आइये जानते हैं क्वांटम सिद्धांत क्या है। क्वांटम सिद्धांत पदार्थ द्वारा ऊर्जा के उत्सर्जन (emission), अवशोषण (absorption) और कणों की गति से सम्बंधित सिद्धांत है। क्वांटम सिद्धांत 20 वीं शताब्दी का सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांत था क्योंकि इस थ्योरी ने रेडियोधर्मिता और प्रतिपदार्थ (Antimatter) जैसी प्रक्रियाओं की स्पष्ट व्याख्या की।

ये सिद्धांत सूक्ष्म स्तर पर प्रकाश और कणों के व्यवहार की व्याख्या करने में भी सफल रहा। पहले के सिद्धांतों के अनुसार, परमाणु किसी भी आवृत्ति (frequency) पर कंपन कर सकते थे। इस गलत अवधारणा की वजह से वैज्ञानिकों ने यह गलत निष्कर्ष निकाला कि परमाणु अनंत मात्रा की ऊर्जा का उत्सर्जन कर सकते हैं।

तब इसे अल्ट्रावायलेट का नाम दिया गया था लेकिन सन 1900 में मैक्स प्लांक ने इस समस्या का हल ढूंढा और बताया कि परमाणु केवल विशिष्ट या क्वांटीकृत आवृत्तियों पर ही कम्पन करते हैं।

क्वांटम सिद्धांत क्या है? 1

क्वांटम सिद्धांत का विकास

  • सन् 1900 में प्लांक ने धारणा दी कि ऊर्जा अलग-अलग यूनिट्स या क्वांटा से बनी है।
  • सन् 1905 में अल्बर्ट आइंस्टीन ने सिद्धांत दिया, जिसके अनुसार न केवल ऊर्जा बल्कि विकिरण भी इसी तरीके से क्वांटीकृत होती है।
  • सन् 1924 में लुई दी ब्रोग्ली ने प्रस्ताव दिया कि ऊर्जा और पदार्थ के व्यवहार में कोई मौलिक अंतर नहीं है। एटॉमिक और सब एटॉमिक स्तर पर पदार्थ या तो कणों की तरह या तरंगों की तरह व्यवहार कर सकते हैं।
  • सन् 1927 में हाइजेनबर्ग ने बताया कि किसी गतिशील कण की स्थिति और संवेग का एक साथ यथार्थ रूप से निर्धारण संभव नहीं है। अगर स्थिति का निर्धारण कर लिया जाए तो संवेग में अनिश्चितता रहेगी और अगर संवेग का निर्धारण कर लिया जाए तो स्थिति में अनिश्चितता रहेगी। इसे हाइजेनबर्ग का अनिश्चितता सिद्धांत कहा गया।

क्वांटम सिद्धांत के अनुप्रयोग – आज बहुत से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में क्वांटम यांत्रिकी का उपयोग किया जाता है जैसे लेजर, ट्रांजिस्टर, इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप और एमआरआई (चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग)।

इसके अलावा क्वांटम कंप्यूटर बनाने के प्रयास भी किये जा रहे हैं ताकि काम करने की गति को कई गुना बढ़ाया जा सके और क्वांटम टेलीपोर्टेशन पर भी रिसर्च किया जा रहा है जो मनचाही दूरी पर क्वांटम जानकारी संचारित करने की तकनीकों से सम्बंधित है।

उम्मीद है जागरूक पर क्वांटम सिद्धांत क्या है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?

जागरूक यूट्यूब चैनल