Sectoral Fund के फायदे व नुकसान

हर निवेशक अपने Investments पर ज्यादा से ज्यादा कमाना चाहता है। इसी चाहत या लालच में निवेशक Agressive Call भी लेते हैं। यह Decision कभी-कभी बहुत खराब व कभी-कभी अच्छा हो जाता है। अच्छा होने के Chance केवल तभी ज्यादा है जब निवेशक अपने अच्छे Financial Doctor की राय पर ही काम करे। इसी श्रृंखला में Sectoral Fund आते हैं।

Sectoral Fund का मतलब किसी एक Particular Sector में निवेश करना होता है। सामान्यतः Mutual Funds जनरल स्कीम में समस्त सेक्टर्स में निवेश करती है, परन्तु Sectoral Fund Particular Sector में ही निवेश करता है। उदाहरण Pharma Sectorial Fund केवल Pharma में या Transportation and Logistics केवल Transport and Logistics में ही निवेश करता है। Sectoral Fund सही समय पर एवं सही राय से लिये जायें तो बहुत ज्यादा Outperform कर सकते हैं। मगर बिना किसी समझ व राय में आपकी रकम को घटा भी सकते हैं।

मेरा स्पष्ट मानना है कि निवेशक के कुल निवेश का 20% से ज्यादा Portion Sectoral Fund में नहीं होना चाहिये। Sectoral Fund का चुनाव व समय हमेशा अपने Financial Doctor की राय से ही करना चाहिये। Sectoral Fund में Returns में सही समय व सही राय का महत्व है। वर्तमान समय में मेरी राय है कि निवेशक जो 2-3 वर्षों का निवेश समय रखते हैं वह Consumer Theme में निवेश कर सकते हैं। जो निवेशक 5-6 वर्षों का Patience रख सकते हैं उन्हें Pharma Funds में Without Fail निवेश करना चाहिये। Pharma Sector 5-6 वर्षों में बहुत शानदार Returns दे सकते हैं। अभी PSU Bank की हालत भी बहुत पतली है। परन्तु शीघ्र ही PSU Bank में Merger Start हो जायेगें। सो PSU Bank में भी 3-4 वर्षों के लिये निवेश कर सकते हैं।

Sectoral Fund में निवेश के साथ-साथ Exit का बहुत महत्वपूर्ण रोल है। Timely Exit नहीं होने पर सारी कमाई निकल जाती है। आपके अच्छे Finanial Doctor में Exit Timely कराने की Quality होनी चाहिये। Timely Exit आपके Returns को ज्यादा व निवेश को Safe बनाता है। Sectoral Fund में Active Advise ज़रूरी है।

निष्कर्ष यह है कि Sectoral Fund बहुत अच्छे Returns दे सकते हैं बशर्ते Active Financial Doctor की राय से आप निवेश करें। Thumb Rule आपके Total निवेश का 20% से ज्यादा Sectoral Fund में नहीं होना चाहिये।

sodhani-1 Sectoral Fund के फायदे व नुकसानये लेख फाइनेंशियल एडवाइजर श्री राजेश कुमार सोढानी, सोढानी इंवेस्टमेंट्स, जयपुर द्वारा प्रस्तुत है। फाइनेंशियल प्लानिंग पर आधारित ये लेख आपको कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“रिटायरमेंट प्लानिंग क्या है और क्यों जरूरी है?”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।