ओट्स के नुकसान

सितम्बर 17, 2018

ओट्स एक ऐसा आहार जिससे भला आज कौन परिचित नहीं है। बीते वर्षो में लोग अपनी सेहत के प्रति बहुत सजग हुए है। सेहत के प्रति सजगता हर लिहाज से अति आवश्यक भी है। ओट्स में भरपूर मिनरल, विटामिन्स, फाइबर, प्रोटीन के अलावा कई तरह के पोषक तत्व होते है। इसकी पौष्टिकता को देखते हुए ही आजकल लोग ओट्स को नाश्ते में लेना ज्यादा पसंद करते है। क्योंकि इसकी अच्छी खुराख के बाद जल्दी से भूख नहीं लगती और पूरे दिन एनर्जी भी बनी रहती है। तो क्या पौष्टिकता से भरपूर ओट्स के नुकसान भी है?

सीधे तौर पर तो ओट्स के नुकसान नहीं है लेकिन वो कहते है ना अति करे क्षति। किसी भी चीज की अधिकता अगर लिमिट से अधिक की जाए तो वो फायदे की जगह नुकसान ही देता है। जिसकी भरपाई सेहत के साथ समझौता करके चुकाई जाती है। हमारा मानना है सेहत के साथ कोई समझौता ना करे। इसलिए आइए जाने ओट्स किस रूप में सेहत को नुकसान पहुँचाता है।

  1. ओट्स ग्लूटेन रहित होते है। लेकिन इसकी खेती भी गेहूँ और जौ के साथ होती है जिसकी वजह से इसमें भी ग्लूटेन होने की संभावना हो सकती है। ऐसे में अगर आप ग्लूटेन युक्त ओट्स खाते है तो दस्त, पीठ और जोड़ों में दर्द, त्वचा संबंधी रोग जैसी समस्या हो सकती है।
  2. जिनके दाँत नहीं होते है या फिर जिन लोगो को ओट्स चबाने में या निगलने में दिक्कत होती है उन्हें ओट्स हजम नहीं होते है।
  3. पेट या आंत की समस्या में पाचन तंत्र कमजोर रहता है। इस स्थिति में ओट्स या ओट्स से बनी चीजों के सेवन से समस्या गंभीर हो सकती है। क्योंकि अधिक फाइबर होने के कारण ओट्स को पचाने में वक्त लगता है और जिसका पाचन तंत्र कमजोर होगा वो ओट्स को पचा नहीं पाएगा। ना पचने की स्थिति में गैस, कब्ज जैसी समस्या भी हो सकती है।
  4. बाजार में मिलने वाले कई प्रकार के ओट्स में कृत्रिम पदार्थ और शुगर मिली होती है जिससे इसके स्वाद में इजाफ़ा किया जा सके और यह आसानी से आपके घर तक पहुँच जाए। लेकिन क्या आप जानते है ऐसे ओट्स डायबिटीज की संभावना को बढ़ा देते है।
  5. सही तरीके से ना पकाने या अद्ध कच्चा पकाकर खाने से आंत में अवरोधक पैदा होता है जिसकी वजह से पेट फूलना, पेट में दर्द, कब्ज की समस्या हो सकती है।
  6. कम पौष्टिकता वाले या सस्ते ओट्स अधिक खाने की स्थिति में कमजोरी, उदासी, हड्डियों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, मोतियाबिंद, थकान, चिंता, डिप्रेशन, आलस्य, अनिद्रा, नाखूनों का कम बढ़ना जैसी समस्या हो सकती है। इसलिए अच्छे ओट्स का चुनाव करे।
  7. ओट्स का अधिक सेवन करने की स्थति में इसके पोषक तत्व इंटेस्टाइन द्वारा ठीक से अवशोषित नहीं हो पाते। जिस वजह से पाचन क्रिया असंतुलित हो सकती है।

ओट्स में फाइबर प्रचुर होता है इसलिए इसे हजम करने के लिए पानी खूब पिए। दुनिया में जितनी भी खाने योग्य चीजें है अगर उनसे हजारों फायदे है तो कुछ नुकसान भी होते है। जरूरत है तो संतुलन की। किसी भी चीज की अधिकता परेशानी का कारण बनती ही है। कई बार शरीर में पहले से ही समस्या होती है और जानकारी के अभाव में लोगों को पता नहीं होता की क्या खाने से लाभ होगा और क्या खाने से हानि। आपकी उलझन को समझते हुए हम आपको यह बताना चाहते है ओट्स के नुकसान बहुत ज्यादा नहीं है। यह बहुत ही फायदेमंद है सेहत के लिए। क्योंकि यह हमारे शरीर के सभी अंगो का पूरा ख्याल रखता है। बस जरूरी है तो इसकी मात्रा पर ध्यान दें। शरीर को सभी तरह के पौष्टिक भोजन की आवश्यकता पड़ती है इसलिए सभी चीजों को संतुलित मात्रा में लेते रहे। किसी एक ही चीज पर निर्भर ना रहे।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। हमेशा अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“सेब का सिरका के फायदे”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें