नंगे पैर चलने के अद्भुत फायदे

आजकल हम अपनी सेहत के प्रति जागरूक तो हुए हैं जिसके चलते अपनी व्यस्त दिनचर्या में से समय निकाल कर सुबह और शाम की सैर पर जाते हैं और आसान-प्राणायाम भी करने लगे हैं लेकिन अभी भी हमें अपने प्रयासों का पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा है क्योंकि ना तो हम प्रकृति से जुड़ पा रहे हैं और ना ही ज़मीन का स्पर्श ले पा रहे हैं लेकिन अगर हम हरी-हरी दूब पर नंगे पैर चलना शुरू कर दें तो हमें काफी फायदा मिलना शुरू हो जाएगा। तो चलिए, आज जानते हैं नंगे पैर चलने से होने वाले फायदे।

प्रकृति से जुड़ पाते हैं – जिस सकारात्मक ऊर्जा की चाह हमारे शरीर और मन को होती है उसे पाना बेहद आसान है। नंगे पैर चलने से हम प्रकृति से अपना जुड़ाव महसूस कर सकते हैं और ऐसा करने से तन-मन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है जो मन को शांत और स्थिर बनाने के अलावा प्रसन्न भी करता है और शरीर की सेहत तो दुरुस्त होती ही है।

तनाव और चिंता दूर हो जाते हैं – आज के समय में हर दिन तनाव से भरा गुजरता है जिससे निपटना आसान नहीं होता है और तनाव अपने साथ कितने शारीरिक और मानसिक रोग लेकर आता है, इसका अंदाज़ा तो आपको भी है। ऐसे में इस तनाव और चिंता से दूरी बनाना चाहते हैं तो हरी घास पर नंगे पैर सैर करना शुरू कर दीजिये क्योंकि इस आसान से तरीके को अपनाकर आप अपने तनाव और चिंता में 62% तक की कमी ला सकते हैं।

ये किसी व्यायाम से कम नहीं – अगर आप व्यायाम करना पसंद करते हैं तो हरी घास पर नंगे पैर चलना भी शुरू कर दीजिये क्योंकि ऐसा करने से शरीर का संतुलन बेहतर होता है और मांसपेशियों के दर्द और खिंचाव भी दूर होने लगते हैं और मांसपेशियां मजबूत भी बनती है। इसके अलावा पैरों से जुड़े दर्द और कमर दर्द की समस्या में भी राहत मिलने लगती है।

benefits-of-Walking-barefoot-1 नंगे पैर चलने के अद्भुत फायदे

वर्तमान क्षण में जीना सीखते हैं – अगर आप भी मन में चलती रहने वाली अनगिनत बातों से परेशान है तो नंगे पैर सैर करने की आदत डाल लीजिये क्योंकि नंगे पैर चलते समय आपको रास्ते में आने वाले पत्थर, कंकड़ आदि का ध्यान रखते हुए चलना होता है ताकि आपके पैर में कोई चोट ना लग जाए। इस सजगता में आपके दिमाग में अर्थहीन बातें नहीं चल पाती हैं बल्कि आप वर्तमान क्षण में जी रहे होते हैं।

शरीर के हर अंग का व्यायाम होता है – हमारे शरीर के हर अंग का एक रिफ्लेक्स पॉइंट होता है जो पैरों में मौजूद होता है और जब हम नंगे पैर चलते हैं तो हर अंग का ये पॉइंट दबता है जिससे इन अंगों का भी व्यायाम हो जाता है और इसका लाभ कुछ दिन बाद आप अपने शरीर के अंगों पर महसूस भी करने लगेंगे।

जमीन से जुड़ाव होता है – नंगे पैर चलने से हमारा शरीर जमीन के संपर्क में आता है जिससे शरीर की सूजन और जलन जैसी समस्याएं दूर होने लगती हैं, हार्मोन का असंतुलन ठीक होने लगता है, बॉडी क्लॉक सही से कार्य करने लगती है और शरीर शांत होता है।

नींद भी अच्छी आती है – अगर आपको थकने के बाद भी अच्छी नींद नहीं आ पाती है तो आप घास पर नंगे पैर चलना शुरू कर दीजिये क्योंकि माना जाता है कि शाम के समय घास पर नंगे पैर चलने से नींद अच्छी आने लगती है।

नंगे पैर चलने के इतने बेहतरीन लाभ जान लेने के बाद, आप भी ऐसा करने का मन बना रहे होंगे। नंगे पैर सैर करने से अगर तन-मन स्वस्थ रह सकते हैं और शान्ति और प्रसन्नता का अनुभव मिल सकता है तो ऐसा करने में देर नहीं करनी चाहिए इसलिए आप भी अगली बार सैर पर जाते समय इस अनुभव को लेना ना भूले और ये तो तय है कि एक बार अगर आप हरी घास पर नंगे पैर चलने का अनुभव ले लेंगे तो आगे से ऐसा करने के लिए आप स्वयं को उत्साह से भरपूर ही पाएंगे।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“जानिए पैरों में कमजोरी के मुख्य कारण और लक्षण”
“बड़ों के पैर छूने के पीछे का वैज्ञानिक कारण”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।