शरीर में पानी की कमी के संकेत

नवम्बर 2, 2017

हमारे शरीर के दो-तिहाई भाग में पानी भरा है और शरीर के लिए सबसे ज़रूरी तत्वों में से एक है पानी, जो हमारे शरीर में तरल पदार्थों का संतुलन बनाये रखने में मदद करता है, शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालता है और पाचन को सही रखने और त्वचा को स्वस्थ रखने के अलावा अनेक ज़रूरी कार्य करता है लेकिन अगर शरीर में पानी की कमी हो जाए तो शरीर को इसके गंभीर परिणाम भी देखने पड़ सकते हैं। इसलिए ये जानना ज़रूरी है कि किन शारीरिक लक्षणों से पानी की कमी के संकेत मिल सकते हैं ताकि समय रहते इस कमी को दूर किया जा सके। तो चलिए, आज जानते हैं शरीर में पानी की कमी के संकेतों के बारे में–

1. सिर दर्द – अगर आपको अक्सर सिर दर्द रहता है और आप इसका कारण थकान या तनाव को मानकर बैठे हैं तो ये भी जान लीजिये कि सिर दर्द और माइग्रेन के प्रमुख कारणों में से एक है शरीर में पानी की कमी होना। शरीर में पानी की कम मात्रा होने से मस्तिष्क में ऑक्सीजन और रक्त का प्रवाह कम हो जाता है जिससे सिर दर्द की शिकायत रहने लगती है इसलिए अगली बार सिरदर्द होने पर गोली लेने से पहले एक गिलास पानी पीकर देखिएगा, अगर सिर दर्द का कारण पानी की कमी होगा तो आपको जल्द ही आराम मिल जायेगा।

2. सांस की दुर्गन्ध – अगर आप सांस की दुर्गन्ध से परेशान हैं तो हो सकता है कि इसका कारण भी शरीर में पानी की कमी होना ही हो। मुँह में बनने वाली लार में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो मुँह में हानिकारक बैक्टीरिया को पनपने से रोकते हैं लेकिन शरीर में पानी की कमी होने से मुँह में पर्याप्त लार नहीं बन पाती है जिसके कारण मुँह में बैक्टीरिया पनप कर दुर्गन्ध पैदा करते हैं।

3. याद्दाश्त में कमी आना – अगर आपको लगने लगा है कि आजकल आप बातों को ज़्यादा याद नहीं रख पा रहे हैं और भूलने की आदत बढ़ने लगी है, किसी काम पर फोकस रखना भी आसान नहीं लग रहा है तो ये भी शरीर में पानी की कमी का एक संकेत हो सकता है क्योंकि मस्तिष्क में पानी की कमी होने पर आपके सोचने-समझने और निर्णय लेने की क्षमता प्रभावित होने लगती है।

4. ज़्यादा खाने का मन होना – अगर अचानक ही आपको ज़्यादा खाने का मन होने लगे तो कुछ खाने से पहले पानी पीकर देखिएगा क्योंकि शरीर में पानी की कमी होने पर शरीर दिमाग को भूखे होने के ग़लत संकेत देने लगता है जबकि आप प्यासे होते हैं। ऐसे में अगर कुछ नमकीन खाने का मन करे तो नींबू पानी पीकर देखिये और अगर मीठा खाने का मन करे तो तरबूज, जामुन या पपीता जैसे फल खाइये। अगर आपके शरीर में पानी की कमी होगी तो ऐसा करने से आप अच्छा महसूस करने लगेंगे।

5. थकान और सुस्ती बने रहना – ज़्यादा काम करने पर थकना स्वाभाविक है लेकिन बिना काम किये ही थकान और सुस्ती महसूस करते हैं तो पानी को सही मात्रा में पीना शुरू कर दीजिये क्योंकि पानी की कमी होने से शरीर के सभी भागों में ऑक्सीजन की कमी होने लगती है जिससे थकान और सुस्ती महसूस होती है।

6. बेजान त्वचा – अगर मौसम के बदलाव के बिना ही आपकी त्वचा रूखी और बेजान रहती है और होंठ भी सूखे रहते हैं तो इसका कारण पानी की कमी हो सकता है। स्वस्थ त्वचा के लिए उसमें नमी का बने रहना ज़रूरी होता है लेकिन पानी की कमी होने से त्वचा शुष्क और बेजान हो जाती है और एग्ज़िमा, मुहांसे जैसे त्वचा सम्बन्धी रोग होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

7. हृदय गति का बढ़ना – पानी की मात्रा शरीर में कम होने से रक्त परिसंचरण तंत्र भी प्रभावित होता है क्योंकि प्लाज्मा की मात्रा कम हो जाती है जिससे हृदय गति बढ़ जाती है। अगली बार दिल की धड़कनें तेज़ लगे तो पानी पीकर देखें। इसके बाद भी अगर आराम ना मिलें तो डॉक्टर से सलाह लें।

8. मांसपेशियों में दर्द – अगर आप मांसपेशियों में दर्द का अनुभव करने लगें तो पानी पीकर देखिये। हो सकता है कि हड्डी और मांसपेशियों का ये दर्द शरीर में पानी की कमी से हुआ हो क्योंकि हमारी रीढ़ की हड्डी और कार्टिलेज के निर्माण में 80% भूमिका पानी निभाता है और जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है तो जोड़ों में दर्द, सूजन, मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन की समस्या होने लगती है।

9. कब्ज की समस्या रहना – शरीर में अगर पानी की कमी हो तो पाचन तंत्र पर भी इसका प्रभाव पड़ता है। पाचन की क्रिया मंद हो जाती है और कब्ज की समस्या रहने लगती है।

10. मूत्र की कम मात्रा का निष्कासन – अगर दिन में 2-3 बार ही मूत्र का निष्कासन हो तो शरीर से विषैले पदार्थ पूरी तरह बाहर नहीं निकल पाते हैं जिसके कारण मूत्र का रंग गहरा पीला हो जाता है जो शरीर में पानी की कमी का संकेत देता है।

अब आप जान चुके हैं कि आपके शरीर के लिए पानी का कितना महत्व हैं और पर्याप्त पानी पीकर आप अपनी सेहत का कितना बेहतर तरीके से ख़याल रख सकते हैं और अब तो आपने ये भी जान लिया है कि अगर शरीर में पानी की कमी होने लगे तो शरीर हमें कौनसे संकेत देता है, जिन्हें पहचानकर इस कमी को दूर कर सकते हैं और पानी की कमी से होने वाली बड़ी-बड़ी बीमारियों से खुद का बचाव कर सकते हैं इसलिए अभी से पानी के महत्व को समझ लीजिये और दिनभर में 8-9 गिलास पानी ज़रूर पीजिये।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“जानिए शरीर में विटामिन की कमी के मुख्य लक्षण”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें