विश्व का सबसे प्राचीन ग्रन्थ कौनसा है?

भारत के प्राचीन ग्रंथों के नाम शायद आप जानते हो लेकिन क्या आपको ये पता है कि विश्व का सबसे प्राचीन ग्रन्थ कौनसा है? ख़ास बात ये है कि विश्व का प्राचीनतम ग्रन्थ भारत की ही देन है और उस ग्रन्थ का नाम है ऋग्वेद, जो पूरे विश्व की प्राचीनतम रचना है।

ऐसे में आप भी इस महान ग्रन्थ के बारे में जानना चाहते होंगे इसलिए क्यों ना आज इसी के बारे में बात करें। तो चलिए, आज आपको बताते हैं सबसे प्राचीन ग्रन्थ ऋग्वेद के बारे में।

विश्व का सबसे प्राचीन ग्रन्थ कौनसा है? 1

विश्व का सबसे प्राचीन ग्रन्थ कौनसा है?

ऋग्वेद हिन्दू धर्म यानी सनातन धर्म का स्रोत है। ऋग्वेद की रचना 1500 से 1000 ई. पू. के बीच मानी जाती है। ऋग्वेद और ईरानी ग्रथ ‘जेंद अवेस्ता’ में समानता पायी जाती है। दुनिया के सभी इतिहासकार इस ग्रन्थ को हिन्द-यूरोपीय भाषा परिवार की सबसे पहली रचना मानते हैं।

ऋग्वेद में देवताओं की स्तुति से जुड़ी ऋचाएं और मन्त्र हैं। इसमें 1028 सूक्त हैं जिनमें देवताओं की स्तुति की गयी है और कुल 10,580 ऋचाएँ हैं। वेद मन्त्रों के समूह सूक्त कहलाते हैं। ऋक संहिता में 10 मंडल हैं। ऋग्वेद में देवताओं की स्तुति करने वाले स्रोत अधिकता में है।

ऋग्वेद के 10 मंडलों में कुछ मंडल बड़े हैं जबकि कुछ मंडल छोटे भी हैं। इसके प्रथम और अंतिम मंडल समान रूप से बड़े हैं। उनमें 191 सूक्त हैं। दूसरे मंडल से सातवें मंडल तक का अंश ऋग्वेद का हृदय कहलाता है क्योंकि ये अंश ऋग्वेद का श्रेष्ठ भाग है। आठवें मंडल और प्रथम मंडल के प्रारंभिक 50 सूक्तों में समानता है।

ऋग्वेद में दो प्रकार के विभाग हैं- अष्टक क्रम और मंडलक्रम

ऋग्वेद के सूक्तों की स्त्री रचयिताओं में लोपामुद्रा, घोषा, अपाला, विश्वरा, सिकता, शचीपौलोमी और कक्षावृत्ति प्रमुख थी और पुरुष रचयिताओं में गृत्समद, विश्वामित्र, वामदेव, अत्रि, भारद्वाज और वसिष्ठ प्रमुख थे।

इस ग्रन्थ में 33 देवी देवताओं का वर्णन है और इंद्र को सबसे शक्तिशाली देवता माना गया है। इस वेद में बहुदेववाद, एकेश्वरवाद और एकात्मवाद का उल्लेख किया गया है। ऋग्वेद में 25 नदियों का वर्णन है जिनमें सिंधु नदी का वर्णन सबसे ज्यादा है और सबसे पवित्र नदी सरस्वती को माना गया है।

उम्मीद है जागरूक पर विश्व का सबसे प्राचीन ग्रन्थ कौनसा है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल