सेब का सिरका पीने की विधि

सितम्बर 14, 2018

सेब के सिरके का प्रयोग आजकल इतना आम है की घर-घर में इसका उपयोग होने लगा है। जाहिर सी बात है इसमें गुण भी इतने है की हर कोई इसका इस्तेमाल करने लगा है। हम सदियों से इससे होने वाले फायदों को सुनते और पढ़ते आ रहे है जिस कारण आज हर रसोई में इसकी एक खास जगह है। यह एक तरह की खास प्राकृतिक औषधि है जिसके इस्तेमाल से शरीर के आंतरिक अंगों की सफाई होती है और शरीर हृदय विकार, मोटापा, त्वचा रोग, मधुमेह, कैंसर, पेट की समस्या, उच्च रक्तचाप आदि कई समस्याओं से बचा रहता है। इसमें इतने विटामिन्स, केल्शियम, मेग्निशियम, ऐसिटिक ऐसिड, एंटी-ऑक्सिडेंट जैसे पोषक तत्व होते है की इसके प्रयोग करने की कई विधि सुनने को मिलती है। लेकिन बहुत ही कम लोग सेब का सिरका पीने की सही विधि को जानते है। जिस तरह सही इस्तेमाल से फायदा होता है ठीक इसके विपरीत गलत इस्तेमाल से नुकसान भी कई है। आइए सेब का सिरका पीने का सही और गलत इस्तेमाल पर एक नजर डाले।

पानी के साथ ले – एप्पल सिडर पानी में घुलनशील होता है। इसलिए इसे लेने का सबसे उचित तरीका पानी के साथ घोलकर लेने में है। इससे गैस नहीं बनती। इसका स्वाद अच्छा ना लगे तो एक छोटी चम्मच शहद की मिला ले। दांतों को क्षति ना पहुंचे इसके लिए स्ट्रॉ की सहायता ले नहीं तो मुँह ऊपर करके गिलास से पिए।

खाली पेट ना ले – घंटों की नींद के बाद सुबह के समय पेट खाली होता है ऐसे में अगर आप खाली पेट सेब का सिरका लेते है तो यह भूल आपको बहुत मंहगी पड़ सकती है। इससे आपको उल्टी, जी घबराना या चक्कर आने जैसी समस्या हो सकती है।

सीधे तौर पर ना ले – कई बार लोग सुनी हुई बात पर विश्वास करके की इसमे तो सिर्फ 5% एसिड होता है इसलिए इसे सीधा लिया जा सकता है। लेकिन यह भूल आप पर भारी पड़ सकती है। सीधे शॉट्स के रूप में लेने से गले में जलन या इंफेक्शन हो सकता है। सीधे तौर पर सेवन करने से दांतों पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है जैसे दांतों में पीलापन, कीड़े लगना, दर्द, सड़न, सेंसीटीविटी जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

अति करे क्षति – सेब के सिरके का इस्तेमाल दिन में एक या दो छोटी चम्मच से ज्यादा ना करे। जब आप इसकी शुरुआत करते है उस वक्त इसकी मात्रा कम रखे। जब आपका शरीर इसका आदी हो जाएगा तब आप इसकी मात्रा धीरे-धीरे बढ़ा सकते है। लेकिन यह ना भूले अति सेवन से लाभ भी ज्यादा हो यह जरूरी नहीं।

भोजन से पहले लेना उचित – पेट की समस्या से निजात पाने का यह एक प्राकृतिक नुस्खा है। क्योंकि सेब के सिरके में प्रीबायोटिक गुण होने के कारण यह पेट में अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाने में सहायता करता है। इसलिए कई शौध के बाद इस बात का स्पष्ट रूप से खुलासा किया गया है की सेब के सिरके को भोजन से पहले लेना उचित समय माना गया है। क्योंकि गरिष्ठ भोजन के बाद भी इससे शुगर का लेवल संतुलित रहता है।

सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं को सेब के सिरके के द्वारा सरलता से ठीक किया जा सकता है। इसका सेवन सीमित और सही मात्रा में करे। क्योंकि सही मात्रा और सही सलाह का कोई विकल्प नहीं। सेब का सिरका पीने के बाद अगर आपको जरा भी अजीब लगे तो इसका सेवन तुरंत बंद कर दे और चिकित्सक से सलाह ले।

सेब का सिरका पीने की सही मात्रा और सही समय की जानकारी हेतु अपने चिकित्सक से सलाह जरूर ले। हमने आपसे सिर्फ ज्ञानवर्धक जानकारी साझा की है। सदैव खुश रहे और स्वस्थ रहे।

“सेब का सिरका के फायदे”

शेयर करें