पृथ्वी पर कुल कितना पानी है?

नवम्बर 26, 2018

जल ही जीवन है। ये बात तो आपने भी सुनी होगी और उम्मीद है कि इसका महत्व भी आप समझते होंगे क्योंकि पानी बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती और लगातार होने वाली पानी की कमी का संकट और ना बढ़े, इसके लिए जरुरी है कि सभी अपने स्तर पर जल संरक्षण के प्रयास करें। पानी के बिना एक सप्ताह से ज्यादा जीवित रह पाना संभव नहीं होता है। जल के महत्त्व और हमारे शरीर में जल की मात्रा जानने के बाद क्यों ना, ये जाने कि इस पृथ्वी पर कुल कितना पानी मौजूद है। तो चलिए, आज बात करते हैं पृथ्वी पर मौजूद जल की मात्रा के बारे में।

हमारी पृथ्वी का लगभग 71 प्रतिशत हिस्सा पानी से ढ़का हुआ है। 1.6 प्रतिशत पानी जमीन के नीचे मौजूद है और पानी का 0.001 प्रतिशत वाष्प और बादलों के रूप में है। पृथ्वी की सतह पर उपलब्ध पानी की मात्रा में से 97 प्रतिशत सागरों और महासागरों में है और पानी की इतनी अधिक मात्रा पीने योग्य ही नहीं है क्योंकि ये पानी नमकीन है।

हैरानी की बात ये है कि केवल 3 प्रतिशत पानी ही पीने योग्य है जिसमें से 2.4 प्रतिशत ग्लेशियरों और उत्तरी और दक्षिणी ध्रुवों पर जमा है। इसके बाद बचा 0.6 प्रतिशत पानी ही नदियों, तालाबों और झीलों में उपलब्ध है जिसे इस्तेमाल किया जा सकता है।

एक अनुमान की मानें तो पृथ्वी पर कुल 32 करोड़ 60 लाख खरब गैलन पानी है और हैरानी की बात ये है कि पानी की ये मात्रा कम या ज्यादा नहीं होती है बल्कि इतनी ही बनी रहती है क्योंकि सागरों का पानी वाष्प बनकर उड़ता है, बादल बनकर बरसता है और फिर से सागरों में जमा हो जाता है और ये चक्र यूहीं लगातार चलता रहता है।

दोस्तों, अब आप जान गए हैं कि पृथ्वी पर कुल कितना पानी है और पानी की इतनी अधिक मात्रा होने के बाद भी बहुत ही सीमित मात्रा उपयोग में लेने योग्य है। ऐसे में आप भी अपने स्तर पर पानी के महत्त्व को समझे और इस ओर जागरूकता को बढ़ाएं।

“आँख का वजन कितना होता है?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें