐसे अवसर देता है जिनके लिए निवेशक ज़्यादा पैसा मार्केट में इन्वेस्ट कर सके। ऐसे में क्यों ना आज म्यूचुअल फण्ड के बारे में बात की जाए ताकि आप भी जान सके कि म्यूचुअल फण्ड क्या होता है और इसका लाभ कैसे उठाया जा सकता है। तो चलिए, आज जानते हैं म्यूचुअल फण्ड के बारे में-

जब फण्ड में बहुत से लोगों का पैसा निवेश किया जाता है तो इसे म्यूचुअल फण्ड कहते हैं। इसमें बहुत से निवेशकों से पैसा इकट्ठा किया जाता है और इस पैसे को बॉण्ड और शेयर मार्केट में इन्वेस्ट किया जाता है। इन्वेस्टर को उसके द्वारा जमा किये गए पैसों के लिए यूनिट अलॉट कर दिए जाते हैं। इन यूनिट के अनुपात में बॉन्ड या शेयर खरीदने और बेचने पर जो प्रॉफिट होता है उसे म्यूचुअल फण्ड हाउसेस यूनिट होल्डर्स में बाँट देते हैं।

म्यूचुअल फण्ड होल्डर्स को मिलने वाला ये लाभांश या डिविडेंड, फण्ड पर होने वाले सभी खर्च निकालने के बाद दिया जाता है जैसे एएमसी शुल्क, एडमिन खर्च और एजेंट का कमीशन। सामान्य तौर पर मार्केट में म्यूचुअल फण्ड को एक स्कीम के तहत समय समय पर लॉन्च किया जाता है लेकिन हर म्यूचुअल फण्ड का नाम सेबी में दर्ज होना ज़रूरी होता है।

म्यूचुअल फण्ड में जब कम समय के लिए इन्वेस्ट किया जाता है तो प्रॉफिट कम होने की संभावनाएं बढ़ जाती है। अगर बैलेंस और डेट फण्ड को छोड़ दिया जाए तो इक्विटी ओरिएंटेड फण्ड में जब इन्वेस्ट किया जाता है तो प्रॉफिट मिलने के चान्सेस काफी कम होते हैं लेकिन पिछले कुछ समय में लम्बी अवधि के लिए किये जाने वाले इन्वेस्टमेंट निवेशकों को काफी प्रभावित कर रहे हैं क्योंकि इस तरह के इन्वेस्टमेंट में निवेशकों का पैसा भी सुरक्षित रहता है और उनके अच्छा रिटर्न भी मिल जाता है।

mutual-fund म्यूचुअल फण्ड क्या होता है?

Businessman working on tablet with MUTUAL FUNDS on a screen

म्यूचुअल फंड की ख़ास बात ये है कि जो इन्वेस्टर बहुत बड़ा निवेश नहीं कर सकता है, उसके पास छोटे छोटे यूनिट्स में निवेश करने की सुविधा होती है। इसके अलावा म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा फायदा ये है कि जिन इन्वेस्टर्स को मार्केट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है वो अपना इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट्स के हाथ में छोड़ देते हैं और इसके बाद एक्सपर्ट्स तय करते हैं कि कहाँ, कैसे और कब निवेश करना है।

अगर आप म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको बैंक डीमैट अकाउंट खोलना होगा और एक निवेशक के तौर पर आपके लिए ये जानना भी बेहतर होगा कि निवेशकों के लिए सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान को अपनाना बेहतर होता है क्योंकि इसमें इस बारे में पूरी प्लानिंग की जाती है कि कितने समय के लिए और कितना निवेश करना है।

अब आप म्यूचुअल फंड के बारे में सामान्य जानकारी प्राप्त कर चुके हैं इसलिए अब आप अपनी ज़रूरत के अनुसार म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“पर्सनल एक्सीडेंट प्लान क्या होता है और हमारे लिए क्यों जरुरी है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें