पैरों में सोना पहनना हिन्दू धर्म में गलत क्यों माना जाता है?

0

आइये जानते हैं पैरों में सोना पहनना हिन्दू धर्म में गलत क्यों माना जाता है। हिन्दू धर्म में गहने महिलाओं का श्रृंगार होते हैं और महिलाऐं सोने चांदी के आभूषणों से 16 श्रृंगार करती हैं।

यूँ तो आपने अक्सर देखा होगा की महिलाऐं पैरों में बिछिया और पायजेब पहनती हैं लेकिन अगर आपने कभी ध्यान दिया हो तो पैरों में पहने जाने वाले आभूषण कभी सोने के नहीं होते बल्कि वो किसी धातु या चांदी के होते हैं।

दरअसल हिन्दू धर्म के मुताबिक पैरों में सोना नहीं पहना जाता लेकिन क्या आपको इसके पीछे की वजह के बारे में पता है? आइये आपको बताते हैं धार्मिक और वैज्ञानिक कारणों के बारे में आखिर क्यों हिन्दू महिलाऐं पैरों में सोने के आभूषण नहीं पहनती।

पैरों में सोना पहनना हिन्दू धर्म में गलत क्यों माना जाता है?

धार्मिक कारण – हर धर्म के अपने अपने रीति रिवाज और मान्यताएं होती हैं जिन्हे वो अपने धर्म से जोड़कर देखते हैं। ऐसे में अगर हिन्दू धर्म की बात करें तो इसमें पैरों में सोना पहनना अशुभ मना जाता है।

दरअसल हिन्दू धर्म में सोना लक्ष्मी जी का प्रतीक होता है और हर शुभ कार्य में सोने को पूजा जाता है और ऐसे में ऐसा माना जाता है की अगर कोई पैरों में सोना पहनता है तो वह लक्ष्मी जी का अपमान होता है और उसके घर में कभी लक्ष्मी जी का वास नहीं होता और उसके जीवन में हमेशा निर्धनता रहती है।

वैज्ञानिक कारण – धार्मिक कारणों के अलावा इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी छुपे हैं और विज्ञान ये कहती है की सोने की तासीर गर्म होती है जबकि चांदी शीतल तासीर की होती है और स्वास्थ्य की दृष्टि से हमारा सिर ठंडा रहना चाहिए जबकि पैर गर्म।

मानव शरीर में सिर और पैर आपस में ऊर्जा का आदान प्रदान करते हैं और इसी कारण विज्ञान कहती है सिर पर सोने के आभूषण पहनने चाहिए ताकि उसकी ऊर्जा और गर्माहट पैरों तक जाये और पैरों में चांदी पहननी चाहिए ताकि चांदी की ठंडक सिर तक पहुंचे।

इसके अलावा स्वास्थ्य की दृष्टि से भी इसके कई वैज्ञानिक कारण है, दरअसल पैरों में चांदी की पायल और बिछिया पहनने से पीठ, घुटनों के दर्द, एड़ी और हिस्टीरिया रोगों से निजात मिलती है।

लेकिन अगर सिर और पैर दोनों में सोने के आभूषण पहने जाएँ तो इससे मस्तिष्क और पैर दोनों से एक समान की ऊर्जा का प्रवाह होता है और ऐसे में कई तरह के रोग होने की ज्यादा सम्भावना होती है।

इसलिए विज्ञान का मानना है की सिर में सोना और पैरों में चांदी के आभूषण पहनते चाहिए ताकि ऊर्जा का प्रवाह सही हो और शरीर कई रोगों से बच सके।

उम्मीद है जागरूक पर पैरों में सोना पहनना हिन्दू धर्म में गलत क्यों माना जाता है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिनचर्या कैसी होनी चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here