सेब का सिरका के नुकसान

सितम्बर 16, 2018

शरीर की आंतरिक गतिविधिया तब सुचारू रूप से अपना कार्य करती है जब हम अपने आहार में संतुलन बनाए रखे। कोई भी चीज की अधिकता सिर्फ समस्या ही उत्पन्न करती है। इसलिए अति लाभ के चक्कर में किसी बहकावे में ना आवे। जैसा की हम जानते है सेब का सिरका कई बीमारियों में रामबाण औषधि की तरह काम करता है लेकिन इसकी अधिकता कई खतरनाक बीमारियों को जन्म दे सकती है। गुणों की खान और सेहत के लिए वरदान कहे जाने वाले इस सेब का सिरका के नुकसान क्या होते है आइए जानें।

  1. सेब के सिरके का अधिक सेवन करने से पेट में अपच, गैस या जलन जैसी समस्या हो सकती है।
  2. इसका इस्तेमाल सीधे रूप से त्वचा पर करने से जलन, खुजली या एलर्जी जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए सिरके का प्रयोग पानी या शहद के साथ करे।
  3. सेब के सिरके का उपयोग अधिक मात्रा में या लगातार कई महीनों तक करते रहने से वजन कम होने की संभावना बढ़ जाती है।
  4. सीमित मात्रा से अधिक इसका सेवन करने से इसके अम्लियता गुण के कारण दांतों में पीलापन और संवेदनशीलता बढ़ती है। सीधे दांतों पर लगाने की बजाय इसका सेवन पानी या जूस के साथ करे। सिरके का सेवन करते ही तुरंत ब्रश करे।
  5. सेब के सिरके में पाया जाने वाला एसिड इंसुलिन और ब्लड शुगर दोनों पर सीधे तौर पर असर डालता है। ऐसे में अगर मधुमेह का रोगी उच्च रक्तचाप का भी मरीज है और दवा चल रही है तो सेब के सिरके से रियेक्शन की संभावना बढ़ जाती है।
  6. सेब के सिरके का एसिड शरीर में मौजूद पोटैशियम और हड्डियों में मौजूद मिनरल के स्तर को कम करता है। इसलिए जिन्हें हड्डियों की समस्या है खासकर ऑस्टियोपोरोसिस तो उन्हें सेब के सिरके का सेवन ना करने की सलाह दी जाती है।
  7. सेब का सिरका लेने के बाद या कुछ दिनों बाद अगर आपको आपके शरीर में कुछ भी बदलाव लगे जैसे सूजन या सांस लेने में कोई दिक्कत तो तुरंत सिरके का उपयोग बंद कर दें। क्योंकि कई लोगों को सेब के सिरके से एलर्जी होती है। शारीरिक लक्षण को अनदेखा ना करे।
  8. सेब के सिरके के अधिक सेवन से असहनीय सर दर्द की समस्या हो सकती है। कई बार उल्टी या जी घबराने जैसी शंका उत्पन्न हो जाती है।
  9. प्रेगनेंन्सी और ब्रेस्टफीडिंग के समय सेब का सिरका कितना सुरक्षित है यह कह पाना मुश्किल है। इसलिए ये बहुत ज़रूरी है कि आप ज़रा सा भी सेब का सिरका ले उससे पहले अपने डॉक्टर से सलाह अवशय लें। फिर भी आपकी शंका बनी रहे तो इसे ना लेकर सुरक्षित रास्ता अपनाना ही बेहतर होगा।
  10. सुबह खाली पेट सेब के सिरके लेने से चक्कर आना या उल्टी जैसी दिक्कते आ सकती है। इसलिए भोजन से आधे घंटे पहले या रात को सोने से आधे घंटे पहले लेना चाहिए। इसका उपयोग सीधे शॉट्स में कभी ना करे नहीं तो गले में जलन या खराश हो सकती है। जूस, पानी, स्मूदी आदि के साथ इसका सेवन बेस्ट है।

इसमें कोई संदेह नहीं सेब के सिरके से शरीर के सारे सिस्टम को डिटोक्सिंग करने में सहायता मिलती है। दिन में दो चम्मच की मात्रा स्वास्थ्य को सेहतमंद रखने के लिए पर्याप्त है। बस ध्यान इतना रखे इसकी मात्रा अधिक ना हो और इसका सेवन भी लगातार कई महीनों तक ना करे। बीच-बीच में इसके सेवन को बंद कर दे। क्योंकि किसी भी चीज की अति हमेशा नुकसानदायक ही होती है।

सेब का सिरका के नुकसान सबको अलग-अलग तरह से हो सकता है इसलिए इससे होने वाले नुकसान से निपटने के लिए अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले। हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“सेब का सिरका के फायदे”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें