प्रोटीन का ज्यादा सेवन हो सकता है खतरनाक

आप जानते हैं कि हमारी हेल्दी डाइट में पर्याप्त प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स, फैट्स और विटामिन्स होते हैं लेकिन आपको ये भी मालूम है कि इनमें से हर चीज़ ज़रूरत के अनुसार ही होनी चाहिए, ना कम ना ज़्यादा। लेकिन प्रोटीन की ज़्यादा मात्रा लेते समय हम अक्सर इस बात को भूल जाते हैं कि प्रोटीन की ये ज्यादा मात्रा हमें नुकसान पंहुचा सकती है और ऐसा खासकर उस समय होता है जब हम पर फिटनेस का जादू चलता है। फिटनेस पसंद करने वाले और फिट रहने के लिए जिम जाने वाले लोगों के लिए प्रोटीन डाइट का ख़ासा महत्व होता है और वज़न को जल्दी से कम करने की इच्छा रखने वाले लोग भी अपने मेटाबोलिज्म को कण्ट्रोल में रखने के लिए अपनी डाइट में प्रोटीन की मात्रा बढ़ा देते हैं। लेकिन ऐसा करके आप अपनी बॉडी को फिट दिखाने में शायद सफल हो भी जाएँ लेकिन प्रोटीन का ज्यादा सेवन आपकी हेल्थ को नुकसान भी पंहुचा सकती है।

हमारे शरीर के लिए प्रोटीन बेहद ज़रूरी है, इसमें कोई संदेह नहीं है। प्रोटीन शरीर का निर्माण करता है और क्षतिग्रस्त अंगों की मरम्मत भी करता है, इसके सेवन से ही इम्यून सिस्टम और मांसपेशियां मजबूत बनती हैं और हार्ट और फेफड़ें स्वस्थ बने रहते हैं। हाई प्रोटीन डाइट तुरंत लगने वाली भूख को शांत कर देती है लेकिन प्रोटीन की यही ज़्यादा मात्रा शरीर को क्या-क्या नुकसान पहुँचाती है, आइये आज इसी बारे में बात करते हैं –

हड्डियां हो जाती हैं कमज़ोर – हड्डियों की सेहत और प्रोटीन के सेवन का सीधा सम्बन्ध होता है। अगर लम्बे समय तक हाई प्रोटीन डाइट ली जाती है तो शरीर को शक्ति तो मिल जाती है लेकिन हड्डियां कमज़ोर होने लगती है क्योंकि उनके लिए ज़रूरी कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा उन्हें नहीं मिल पाती है।

किडनी को पहुँचता है नुकसान – प्रोटीन का ज्यादा सेवन करने से किडनी पर ज़्यादा दबाव पड़ने लगता है। जब हम प्रोटीन को सामान्य मात्रा में लेते हैं तो इससे बनने वाली नाइट्रोजन, यूरिन के ज़रिये शरीर से बाहर निकाल दी जाती है लेकिन प्रोटीन का ज़्यादा सेवन करने से नाइट्रोजन की मात्रा भी ज़्यादा बनती है जिसे शरीर से बाहर निकालने में किडनी को ज़्यादा मेहनत करनी पड़ती है जिससे किडनी पर ज्यादा दबाव पड़ता है और इस कारण कई बार किडनी खराब भी हो सकती है।

कोलेस्ट्रॉल और फैट का बढ़ना – लम्बे समय तक प्रोटीन का ज्यादा सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल और सैचुरेटेड फैट की मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण हृदय रोगों का खतरा काफी बढ़ जाता है।

यूरिया एसिड का बढ़ना – एक निश्चित उम्र के बाद भी लम्बे समय तक हाई प्रोटीन डायट लेते रहने से यूरिया एसिड की मात्रा बढ़ जाती है और यूरिन में कैल्शियम की कम मात्रा निकलने लगती है और इसकी ज़्यादा मात्रा किडनी में जमा होती जाती है जो पथरी का रूप ले लेती है।

डिहाइड्रेशन की समस्या – शरीर को दी जाने वाली कुल कैलोरी में 30% से ज़्यादा प्रोटीन डाइट का भाग रखने से शरीर में प्रोटीन की मात्रा बढ़ जाती है जिससे शरीर में विषैले पदार्थ कीटोन्स की मात्रा भी बढ़ जाती है जिसे शरीर से बाहर निकालने में, शरीर से ज़्यादा मात्रा में पानी भी बाहर निकल जाता है और डिहाइड्रेशन की इस स्थिति में चक्कर आना, कमजोरी महसूस होना और साँसों में दुर्गन्ध आने जैसी शिकायतें होने लगती हैं।

पोषक तत्वों की कमी हो जाना – प्रोटीन डाइट को फॉलो करते-करते अक्सर हम शरीर के लिए ज़रूरी विटामिन्स, मिनरल्स को लेना भूल जाते हैं जिसकी वजह से शरीर में इनकी कमी हो जाती है और फाइबर की मात्रा भी कम मिलने से कब्ज की समस्या बढ़ जाती है।

कैंसर का ख़तरा – प्रोटीन की ज़्यादा ली गयी मात्रा कैंसर के खतरे को कई गुना तक बढ़ा देती है क्योंकि प्रोटीन कैंसर कोशिकाओं को ज़्यादा विकसित करता है और शरीर में कार्बोहाइड्रेट्स और फाइबर की कमी होने से कैंसर की सम्भावना और भी बढ़ जाती है।

अब तो आपने जान लिया है कि प्रोटीन का ज्यादा सेवन से आपके शरीर को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है इसलिए अभी से अपनी डाइट पर नज़र डालिये और इसमें प्रोटीन की मात्रा को संतुलित कर लीजिये क्योंकि हर उम्र और शरीर के वजन के अनुसार सब के लिए प्रोटीन की ज़रूरी मात्रा अलग-अलग होती है, साथ ही ये भी देखिये कि बाकी के पोषक तत्व भी आपकी डाइट में शामिल है ना।

“जानिए क्यों जरूरी है हर रोज प्रोटीन की खुराक”
“जानिए किन-किन फ़ूड में होता है सबसे ज्यादा प्रोटीन”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।