शिमला के पर्यटन स्थल

0

आइये जानते हैं शिमला के पर्यटन स्थल के बारे में। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला प्रकृति की अनूठी सौगात से कम नहीं है। बर्फ से ढ़के पहाड़, सुहाना मौसम, झीलें, झरने और प्रकृति के बेहद खूबसूरत नज़ारों वाले शिमला को पहाड़ों की रानी भी कहा जाता है।

इस प्रसिद्ध हिल स्टेशन को 1864 में भारत में ब्रिटिश राज की ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया गया था। यहाँ घूमने के लिए इतने खूबसूरत टूरिस्ट स्पॉट्स हैं कि आप बार-बार शिमला आना चाहेंगे। ऐसे में क्यों ना आज जागरूक पर शिमला के पर्यटन स्थल की सैर की जाए। तो चलिए, आज आपको शिमला की सैर पर ले चलते हैं।

शिमला के पर्यटन स्थल 1

शिमला के पर्यटन स्थल

समर हिल्स – शिमला का एक छोटा-सा टाउन, जो समुद्र तल से 1283 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहाँ चारों ओर हरियाली है और यहाँ से शिमला के खूबूसरत नज़ारें देखने का आनंद उठाया जा सकता है। यहाँ से सनराइज और सनसेट देखने के लिए आपको यहाँ जरूर जाना चाहिए।

जाखू हिल – शिमला से 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जाखू हिल, जो शिमला का सबसे ऊँचा हिल है। समुद्र तल से 8000 किलोमीटर पर स्थित ये पहाड़ी प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। यहाँ जाखू मंदिर भी है जिसमें हनुमान जी की 108 फीट ऊँची विशाल प्रतिमा विराजमान है। यहाँ की चढ़ाई थोड़ी कठिन है लेकिन प्रकृति प्रेमी ये कठिनाई भी पार कर ही लेते हैं।

वाइसरीगल लॉज – शिमला में ऑब्सर्वेटरी हिल के ऊपर वाइसरीगल लॉज स्थित है जिसे राष्ट्रपति निवास के नाम से भी जाना जाता है। इस विरासत कालीन इमारत में भारत के वायसराय रहा करते थे लेकिन अब ये स्थान इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस स्टडी (आईआईएएस) का रुप ले चुका है। ये इमारत स्कॉटिश शैली की वास्तुकला में निर्मित है जिसमें चीड़ और देवदार की लकड़ी का इस्तेमाल हुआ है। इसमें एक पुस्तकालय भी है और यहाँ की बालकनी से चारों तरफ पहाड़ों के खूबसूरत नज़ारें दिखाई देते हैं।

स्टेट म्यूजियम – शिमला का स्टेट म्यूजियम 1974 में खुला था और तब से यहाँ की सांस्कृतिक विरासत को सहेजने का काम ये म्यूजियम बखूबी कर रहा है। इसमें कांगड़ा और राजस्थान के लघु चित्र और चंबा की कढ़ाई, सिक्के, आभूषण, मंदिर की नक्काशी और हथियार जैसी चीजों का विशाल संग्रह है। पहाड़ी पर स्थित इस संग्रहालय के आसपास का माहौल बहुत सुकून भरा और शांत है।

अन्नानदाले – शिमला के इस मशहूर स्थान पर ब्रिटिश काल में पोलो, क्रिकेट, रेसिंग जैसे कई खेल खेले जाते थे। आज इसे मिनी गोल्फकोर्स में बदल दिया गया है।

चाडविक फॉल – शिमला से 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित चाडविक फॉल से पानी 1586 मीटर की ऊंचाई से गिरता है। चारों ओर फैली हरियाली इन नज़ारों को और भी ज्यादा खूबसूरत बना देती है।

कुफरी – शिमला से 19 किलोमीटर की दूरी पर कुफरी स्थित है जिसकी समुद्रतल से ऊंचाई 2622 मीटर है। इसे सर्दियों का हॉटेस्ट प्लेस कहा जाता है यहाँ बड़ी तादाद में पर्यटक आते हैं और हॉर्स राइडिंग, बंजी जम्पिंग, रोप क्लाइम्बिंग, स्कीइंग और घुड़सवारी जैसे रोमांचक खेलों का आनंद लेने आते हैं और यहाँ के खुशनुमा माहौल और बर्फीले मौसम का लुत्फ उठाते हैं।

दरानघाटी अभयारण्य – शिमला से 150 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ये अभयारण्य पहले राजा – महाराजाओं के शिकार का स्थान था। इसे 1962 में फॉरेस्ट एरिया के रुप में अधिसूचित किया गया था।

चैल – क्रिकेट प्रेमियों के लिये ये स्थान विशेष महत्व रखता है क्योंकि यहाँ दुनिया की सबसे ज्यादा ऊंचाई पर स्थित क्रिकेट पिच है और यहाँ से शहर का बहुत ही सुन्दर नजारा दिखाई देता है।

तारा देवी मंदिर – ये शिमला का एक प्रसिद्ध मंदिर है जहाँ हर कोई अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए आता है। कहा जाता है कि करीब 250 साल पहले माँ तारा को पश्चिम बंगाल से शिमला लाया गया था और राजा भूपेंद्र सेन ने ये मंदिर बनवाया था।

माल रोड़ – शिमला का मॉल रोड सभी तरह की गतिविधियों का केंद्र है। यहाँ बहुत सी दुकानें हैं जहाँ शिमला से जुड़ा खास सामान आसानी से ख़रीदा जा सकता है। इसके अलावा यहाँ कैफे, थिएटर, रेस्तरां भी हैं। यहाँ शॉपिंग करते हुए घूमना बेहद अच्छा लगता है।

उम्मीद है कि शिमला के खूबसूरत नजारों को करीब से देखने के लिए आप भी शिमला जाने का प्लान बनाने में जुट गए होंगे और शिमला के पर्यटन स्थल की ये जानकारी आपके लिए फायदेमन्द भी साबित होगी।

“पीने के पानी का टीडीएस कितना होना चाहिए?”

जागरूक यूट्यूब चैनल

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here