दुनिया के सात अजूबे – The Seven Wonders of the World

यह दुनिया बहुत सुन्दर है। प्रकृति ने अपने रंग से इस दुनिया को बहुत ही रंगीन बनाया है। समुद्र, पहाड़ और जमीन के मिलन से प्रकृति ने कुछ ऐसा नजारा हमारे लिए तैयार किया है जिसकी कल्पना करना इंसान के लिए कभी-कभी सपने जैसा हो जाता है। 2,200 साल पहले यूनानी विद्वानों द्वारा बनाई गई दुनिया के सात अजूबे (The Seven Wonders of the World) की सूची को 07 जुलाई, 2007 को दुबारा संशोधित किया गया। चूंकि पुरानी इमारतों में से अधिकांश टूट-फूट चुकी हैं इसलिए इंटरनेट के माध्यम से 1999 से शुरु हुई एक प्रतियोगिता के जरिए इस नई सूची को बनाया गया। 2005 से इसके लिए मतदान शुरु हुए जिसमें दुनियाभर के लोगों ने हिस्सा लिया।

1. क्राइस्ट द रिडीमर (Christ the Redeemer) – क्राइस्ट द रिडीमर ब्राज़ील के रियो डि जनेरीओ (Rio Di Janerio) मे स्थित है। इसकी उँचाई 130 फुट उँची है। यह ईसा मसीह की इस संसार मे सबसे बड़ी मूर्ति है। यह मूर्ति कंक्रीट और पत्थर से बनी हुई है। इसका निर्माण 1922 से 1931 के बीच हुआ था।

2. चीन की दीवार (Great Wall of China) – यह दीवार चीन को मजबूत सुरक्षा प्रदान करती है क्योंकि यह दीवार चीन को चारो तरफ से घेरती है। इसका निर्माण 5वी सदी से 16वी सदी पर जाकर पूर्ण हुआ। चीन ने मंगोल आक्रमणकारियों से सुरक्षा के लिए इस दीवार को 4000 मील(6,400 किलोमीटर) तक बनवाई है। यह दीवार इतनी चौड़ी है की इस पर 5 घुड़सवार या फिर 10 पैदल सैनिक चल सकते है।

3. जार्डन का ‘पेट्रा’ (Petra) – पेट्रा शहर अपनी वास्तुकला कौशल के कारण ऐतिहासिक शहर के साथ-साथ दुनिया के 7 अजूबो मे भी शामिल है। यहा की अनोखी इमारते लाल बलुआ पत्थर से निर्मित है और इन सभी इमारतो पर शानदार नक्काशी बनाई गई है। पेट्रा एक पर्यटन स्थल है जहाँ हज़ारो मे पर्यटक आते रहते है क्योंकि यह एक आकर्षक स्थल है यहां 138 फुट उँचा मंदिर, तालाब, नहरें तथा खुला स्टेडियम है।

4. ताजमहल (Tajmahal) – ताजमहल जिसके नाम मे ही शान है क्योंकि इसे आप किसी भी दिशा से देखे एक ताज के आकर मे गुंबदों वाला महल ही नज़र आएगा। इसे पूरी दुनिया मे प्यार की निशानी के नाम से भी जाना जाता है। यह मक़बरा मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा अपनी बेगम मुमताज़ की याद मे 1632 मे बनवाया गया शानदार मक़बरा है। इसे बनवाने मे लगबघ पूरे 15 साल लगे। कहा जाता है की ये मुगलो की सबसे सुंदर शिल्प कला है। यह मक़बरा भारत मे आगरा शहर मे है। पर्यटन स्थल होने की वजह से यहाँ हज़ारो देशी विदेशी पर्यटक आते हैं। यह मक़बरा सफेद संगेमरमर से निर्मित है।

5. रोम का कॉलोसियम (Colosseum of Rome) – इतना विशाल स्टेडियम शायद ही आपने कभी पहले देखा होगा। इस स्टेडियम को लगभग 70वी सदी मे बादशाह वेस्पेसियन (Vaspasian) ने बनवाना चालू किया था। यह इतना बड़ा था की इसमे 50,000 लोग एक साथ जंगली जानवरो और गुलामो की खूनी लड़ाइयों के खेल देख सकते थे। इस स्टेडियम मे सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते रहते थे। आज तक इस स्टेडियम की कोई भी नकल नही कर पाया है।

6. माचू पिच्चू (Machu Picchu) – यह एक 15वी शताब्दी मे ज़मीन से 2430 मीटर उपर बना हुआ एक शहर है। शायद इस शहर को बनाना एक अजूबा ही होगा। यह शहर एक एंडीज पर्वतों नाम की पाहरियो के बीच बसा हुआ ‘माचू पिच्चू शहर’ इंका सभ्यता का सबसे बड़ा उदाहरण है। किसी जमाने मे यह एक पूरी सम्पन नगरी थी। स्पेन के आक्रमणकारी जब यहा आए थे तब अपने साथ चेचक जैसी बीमारी भी साथ लाए थे जिससे यह शहर पूरी तरह तबाह हो गया।

7. चिचेन इत्जा (Chichen Itza) – चिचेन इत्जा मेक्सिको मे बसी हुई एक इमारत है। यह इमारत दुनिया में माया सभ्यता के गौरवपूर्ण काल की गाथा गाती है। इस इमारत मे इतनी बारीकी से कारीगरी की गयी है की आज भी लोग उन कारीगरो को दिल से याद करते है। मेक्सिको के बीचोबीच कुकुलकन का मंदिर है जो 79 फीट की उँचाई तक बना हुआ है। इस इमारत के चारो तरफ 91 सीढ़ियाँ बनी हुई है। हर एक सीढ़ी साल के एक दिन का प्रतीक है और सबसे ऊपर 365वा दिन का एक चबूतरा बना हुआ है।

“मिश्र के पिरामिडों से जुड़े कुछ अनसुने रोचक तथ्य”
“तुर्की से जुड़ी 10 दिलचस्प बातें”
“विज्ञान से जुड़ी कुछ हैरान कर देने वाली जानकारियां”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।