चावल खरीदते समय पुराना चावल क्यों लेते हैं?

जब भी स्वादिष्ट व्यंजनों की बात होती है तो चावल का शामिल होना भी जरुरी हो जाता है क्योंकि चावल का ज़ायका ही इतना कमाल होता है कि हर किसी को चावल पसंद आते हैं। ऐसे में क्यों ना, आज चावल की बात की जाए। तो चलिए, आज जानते हैं चावल खरीदते समय पुराना चावल क्यों लेते हैं।

Visit Jagruk YouTube Channel

दुनिया में मौजूद सबसे पुराना फूड चावल है जो आज भी पूरी दुनिया में इतने बड़े स्तर पर इस्तेमाल किया जाता है। चावल तीन आकार के होते हैं – छोटे, मध्यम और लम्बे।

चावल के प्रकार-

सफेद चावल – भारत में सबसे ज्यादा खाये जाने वाले ये चावल,पकने में कम समय लेते हैं और जल्दी पच जाते हैं। ये चावल खाने से डायरिया, पेचिश और कोलाइटिस जैसे पेट सम्बन्धी रोगों में राहत मिलती है।

ब्राउन राइस – चावल का ये प्रकार कम स्टार्च और कम कैलोरी वाला होता है इसलिए इसे आजकल ज्यादा इस्तेमाल किया जाने लगा है। इस राइस में मौजूद नेचुरल ऑयल कोलेस्ट्रॉल के बढ़े हुए लेवल को संतुलित करने में मदद करता है।

लाल चावल – ऐसे चावलों में आयरन की मात्रा भरपूर होती है इसलिए इनका रंग लाल हो जाता है। इन चावलों को खाने से शरीर में इन्सुलिन और ब्लड शुगर का लेवल संतुलित रहता है।

उसना चावल – उसना चावल या पक्का चावल में कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, पोटैशियम जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं और ये डायबिटीज के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद भी रहते हैं।

चमेली चावल – बासमती चावल से थोड़ी कम लम्बाई वाले चमेली चावल की मोटाई बासमती चावल से थोड़ी ज्यादा होती है। ऐसे लम्बे और खुशबूदार चावल पकने के बाद थोड़े चिपचिपे हो जाते हैं।

बासमती चावल – बासमती चावल अपनी खुशबू और स्वाद के लिए जाने जाते हैं। ये लम्बे और खुशबूदार तो होते ही हैं, साथ ही पकने पर खुले-खुले और स्वादिष्ट भी बनते हैं।

इसकी खुशबू का कारण इसमें मौजूद अरोमा कम्पाउंड 2-एसीटिल-1-पायरोलिन होता है जो चावल की बाकी किस्मों की तुलना में बासमती चावल में 12 गुना ज्यादा पाया जाता है।

चावल से जुड़ी एक ख़ास बात ये है कि चावल जितना पुराना होगा, उसमें उतना ही ज्यादा स्वाद होगा और ऐसा ऐज किया हुआ चावल बनने पर भी खुला-खुला बनेगा।

पुराने चावल एजिंग प्रोसेस से गुजरते हैं जिससे चावलों को परफेक्ट लम्बाई और स्वाद मिलता है। एजिंग से चावल में मौजूद नमी भी कम हो जाती है और इसके अरोमा में बढ़ोतरी होती है इसलिए लोग चावल खरीदते समय लम्बे समय तक एज किये हुए चावल की ही मांग करते हैं।

“आँख का वजन कितना होता है?”