जानिए आखिर समय से पहले बाल सफ़ेद क्यों हो जाते है ?

596

लम्बे, काले, घने और मजबूत बालों का अरमान हम सभी को होता है और ऐसे बाल सभी को हमारी तरफ आकर्षित भी करते है और शरीर की सुंदरता में इज़ाफ़ा भी करते है। बालों का रंग अलग अलग मौसम के अनुसार बदला हुआ होना एक अलग बात है जैसे किसी देश के मौसम के अनुसार काले तो कहीं सुनहरे बाल। उम्र बढ़ने के साथ शरीर में होने वाले बदलावों में एक बदलाव बालों का सफ़ेद होना भी होता है जो 40 की उम्र आने के साथ साथ बढ़ता जाता है लेकिन आजकल के बदले जीवन स्तर ने इस उम्र को काफी कम कर दिया है। आज युवा वर्ग और बच्चों में भी बाल सफ़ेद होने की समस्या बढ़ती जा रही है जो तनाव को भी बढाती जा रही है। ऐसे में ये जानना जरुरी हो जाता है कि आखिर किन कारणों से बालों का रंग समय से पहले ही सफ़ेद हो रहा है। तो चलिए, आज आपको बताते है बालों के सफ़ेद होने के कारण।

बाल सफ़ेद होने के कारण

मेलेनिन
हमारे बालों में मेलेनिन रंजक पाया जाता है जो बालों का रंग काला बनाये रखता है। उम्र बढ़ने के साथ मेलेनिन का बनना कम होता जाता है और बाल सफ़ेद होने लगते है जो एक प्राकृतिक क्रिया है लेकिन भोजन में पौष्टिक तत्व और विटामिन्स की कमी होने से कम उम्र में ही मेलेनिन का निर्माण बाधित हो जाता है जिसके कारण बाल सफ़ेद होने लगते है।

विटामिन
विटामिन बी 12 का होना बालों के काले रंग के लिए जरुरी होता है जो दूध और दूध से बने उत्पादों के अलावा मांस और मछली में भी पाया जाता है। अगर आपके भोजन में विटामिन बी 12 नहीं है तो ये बालों का रंग सफ़ेद करने के लिए उत्तरदायी हो सकता है।

आहार
विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर भोजन आपके बालों को काला बनाये रखने में मददगार साबित होता है लेकिन जंक फूड और ज्यादा तला भूना खाना युवाओं में सफ़ेद बालों का कारण बन गया है।

आनुवंशिकता
बालों का असमय सफ़ेद होना जीन्स पर भी निर्भर करता है यानि अगर आपके माता या पिता में से किसी के भी बाल कम उम्र में सफ़ेद होने शुरू हो गये थे तो आपके बालों में भी मेलेनिन की मात्रा कम होने की सम्भावना रहती है जिससे बाल जल्दी सफ़ेद हो सकते है।

थाइरॉइड
हमारे शरीर में स्थित थाइरॉइड ग्रंथि से निकलने वाला हॉर्मोन जब कम मात्रा में बनता है तो इससे भी बाल सफ़ेद होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

सौन्दर्य प्रसाधन सामग्री
बालों को मजबूत और चमकदार बनाये रखने के लिए हम कई प्रकार की क्रीम, जेल, कलर, शैम्पू और कंडीशनर्स का इस्तेमाल बिना सोचे समझे करने लगते है और इनमें मौजूद हानिकारक रसायन बालों को सफ़ेद करने के साथ साथ बेजान और कमज़ोर भी बना देते है।

प्रदूषण
प्रदूषण चाहे हवा का हो या पानी का, हर तरीके से हमारे स्वास्थ्य के लिए घातक होता है। ख़ासकर वायु प्रदूषण में लम्बे समय तक रहने से हवा में मौजूद रसायन आपके बालों को समय से पहले सफ़ेद कर सकते है।

नशे का सेवन
तम्बाकू के सेवन, विशेषकर धूम्रपान करने और शराब का सेवन करने से शरीर के बाकी अंगों के साथ बाल भी प्रभावित होते है। ऐसा करने से मेलेनिन के निर्माण में कमी आती है और बाल समय से पहले ही सफ़ेद होने लगते है।

पानी
अगर नहाने के पानी की प्रकृति कठोर है तो इससे बाल न केवल सफ़ेद होंगे बल्कि झड़ेंगे भी। इसके अलावा तेज़ गरम पानी से बाल धोने की स्थिति में भी बालों का जल्दी सफ़ेद होना शुरू हो जायेगा।

तनाव
आजकल हर व्यक्ति को तनाव महसूस होता है जिसके अनेक कारण होते है और शरीर और मन पर इसके दुष्प्रभाव भी बहुत से है। इन्हीं में से एक प्रभाव है बालों का जल्दी सफ़ेद होना। लगातार तनाव की स्थिति में बने रहने से बाल सफ़ेद होना शुरू हो जाते है।

अब तो आपने जान लिया है कि बाल सफ़ेद होने का सम्बन्ध केवल व्यक्ति की समझदारी और जीवन के अनुभव हासिल करने से ही नहीं होता है बल्कि सही जीवनशैली का चुनाव नहीं करने से भी होता है। इसलिए अब से आप इन कारणों पर ध्यान दीजिये और अपने बालों को वक़्त से पहले सफ़ेद होने से बचा लीजिये।

“सफ़ेद बालों को प्राकृतिक रूप से काला बनाना है तो करें ये आसान उपाय”
“झड़ रहे हैं बाल ? करें ये घरेलु उपाय होगा चमत्कारी फायदा”
“सैनिकों के बाल हमेशा छोटे ही क्यों होते हैं”

Add a comment