आइये जानते हैं समाचार पत्र का महत्व। आज भी समाचार पत्र के बिना सुबह की शुरुआत नहीं हो पाती है क्योंकि सुबह उठते ही देश -दुनिया और आसपास घटने वाली ख़बरों की जानकारी हमें समाचार पत्रों से ही मिलती है।

एक दौर ऐसा था जब समाचार पत्र की शुरुआत नहीं हुयी थी। उस समय लोगों के लिए आसपास और दुनिया भर की खबरें आसानी से पंहुचा नहीं करती थी लेकिन जब से समाचार पत्र की शुरुआत हुयी, तब से ऐसा लगने लगा जैसे दुनियाभर की घटनाएं हमारे आसपास ही घटित हो रही हैं।

ऐसे में क्यों ना, आज जाने कि समाचार पत्र का हमारे लिए क्या महत्त्व है। तो चलिए, आज जानते हैं समाचार पत्र के महत्व के बारे में।

समाचार पत्र का महत्व 1

समाचार पत्र का महत्व

समाचार पत्र जनसंचार का एक प्रभावी और सशक्त माध्यम है जिसकी निष्पक्षता के कारण ही समाचार पत्र जनता के बीच विश्वास अर्जित कर पाए हैं।

यही कारण है कि आज हर घर में समाचार पत्र पढ़े जाते हैं और सूचना के इस माध्यम पर किसी एक एजेंसी या कंपनी का एकाधिकार नहीं है बल्कि बहुत से समाचार पत्र अपने-अपने स्तर पर काम करके जनता तक सही और सटीक जानकारी लगातार पहुंचाते रहते हैं।

समाचार पत्र का कार्य लोकमत का निर्माण करना, सूचना का प्रसार करना और भ्रष्टाचार और घोटालों का पर्दाफाश करके नागरिकों को सच्चाई दिखाना होता है।

सोलहवीं शताब्दी में जब प्रिंटिंग प्रेस की शुरुआत हुयी तब उसी के साथ समाचार पत्रों की शुरुआत भी हो गयी और उन्नीसवीं शताब्दी आने तक इसका महत्व बढ़ गया।

समाचार पत्र कई प्रकार के होते हैं- त्रैमासिक, मासिक, पाक्षिक, साप्ताहिक और दैनिक।

स्वतंत्रता आन्दोलनों में भी समाचार पत्रों की सक्रिय भूमिका रही है। आजादी के लिए संघर्ष कर रहे देश में जब समाचार पत्रों में क्रांतिकारियों के जोश से भरे लेख छपे तो जनता में आजादी के प्रति जज़्बा बुलंद हो गया।

बहुत से समाचार पत्रों ने भी आजादी की राह पर चलने के लिए नागरिकों को उत्साहित किया और देश की आजादी में समाचार पत्रों की बहुत बड़ी भूमिका साबित हुयी।

देश-विदेश से जुड़ी खास जानकारियां देने के अलावा समाचार पत्र मनोरंजन से जुड़ी सामग्री भी उपलब्ध करवाते हैं जिनमें चुटकुले, कहानियां, कवितायें, स्वादिष्ट व्यंजनों की रेसिपी और फिल्मी जगत से जुड़ी ख़बरें शामिल होती हैं।

इसके अलावा खेल जगत से जुड़ी खास जानकारियां भी समाचार पत्र से प्राप्त की जा सकती है।

समाचार पत्र ऐसा वैचारिक मंच भी प्रदान करते हैं जिसके जरिये नागरिक किसी ज्वलंत मुद्दे पर अपने विचार प्रस्तुत कर सकते हैं और विशेषज्ञों के सुझाव भी जान सकते हैं।

देश की आजादी का काल हो या इंटरनेट का समय हो, समाचार पत्रों का महत्त्व तब भी बहुत अधिक था और आज भी बरकरार है।

उम्मीद है जागरूक पर समाचार पत्र का महत्व कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल