आइये जानते हैं रेंट एग्रीमेंट 11 महीने का ही क्यों होता है। अपने घर की चाहत सबको होती है लेकिन हर कोई अपना घर बनाने में सक्षम नहीं होता और इसलिए बहुत से लोग मकान को किराये पर लेते हैं।

लेकिन ये मकान उनका नहीं होता है बल्कि किसी और की प्रॉपर्टी होता है इसलिए मकान किराये पर देने से पहले कुछ शर्तों और कायदों को भी समझना होता है। इसी से जुड़ा एक बहुत जरुरी एग्रीमेंट होता है रेंट एग्रीमेंट, जिसके बारे में आपको भी जरूर जानना चाहिए।

क्यों ना आज, इस रेंट एग्रीमेंट के बारे में जाना जाए। तो चलिए, आज बात करते हैं रेंट एग्रीमेंट की और जानते हैं रेंट एग्रीमेंट 11 महीने का ही क्यों होता है।

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने का ही क्यों होता है? 1

रेंट एग्रीमेंट 11 महीने का ही क्यों होता है?

रेंट एग्रीमेंट को लीज एग्रीमेंट भी कहा जाता है। ये मकान के मालिक और किरायेदार के बीच एक लिखित एग्रीमेन्ट होता है जिसमें कुछ शर्तें लिखी होती हैं जैसे मकान का एड्रेस, मकान का साइज, महीने का किराया, सिक्योरिटी डिपॉजिट और किराये पर दी जाने वाली प्रॉपर्टी को काम में लेने का पर्पस।

इस एग्रीमेंट की सभी शर्तों से सहमत होकर एक बार साइन करने के बाद किसी तरह का बदलाव नहीं किया जा सकता है। इस रेंट एग्रीमेंट को खत्म करने की भी शर्त होती है यानी रेंट एग्रीमेंट केवल 11 महीने का रखा जाता है।

रेंट एग्रीमेन्ट 11 महीने का रखने की वजह होती है स्टाम्प ड्यूटी का भुगतान करने से खुद का बचाव करना क्योंकि रजिस्ट्रेशन एक्ट 1908 के अनुसार, अगर लीज एग्रीमेंट 12 महीने से ज्यादा का हो जाएगा तो रेंट एग्रीमेंट का रजिस्ट्रेशन करना जरुरी है।

जब किसी लीज एग्रीमेंट का रजिस्ट्रेशन करवाया जाता है तो उस पर रजिस्ट्रेशन फीस और स्टाम्प ड्यूटी की फीस भी लगती है। ऐसे में रेंट एग्रीमेंट को 11 महीने का ही रखा जाता है।

रेंट एग्रीमेंट साइन करने से पहले ये बातें एकदम स्पष्ट होनी चाहिए-

  • किराया कितने समय बाद बढ़ेगा
  • बिजली, पानी और घर से जुड़े टैक्स कौन देगा
  • रेंट कण्ट्रोल एक्ट की जानकारी भी होनी चाहिए

ये एक्ट किरायेदार और मकान मालिक के सिविल राइट्स की रक्षा करता है। इस एक्ट का फायदा तब मिलता है जब किराया 3500 रुपए प्रतिमाह या उससे कम हो लेकिन अगर किराया 3500 रुपए से ज्यादा हो तो किसी तरह का विवाद होने पर कोर्ट की मदद लेनी पड़ सकती है।

उम्मीद है जागरूक पर रेंट एग्रीमेंट 11 महीने का ही क्यों होता है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल