ओमेगा-3 के शाकाहारी स्रोत

सितम्बर 30, 2018

ओमेगा-3 एक पॉलीअनसैचुरेटेड फैट है जो शरीर के लिए बहुत फायदेमंद रहता है। इसका सेवन करने से हृदय सम्बन्धी रोगों का ख़तरा कम होता है, अल्ज़ाइमर, टाइप-2 डायबिटीज, कैंसर, डिमेंशिया और आँखों से जुड़ी समस्याओं से निजात पाने में सहयोग मिलता है। इसके अलावा ये लीवर का फैट कम करने, जोड़ों और हड्डियों को मजबूत करने और मस्तिष्क सम्बन्धी बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। ओमेगा-3 शाकाहार और मांसाहार दोनों में ही पाया जाता है। आइये, आज ओमेगा-3 के शाकाहारी स्रोतों के बारे में जानते हैं–

अखरोट – अखरोट ओमेगा-3 फैटी एसिड का एक बहुत अच्छा स्रोत है। ओमेगा-3 के अलावा अखरोट में मैंगनीज, कॉपर, फॉस्फोरस, मैग्नेशियम भी पाए जाते हैं।

अलसी के बीज – अलसी के बीज आसानी से ओमेगा-3 की जरुरत को पूरा कर सकते हैं। ये आसानी से उपलब्ध भी हो जाते हैं और इनमें प्रोटीन,फाइबर, मैग्नेशियम और विटामिन-ई भी मौजूद होता है।

ब्लूबेरी – ब्लूबेरी में ओमेगा-3 पाया जाता है। साथ ही एंटीऑक्सिडेंट्स, विटामिन्स और मिनरल भी होते हैं।

सोयाबीन – सोयाबीन में ओमेगा-3 फैटी एसिड के साथ-साथ ओमेगा-6 फैटी एसिड भी पाया जाता है। सोयाबीन फाइबर, प्रोटीन, विटामिन-के, फोलेट, पोटैशियम और मैग्नेशियम का भी अच्छा स्रोत होता है।

फूलगोभी – फूलगोभी में भी ओमेगा-3 पाया जाता है और इसमें पोटैशियम, मैग्नेशियम और नियासिन जैसे कई पोषक तत्व भी पाए जाते हैं।

कददु के बीज – शाकाहारी भोजन में कददु के बीज ओमेगा-3 का एक अच्छा स्रोत हैं जिससे शरीर को पर्याप्त मात्रा में ओमेगा-3 मिल सकता है।

बीन्स – बीन्स सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं और इनमें मौजूद पौष्टिक तत्वों में ओमेगा-3 भी शामिल होता है।

राई का तेल – राई में ओमेगा-3 के साथ ओमेगा-6 फैटी एसिड भी मौजूद होता है और इसमें सैचुरेटेड फैट कम मात्रा में होता है।

ओमेगा-3 की कमी से कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएँ हो सकती है इसलिए अपने आहार मे इसे शामिल ज़रूर करें। हमने आपसे सिर्फ ज्ञानवर्धक जानकारी साझा की है। ओमेगा-3 के शाकाहारी स्रोतों के बारे मे ज़्यादा जानकारी आप अपने आहार चिकित्सक से ज़रूर ले।

“सेब का सिरका के फायदे”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें