शिक्षा का महत्व

0

आइये जानते हैं शिक्षा का महत्व। हम सभी चाहते हैं कि हमें ज्ञान मिले, जीवन जीने का कौशल सिखाया जाए और हमारा व्यक्तित्व शालीन और गरिमामय बने। इसके अलावा हमारी आकांक्षा ये भी होती है कि समाज में हमें आदर मिले, सम्मान मिले और अपने जीवन में आने वाली हर परिस्थिति का सामना हम स्थिर रहते हुए कुशलता के साथ कर सके।

इन सभी अपेक्षाओं को पूरा करने में शिक्षा ही सहयोगी साबित होती है। ऐसे में ये जानना बेहतर होगा कि शिक्षा का क्या महत्त्व होता है। तो चलिए, आज आपको बताते हैं शिक्षा का महत्व।

शिक्षा का महत्व 1

शिक्षा का महत्व

ये तो आप भी जानते हैं कि मानव और जंतुओं में बहुत-सी विशेषताएं मिला करती हैं और दोनों में प्रमुख अंतर व्यवहार और आचरण का ही होता है। मानव को सभ्य आचरण और उचित व्यवहार करने का कौशल शिक्षा से ही मिलता है और शिक्षा ही मानव को जानवरों से बेहतर और सभ्य बनाती है।

शिक्षा के बल पर ही व्यक्ति अपने लिए समानता की मांग कर सकता है, इसी आधार पर आर्थिक बाधाओं को दूर करने की निपुणता हासिल कर पाता है और अपने जीवनयापन के लिए उपयुक्त माध्यम प्राप्त करने में भी शिक्षा ही सहयोग करती है।

व्यावहारिक ज्ञान देने और जीविका चलाने का कौशल देने वाली शिक्षा ना केवल व्यक्ति विशेष के जीवन को सुगम बनाती हैं बल्कि पूरे परिवार और समाज के वैचारिक स्तर को ऊँचा उठाती है।

बदलते समय के साथ शिक्षा का रुप बदलता रहा है। प्राचीनकाल में गुरुकुल में शिक्षा दी जाती थी जिसमें वैदिक मन्त्रों का ज्ञान देने के अलावा व्यावसायिक प्रशिक्षण भी दिया जाता था ताकि गुरुकुल से प्राप्त हुआ ज्ञान बालक के जीवन को व्यक्तिगत, सामाजिक, आर्थिक और नैतिक स्तर पर ऊँचा उठा सके।

वर्तमान शिक्षा प्रणाली में भी व्यावसायिक शिक्षा पर जोर दिया जाने लगा है ताकि विद्यार्थी का ज्ञान किताबों तक ही सीमित ना रह जाये बल्कि जीवन के हर कदम पर उपयोगी साबित हो सके। शिक्षा के प्रति जागरूकता भी तेजी से बढ़ी है।

इसी का परिणाम है कि हर वर्ग और आयु के बालक-बालिकाएं स्कूल जाते हैं, शिक्षा प्राप्त करके ऊँचा मुकाम बनाने के सपने देखते हैं और परिवार और समाज से मिलने वाले सहयोग ने बच्चों को प्रयास करने और अपने सपने पूरे करने के लिए प्रेरित भी किया है।

सरकार द्वारा भी विशेष प्रयास किये जाते हैं ताकि हर बच्चा शिक्षित हो सके और आर्थिक तंगहाली उनकी शिक्षा में बाधक ना बन सके।

सरकार, समाज और परिवार के प्रयासों के चलते आज शिक्षा एक अनिवार्य जरुरत बन गयी है जिसे हर व्यक्ति का अधिकार समझा जाने लगा है।

जीवन को पूर्ण करने के लिए शिक्षा अनिवार्य है। इसकी अनिवार्यता उतनी ही महत्वपूर्ण है जितनी रोटी, कपड़ा और मकान की समझी जाती है क्योंकि बिना शिक्षा व्यक्ति ना तो स्वयं के भीतर छुपे ज्ञान को प्राप्त कर सकता है और ना ही जीविका चला सकता है।

उम्मीद है जागरूक पर शिक्षा का महत्व कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here