प्लास्टिक बैग के नुकसान और विकल्प

जनवरी 10, 2018

प्लास्टिक के बैग का इस्तेमाल हर छोटे-बड़े सामान को रखने के लिए किया जाता रहा है। हर तरह के व्यापारी और ग्राहकों की पहली पसंद रहा है प्लास्टिक का बैग, जो हल्का और सस्ता होने के साथ-साथ काफी मजबूत भी होता है। इसी वजह से प्लास्टिक बैग पर कई बार रोक लगायी जाने के बाद भी, इन्हें पूरी तरह बाजार से बाहर निकाला नहीं जा सका है। हर साल दुनिया में करीब 500 बिलियन प्लास्टिक के बैग काम में लिए जाते हैं। ऐसे में इनसे होने वाले नुकसान का अंदाज़ा आप खुद लगा सकते हैं, और चौंकाने वाली बात ये है कि पूरी दुनिया में सबसे ज़्यादा प्लास्टिक बैग्स का इस्तेमाल भारत में किया जाता है।

ऐसे में अगर आप ये जान लें कि प्लास्टिक के ये मजबूत बैग, आपको और आपके पर्यावरण को कितना ज़्यादा नुकसान पहुंचा रहे हैं तो निश्चित तौर पर, इनके इस्तेमाल पर आप स्वयं रोक लगाने की कोशिश करेंगे।

तो चलिए, आज आपको बताते हैं कि प्लास्टिक बैग से क्या-क्या नुकसान हो रहे हैं-

पर्यावरण के लिए ख़तरा – प्लास्टिक बैग्स जमीन, हवा और पानी सबको दूषित कर रहे हैं। जमीन में प्लास्टिक बैग्स के मिलने से जमीन की उर्वरता नष्ट हो रही है और पानी में मिलकर प्लास्टिक बैग्स अंडरग्राउंड वाटर को दूषित और जहरीला बना रहे हैं। इतना ही नहीं, प्लास्टिक बैग्स को जलाने पर जो जहरीली गैसें निकलती हैं उन्होंने हवा को भी प्रदूषित और जहरीला बना दिया है।

plastic-bag1 प्लास्टिक बैग के नुकसान और विकल्प

प्लास्टिक बैग्स नॉन-बायोडिग्रेडेबल हैं – प्लास्टिक के बैग नॉन-बायोडिग्रेडेबल होते हैं यानी ये प्राकृतिक रूप से विघटित नहीं होते और इन्हें विघटित होकर ख़त्म होने में लगभग 1000 साल का लम्बा समय लग जाता है। ऐसे में पर्यावरण को कितना नुकसान पहुँच रहा होगा, ये आप भी समझ पा रहे होंगे।

plastic-bag प्लास्टिक बैग के नुकसान और विकल्प

जानवरों की मौत का कारण – प्लास्टिक बैग्स से होने वाले नुकसान से जानवर भी अछूते नहीं हैं। खाने की चीज़ों के साथ प्लास्टिक बैग भी निगल लेने के कारण बहुत से जानवर मर जाते हैं। गाय के अलावा डॉल्फिन्स, व्हेल्स, पेंगुइन्स और कछुए जैसे कई जीवों की मौत प्लास्टिक बैग के कारण होती है।

plastic-bag2 प्लास्टिक बैग के नुकसान और विकल्प

आने वाली पीढ़ियों के लिए परमाणु बम से भी ज़्यादा ख़तरनाक हैं प्लास्टिक बैग्स – साल 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताते हुए कहा था कि आने वाली पीढ़ियों के लिए, प्लास्टिक बैग्स के दुष्प्रभाव किसी परमाणु बम से भी ज्यादा ख़तरनाक साबित होंगे। इन प्लास्टिक बैग्स के ज़्यादा उपयोग से हमारे नदी, तालाब बर्बाद हो रहे हैं।

वास्तविकता भी यही है कि देखते ही देखते प्लास्टिक बैग्स के दुष्प्रभाव हमारे पूरे पर्यावरण और प्रकृति के संतुलन को बिगाड़ देंगे, जिसे संभाल पाना हमारे बस में नहीं रहेगा।

प्लास्टिक बैग्स से होने वाले नुकसान को जान लेने के बाद, आइये अब जानते हैं कि प्लास्टिक बैग्स के क्या विकल्प हो सकते हैं-

प्लास्टिक बैग के इस्तेमाल और इससे होने वाले नुकसान से पूरा विश्व हैरान है। प्लास्टिक बैग के विकल्प के रूप में कपड़े, जूट और कागज के बैग का विकल्प सामने आता है।

plastic-bag3 प्लास्टिक बैग के नुकसान और विकल्प

कागज के बैग का इस्तेमाल करना एक बेहतरीन विकल्प नहीं हो सकता क्योंकि ऐसे बैग मजबूत और टिकाऊ नहीं होते हैं और ये बैग नष्ट होने की प्रक्रिया में कार्बन पैदा करते हैं। इतना ही नहीं, इन कागज़ के बैग्स को बनाने के लिए लकड़ी की जरुरत होगी और लकड़ी के लिए पेड़ काटने होंगे, और पेड़ काटना किसी भी स्थिति में पर्यावरण के अनुकूल नहीं हो सकता, ये आप बखूबी जानते हैं।

इस मुश्किल का हल निकालने के लिए यूरोपीय आयोग ऐसे प्लास्टिक बैग शुरू करने पर विचार कर रहा है जो जैविक रूप से खुद समाप्त हो जाएँ ताकि पर्यावरण को किसी तरह की कोई हानि ना पहुंचे लेकिन मक्के से बनने वाले बैग नष्ट होते समय मीथेन गैस पैदा करते हैं जो ग्लोबल वार्मिंग के लिहाज से बिलकुल सही नहीं है। इसी प्रयास के चलते, ब्रिटेन की एक कंपनी ऐसे प्लास्टिक बैग बनाने का दावा करती है जो 18 महीनों में अपनेआप नष्ट हो सकता है।

इन सब प्रयासों के बीच, जब तक ऐसे प्लास्टिस बैग्स ना बन जाए, जो सस्ते और मजबूत होने के साथ इको-फ्रेंडली भी हो, तब तक कपड़े और जूट के बैग्स का इस्तेमाल ही सही विकल्प है।

लेकिन कपड़े और जूट के ये बैग मजबूत और टिकाऊ तो होते हैं लेकिन सस्ते नहीं होते हैं। ऐसे में प्लास्टिक बैग्स से होने वाले नुकसान और कपड़े और जूट के बैग इस्तेमाल करने को लेकर अगर थोड़ी जागरूकता लायी जाए तो इस समस्या को समय रहते रोकना संभव हो सकता है।

इसके लिए आपकी पहल की जरुरत है। उम्मीद है कि आप अपने पर्यावरण और दुनिया के लिए इतना सा योगदान देने के लिए ज़रूर तैयार होंगे।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“स्टेनलेस स्टील क्या है और कैसे बनता है स्टील”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें