आइये जानते हैं रासायनिक खाद क्या है। खेती में इस्तेमाल होने वाली खाद की भूमिका भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है जो अगर हार्मफुल केमिकल्स युक्त रासायनिक खाद हो तो सेहत को नुकसान पहुंचना तय है जबकि प्राकृतिक खाद का इस्तेमाल पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने में सहायक होगा।

जैविक खाद के बारे में आप जरूर जानते होंगे जिसमें रासायनिक पदार्थों का इस्तेमाल करने की बजाये कम्पोस्ट, हरी खाद, गोबर खाद और बायो एजेंट का उपयोग किया जाता है जिससे भूमि की उर्वरता भी बढ़ती है, पर्यावरण भी सुरक्षित रहता है और कृषि उत्पादों की गुणवत्ता भी बढ़ती है।

रासायनिक खाद क्या है? 1

लेकिन लाभ कमाने के लिए कृषि के आसान तरीकों को अपनाकर ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाने की सोच ने रासायनिक खाद के प्रयोग को बहुत बढ़ा दिया है जिसके साइड इफेक्ट भी अब तेजी से दिखाई देने लगे हैं।

अच्छी सेहत के लिए अच्छा आहार होना जरुरी होता है और पौष्टिक आहार के लिए फल-सब्जियों को उगाने का तरीका पोषण से युक्त होना जरुरी है यानी हमारी सेहत बहुत हद तक खेती के प्रकार पर निर्भर करती है।

रासायनिक खाद क्या है? 2

अगर फल सब्जियों और अनाज को उगाने में सुरक्षित और पोषणयुक्त विधियां इस्तेमाल हों तो हम तक बेहतर और सुरक्षित आहार पहुंचेगा और अगर असुरक्षित और नुकसानदेह तरीकों से खाद्य पदार्थों को उगाया जाए तो हमारे स्वास्थ्य पर खतरा मंडराना तय है।ऐसे में जागरूक पर आज रासायनिक खाद के बारे में जानना बेहतर होगा।

रासायनिक खाद क्या है?

रासायनिक खाद खेती में उपज को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल होने वाले ऐसे रसायन होते हैं जिन्हें पेड़-पौधों की वृद्धि में सहायता के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ये उर्वरक पानी में जल्दी घुल जाते हैं और इन्हें मिट्टी में या पत्तियों पर छिड़क दिया जाता है और पत्तियों द्वारा इन उर्वरकों को अवशोषित कर लिया जाता है।

ये उर्वरक और रासायनिक खाद पौधों के लिए आवश्यक तत्वों की तुरंत पूर्ति तो कर देते हैं लेकिन इनसे बहुत से नुकसान भी होते हैं। ये केमिकल्स लम्बे समय तक मिट्टी में बने नहीं रहते हैं और सिंचाई के बाद पानी के साथ जमीन के नीचे के जल तक पहुंचकर उसे दूषित कर देते हैं। इसके अलावा मिट्टी में मौजूद जीवाणुओं और सूक्ष्मजीवों के लिए भी ये घातक सिद्ध होती है।

भू-जल में रासायनिक खाद मिलने से स्वास्थ्य सम्बन्धी गंभीर बीमारियां होने लगती हैं। इसके इस्तेमाल से जमीन की उर्वरा शक्ति खत्म हो जाती है और किसानों के मित्र केंचुएं और लाभदायक कीड़े भी मर जाते हैं।

रासायनिक खाद से होने वाले इतने गंभीर परिणामों की वजह से ही अब सरकार द्वारा किसानों को जैविक खाद के इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जा रहा है और किसानों में जागरूकता लायी जा रही है ताकि रासायनिक खाद के असीमित इस्तेमाल से होने वाले नुकसान को रोका जा सके और पर्यावरण और जीव-जंतुओं के स्वास्थ्य को सुरक्षित किया जा सके।

उम्मीद है रासायनिक खाद क्या है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

“पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?”

जागरूक यूट्यूब चैनल