NEFT, RTGS और IMPS क्या होता है?

बीते कुछ समय में नेट बैंकिंग का चलन काफी बढ़ गया है जिसके ज़रिये पैसों का ट्रांजेक्शन बड़ी आसानी से किया जाता है। अगर आप भी नेट बैंकिंग का इस्तेमाल ट्रांजेक्शन में करते हैं तो आप RTGS, NEFT, IMPS के बारे में भी जानते होंगे और अगर आपने नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना अभी शुरू ही किया है तो आपके लिए इन तीनों टर्म्स को जानना बेहद ज़रूरी है। तो चलिए, आज आपको बताते हैं कि RTGS, NEFT और IMPS क्या है –

RTGS, NEFT और IMPS तीनों ही पैसे ट्रांसफर करने की अलग-अलग प्रक्रियाएं हैं।

  • IMPS (Immediate Payment Service) द्वारा कभी भी कहीं से भी फण्ड का तुरंत ट्रांसफर किया जा सकता है।
  • RTGS ( Real Time Gross Settlement) में मनी ट्रांसफर निर्देशों के तहत और निर्देशों के आधार पर होता है।
  • NEFT (National Electronic Fund Transfer) में फण्ड ट्रांसफर एकसाथ नहीं किया जाता, बल्कि बैचेज में करने की व्यवस्था होती है।
  • NEFT और RTGS से फण्ड ट्रांसफर करने के लिए कुछ ज़रूरी जानकारी का होना आवश्यक होता है यानी जिस व्यक्ति को फण्ड ट्रांसफर करना है, उस व्यक्ति का बैंक अकाउंट नंबर, बैंक की ब्रांच का IFSC पता होना ज़रूरी होता है।

NEFT-RTGC-IMPS1 NEFT, RTGS और IMPS क्या होता है?

RTGS, NEFT और IMPS में अंतर क्या है –

NEFT ऐसी ऑनलाइन फण्ड ट्रांसफर प्रक्रिया है जो सरकारी वित्तीय संस्थान,विशेषकर बैंक द्वारा व्यवहार में लायी जाती है। इस सर्विस के ज़रिये आप देश के किसी भी बैंक की किसी भी शाखा से, किसी भी अन्य बैंक में आसानी से पैसे भेज या प्राप्त कर सकते हैं।

RTGS में पैसों को तुरंत एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में भेजा जाता है। इसमें फण्ड ट्रांसफर को लेकर कुछ सीमायें निर्धारित की गयी हैं जैसे एक दिन में कम से कम 2 लाख और ज़्यादा से ज़्यादा 10 लाख रुपये का ही ट्रांसफर किया जा सकता है।

IMPS भले ही अभी मनी ट्रांसफर करने का नया तरीका है लेकिन इसके ज़रिये आप किसी भी समय कहीं से भी, आसानी से और सुरक्षित तरीके से फण्ड ट्रांसफर कर सकते हैं।

इसकी खासियत ये है कि इसका इस्तेमाल आप दिन के 24 घंटों में कभी भी और अवकाश के दिनों में भी कर सकते हैं और इसे अपने फोन, लैपटॉप, टेबलेट और एटीएम पर भी आसानी से उपयोग में ले सकते हैं। इसके माध्यम से रजिस्टर्ड IMPS ग्राहक, अपने व्यक्तिगत या व्यावसायिक उद्देश्य के लिए देश में कहीं भी फण्ड ट्रांसफर कर सकता है।

RTGS, NEFT और IMPS पर लगने वाला ट्रांजेक्शन शुल्क –

NEFT –

  • दस हजार रुपये तक फण्ड ट्रांसफर पर – 2 रुपये 50 पैसे
  • दस हजार रुपये से ज्यादा, लेकिन एक लाख रुपये तक फण्ड ट्रांसफर पर- 5 रुपये
  • एक लाख से ज़्यादा, लेकिन दो लाख तक की राशि पर – 15 रुपये
  • दो लाख से ज्यादा, लेकिन पांच लाख तक की राशि पर – 25 रुपये
  • पांच लाख से ज्यादा, लेकिन दस लाख तक की धन राशि पर – 50 रुपये

NEFT-RTGC-IMPS2 NEFT, RTGS और IMPS क्या होता है?

RTGS –

RTGS के तहत राशि प्राप्त होने पर कोई ट्रांजेक्शन शुल्क नहीं लगता लेकिन धन राशि भेजने पर चार्ज लगता है, जो इस प्रकार है –

  • दो लाख रुपये से ज़्यादा, लेकिन पांच लाख रुपये तक की धन राशि पर – 25 रुपये
  • पांच लाख से ज़्यादा लेकिन दस लाख रुपये तक की धन राशि पर – 50 रुपये
  • जितना भी फण्ड ट्रांसफर किया जाता है उस पर सर्विस टैक्स लगता है। दोपहर 12:30 के बाद अगर कोर्इ भी ट्रांजेक्शन किया जाता है तो उस पर एक से पांच रुपये तक अतिरिक्त चार्ज लगता है।

IMPS –

  • दस हजार रुपये तक की धन राशि पर – 2 रुपये 50 पैसे
  • दस हजार से ज्यादा, लेकिन एक लाख तक की राशि पर – 5 रुपये
  • एक लाख से ज्यादा, लेकिन दो लाख तक की राशि पर -15 रुपये
  • जो भी राशि ट्रांसफर की जाती है उस पर सर्विस टैक्स लगता है।

नेट बैंकिंग से जुड़ी इन तीनों टर्म्स की सामान्य जानकारी अब आपके पास है। उम्मीद है कि अब नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करना आपके लिए पहले से कहीं ज़्यादा आसान हो जायेगा।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“वीजा कितने प्रकार के होते है और क्या है इनका महत्व?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।