ओमेगा-3 की कमी से होने वाले रोग

अगस्त 20, 2018

ओमेगा-3 फैटी एसिड हमारे शरीर के लिए आवश्यक होता है। अखरोट, अलसी, सूरजमुखी और सरसों के बीज, सोयाबीन, स्प्राउट्स, हरी बीन्स, शलजम, हरी पत्तेदार सब्जियां और स्ट्रॉबेरी, रसभरी जैसे फलों में ओमेगा-3 फैटी एसिड मौजूद होता है। इसके अलावा मूंगफली और गाय के दूध में भी ओमेगा-3 पाया जाता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड कॉन्जुगेटड लिनोलेक एसिड और गामा लिनोलेनिक एसिड जैसे कुछ फैट होते हैं। इनकी संतुलित मात्रा शरीर के लिए जरुरी होती है। इसकी जरुरत से ज्यादा मात्रा भी नुकसानदेह होती है और ओमेगा-3 की कमी भी शरीर पर कई तरह के दुष्प्रभाव डालती है। ऐसे में ओमेगा-3 फैटी एसिड्स की कमी से होने वाले रोगों के बारे में आपको भी जानना चाहिए। तो चलिए, आज जानते हैं ओमेगा-3 की कमी से होने वाले रोगों के बारे में–

हृदय रोग – ओमेगा-3 फैटी एसिड हार्ट अटैक के खतरे को काफी कम कर देता है क्योंकि इसका सेवन करने से धमनियां फैलने लगती है जिससे ब्लड फ्लो सही तरीके से हो पाता है और मेटाबॉलिज्म भी बेहतर बनता है जबकि इसकी कमी होने पर हार्ट अटैक का खतरा बढ़ सकता है।

अस्थमा – अस्थमा होने का एक प्रमुख कारण सूजन होना है और ओमेगा-3 फैटी एसिड का सेवन करने से सूजन कम होने लगती है जिससे अस्थमा में राहत मिलती है जबकि ओमेगा-3 की कमी होने पर अस्थमा रहने की आशंका बढ़ सकती है।

रयूमेटाइड आर्थराइटिस – EPA और DHA जैसे ओमेगा-3 की कमी होने पर हड्डियों में कठोरता बढ़ने लगती है और दर्द रहने लगता है।

ट्राइग्लिसराइड्स का स्तर बढ़ना – ट्राइग्लिसराइड्स रक्त में पायी जाने वाली वसा है जिसकी मात्रा बढ़ने से हृदय रोगों का खतरा बढ़ जाता है और ओमेगा-3 का सेवन करने से इसके स्तर को कम किया जा सकता है लेकिन ओमेगा-3 फैटी एसिड्स की कमी होने पर ट्राइग्लिसराइड्स का बढ़ा हुआ लेवल हार्ट प्रॉब्लम्स को बढ़ा सकता है।

अल्जाइमर रोग – ओमेगा-3 फैटी एसिड्स की कमी होने पर याद्दाश्त में कमी होने जैसी समस्या होने लगती है और अल्ज़ाइमर रोग होने का खतरा भी बढ़ सकता है जबकि ओमेगा-3 की पर्याप्त मात्रा लेने पर अल्जाइमर जैसा रोग ठीक भी हो सकता है।

डिप्रेशन – ओमेगा-3 फैटी एसिड्स का सेवन करने से अवसाद होने की सम्भावना कम हो जाती है जबकि इसकी कमी होने पर डिप्रेशन होने और बढ़ने का खतरा बढ़ सकता है।

दोस्तों, अब आप ओमेगा-3 फैटी एसिड्स के महत्त्व के बारे में जान चुके हैं और इसकी कमी से होने वाले रोगों से भी परिचित हो चुके हैं। ऐसे में ओमेगा-3 फैटी एसिड्स की संतुलित मात्रा को अपने आहार में शामिल कर लीजिये ताकि इससे होने वाले ढेरों फायदे आपको मिल सके और इसकी कमी से होने वाले रोग आपके शरीर से दूर ही रहें।

उम्मीद है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

हमने आपसे सिर्फ ज्ञानवर्धक जानकारी साझा की है। अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर ले। सदैव खुश रहे और स्वस्थ रहे।

“एंटीबायोटिक क्या होती हैं और ये हमारे शरीर पर कैसे काम करती हैं?”

शेयर करें