शिलाजीत क्या है?

शिलाजीत एक बहुत ही गुणकारी औषधि है जिसका इस्तेमाल सदियों से भारतीय आयुर्वेद में दवा के रुप में होता आया है। शिलाजीत का शाब्दिक अर्थ होता है पहाड़ों को जीतने वाला और इसमें मौजूद गुणों के चलते ये औषधि बहुत सी बीमारियों पर जीत हासिल करने में सफल भी हुयी है। ऐसे में इसके बारे में जानना आपके लिए भी फायदेमंद हो सकता है इसलिए आज बात करते हैं शिलाजीत की।

शिलाजीत एक चिपचिपा पदार्थ होता है जो मुख्य रुप से हिमालय की चट्टानों में पाया जाता है और इसका निर्माण सदियों से पौधों के अपघटन की वजह से हुआ है। शरीर को यौन ऊर्जा प्रदान करने वाली इस दवा से और भी बहुत से लाभ मिलते हैं। आइये, अब जानते हैं इससे मिलने वाले फायदों के बारे में।

डायबिटीज में – शिलाजीत रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है और डायबिटीज को कण्ट्रोल में रखने में मदद करता है इसलिए इसको मधुमेह विनाशक भी कहा जाता है।

हाई बीपी में – अगर ब्लड प्रेशर सामान्य ना हो तो दिल से जुड़ी बीमारियां होने का ख़तरा काफी बढ़ जाता है। ऐसे में रक्तचाप का सामान्य बना रहना बहुत जरुरी होता है और शिलाजीत बीपी को सामान्य बनाने में मदद करता है।

एनीमिया में – शरीर में खून की कमी से होने वाले रोग एनीमिया से राहत दिलाने में शिलाजीत असरदार साबित होता है। इसके सेवन से शरीर में खून बनना शुरू हो जाता है और शरीर ऊर्जावान भी होता है।

दिमाग तेज करने में – शिलाजीत स्मरण शक्ति और एकाग्रता को भी बढ़ाता है। इसमें मौजूद फुलविक एसिड एंटीऑक्सिडेंट्स के रूप में मौजूद होता है जो मस्तिष्क को स्वस्थ बनाने में मदद करता है।

यौन विकारों में – शारीरिक कमजोरी को दूर करने में शिलाजीत बहुत ही असरदार सिद्ध होता है। ये कोशिकाओं को पुनर्जीवित करके बुढ़ापे के लक्षणों को दूर करता है। ये एक बेहतर यौन टॉनिक है जो यौन शक्ति को बढ़ाता है और यौन सम्बन्धी रोगों को दूर करता है।

शिलाजीत का सेवन अगर आवश्यकता के अनुसार किया जाये तो सही परिणाम मिलते हैं लेकिन इसका ज्यादा मात्रा में किया गया सेवन शरीर को बहुत नुकसान पहुँचाता है। इससे शरीर में आयरन से जुड़े रोग हो सकते हैं और शरीर में एलर्जी भी हो सकती है इसलिए शिलाजीत का सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरुर लेना चाहिए।

“आँख का वजन कितना होता है?”