पंखे का आविष्कार किसने किया?

आइये जानते हैं पंखे का आविष्कार किसने किया? आज भले ही एयर कंडीशनर की डिमांड बहुत तेजी से बढ़ रही हो लेकिन पंखे का महत्त्व आज भी बरकरार है। क्या आप कल्पना कर सकते हैं उस समय की, जब पंखे की खोज ही नहीं हुयी थी और दुनिया ऐसे किसी उपकरण के बारे में जानती भी नहीं थी जो हवा फेंकता हो।

ऐसे में पंखे के आविष्कार के बारे में जानना रोचक हो सकता है इसलिए क्यों ना आज, पंखे के बारे में ही बात की जाये। तो चलिए, आज पंखे के आविष्कार के बारे में जानते हैं।

पंखे का आविष्कार किसने किया? 1

पंखे का आविष्कार किसने किया?

जिस पंखे का इस्तेमाल हम गर्मी से राहत पाने, हवा को बाहर निकालने और कूलिंग जैसे बहुत से जरुरी काम करने के लिए करते हैं, उस पंखे का इतिहास काफी पुराना है।

माना जाता है कि दुनिया का सबसे पहला पंखा एक जापानी भिक्षुक ने बनाया था जिसे खजूर के पत्तों से बुनकर तैयार किया गया और हाथ में लेकर हिलाने से पसीने सूखने के साथ ठंडी हवा भी मिलती थी। इस पंखे को भिक्षुक ने जापानी सम्राट को भेंट किया और तब से हाथ से चलाये जाने वाले पंखों की शुरुआत हो गयी।

भारत में इस तरह के पंखों का चलन लगभग 500 BCE से शुरू हुआ। इन पंखों को पौधों के रेशों से बनाया जाता था।
1837 में इंग्लैंड के William Fourness ने स्टीम से चलने वाला पंखा बनाया।

बिजली से चलने वाला पंखा बनाने का श्रेय अमेरिका के Schuyler Skaats Wheeler को जाता है जिन्होंने 1882 में ये ऐतिहासिक आविष्कार किया। दुनिया का पहला इलेक्ट्रिक सीलिंग फैन बनाने का श्रेय Philip Diehl को जाता है जिन्होंने 1882 में इलेक्ट्रिक सीलिंग फैन का आविष्कार किया।

इसके बाद धीरे-धीरे कई बदलावों से गुजरते हुए पंखा ना केवल हर शख्स की जरुरत बन गया बल्कि हर घर में अपनी जगह बनाने में कामयाब भी रहा।

उम्मीद है जागरूक पर पंखे का आविष्कार किसने किया कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल