साबूदाना कैसे बनता है?

साबूदाना से बनने वाले पापड़, खीर और खिचड़ी जैसे स्वादिष्ट व्यंजनों का लुत्फ़ आपने भी ज़रूर उठाया होगा और व्रत-उपवास में भी इसे बहुत चाव से खाया भी होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मोती जैसे दिखने वाले ये साबूदाने आख़िर बनते कैसे हैं? ऐसे में चलिए, आज आपको बताते हैं कि साबूदाना कैसे बनता है।

साबूदाना एक खाद्य पदार्थ है जो छोटे-छोटे मोतियों की तरह सफेद और गोल होते हैं। इसे सागो पाम नामक पेड़ के तने के गूदे से बनाया जाता है। सागो पाम ताड़ की तरह का एक पौधा है जो मूलरूप से पूर्वी अफ्रीका का पौधा है। इस पेड़ का तना मोटा हो जाता है और इसके बीच के हिस्से को पीसकर पाउडर बनाया जाता है। इसके बाद इस पाउडर को छानकर गर्म किया जाता है जिससे दाने बन सकें।

sago साबूदाना कैसे बनता है?

भारत में साबूदाने का उत्पादन सबसे पहले तमिलनाडु के सेलम में हुआ था। ये साबूदाना जल्दी पचने वाला होने के अलावा हल्का और पौष्टिक भी होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट काफी मात्रा में पाया जाता है और कैल्शियम और विटामिन-सी की कुछ मात्रा भी मौजूद होती है।

भारत में साबूदाना बनाने के लिए कसावा की जड़ों के गूदे का इस्तेमाल किया जाता है जो शकरकंदी की जड़ों जैसी होती है। इस गूदे को बड़े-बड़े बर्तनों में निकालकर आठ-दस दिन के लिए रखा जाता है और रोज़ाना इसमें पानी डाला जाता है जिससे इसमें सफ़ेद रंग की बहुत सारी लम्बी लम्बी लटें पड़ जाती हैं। इसके बाद इन बड़े-बड़े बर्तनों में कुछ लोग उतरकर, पैरों से इसे रौंधते हैं और रौंधने की इस प्रक्रिया में लटें मर जाती हैं।

इस प्रक्रिया को 4-6 महीने तक बार-बार चलाया जाता है। उसके बाद बनने वाले मावे को निकालकर मशीनों में डाल दिया जाता है और इस तरह साबूदाना प्राप्त होता है, जिसे सुखाकर ग्लूकोज़ और स्टार्च से बने पाउडर की पालिश की जाती है और इस तरह सफेद मोतियों से दिखने वाले साबूदाने बाजार में आने के लिए तैयार हो जाते हैं।

sago2 साबूदाना कैसे बनता है?

साबूदाना बनाने का ये तरीका किसी भी तरह से साफ-सुथरा नहीं है और इसे बनाने में सफाई को बिलकुल भी महत्व नहीं दिया गया है। ऐसे में ये तय कर पाना मुश्किल है कि साबूदाने का सेवन व्रत-उपवास के दिनों में किया जाना चाहिए या नहीं और इसे बनाने की विधि जानने के बाद आप भी यही सोच रहे होंगे कि साबूदाने को खाना चाहिये या नहीं। अब आप जान चुके हैं कि साबूदाना कैसे बनता है और आप तक कैसे पहुँचता हैं, अब इसे खाने या ना खाने से जुड़ा चुनाव आपको करना है।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“मैदा कैसे बनता है और मैदा खाने के नुकसान”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment