शून्य विचार स्थिति क्या है?

हम सभी के मन में हर समय अनगिनत विचार आते-जाते रहते हैं और इन्हें रोक पाना भी हमारे लिए संभव नहीं होता है लेकिन जब ये विचार बहुत बढ़ जाते हैं तो कई तरह के शारीरिक और मानसिक विकार का कारण बनते हैं। ऐसे में उस स्थिति के बारे में जानना जरुरी है जिसमें कोई भी विचार आपको प्रभावित ना कर सके और इस स्थिति को विचार शून्यता कहते हैं। तो चलिए, आज शून्य विचार स्थिति के बारे में जानते हैं। विचार शून्य होना एक ऐसी स्थिति है जिसमें मन में विचार आने पर हम उन्हें सोचते नहीं हैं। वो सारे विचार हमें परेशान नहीं कर पाते क्योंकि शून्य विचार स्थिति में हम चेतन अवस्था में होते हैं और जब व्यक्ति पूरे होश में रहता है तो ये चाहे अनचाहे विचार उसे प्रभावित नहीं कर पाते हैं।

Visit Jagruk YouTube Channel

भले ही विचारों से पीछा छुड़ाना मुश्किल लगता हो लेकिन शून्य विचार स्थिति को पाकर ऐसा करना संभव हो सकता है। आपको भी यही लगता होगा कि शून्य विचार स्थिति को प्राप्त करना हर किसी के लिए संभव नहीं है लेकिन वास्तविकता ये है कि अभ्यास द्वारा इस स्थिति को प्राप्त करना आपके लिए भी आसान हो सकता है इसलिए अब जानते हैं शून्य विचार स्थिति के लिए किये जाने वाले अभ्यास के बारे में-

इस अभ्यास को ‘विचार क्रमांक ध्यान पद्धति’ कहा जाता है। ध्यान के इस रूप में विचारहीन स्थिति में पहुँचने के लिए लगातार अंकों के जरिये विचारों का मन में आना-जाना बंद किया जाता है।

ध्यान के इस अभ्यास के लिए तैयार हो जाइये-

  • अब हर सोच को देखते हुए ध्यान शुरू करिये, मन में आने वाले हर एक विचार को गिनना शुरू कीजिये
  • जैसे-जैसे विचार मन में आते जाए, उनकी लगातार गिनती करते जाइये
  • ऐसा करते हुए जब ऐसा लगे कि अब मन में कोई विचार नहीं आ रहा है, उस क्षण शांति से बैठ जाइये
  • इस दौरान ये ध्यान रखिये कि आपको किसी भी विचार पर अमल नहीं करना है, बस उन्हें गिनिए और उनके बारे में सोचे बिना ही उन्हें छोड़ दीजिये
  • इस प्रक्रिया को 10 मिनट तक लगातार करिये
  • अगर विचारों की गिनती करने में आप कभी चूक जाये तो दिमाग पर जोर दिए बिना, फिर से गिनती करना शुरू कर दीजिये
  • इस प्रक्रिया को अपनाने से आपको विचारों का प्रवाह कम होता हुआ दिखाई देगा और धीरे-धीरे दो विचारों के बीच अंतर भी होगा
  • इसी अंतर को शून्य कहते हैं जब मन में कोई भी विचार नहीं आ रहा होता है

दोस्तों, इस अभ्यास के बाद आप जान गए होंगे कि शून्य विचार स्थिति को प्राप्त करना उतना भी मुश्किल नहीं है जितना आप अब तक सोचा करते थे।

“हाइब्रिड कार क्या है?”