SIP क्या है और क्या है SIP के फायदे

सेविंग और निवेश के कई जरिये है जिनके द्वारा ना सिर्फ हम बचत कर सकते हैं बल्कि टैक्स में भी छूट पा सकते हैं। इन्ही में से एक है SIP यानि Systematic Investment Plan जो की शेयर मार्केट में निवेश के लिए होता है। लेकिन SIP को लेकर लोग काफी भ्रमित रहते हैं और कुछ लोग इसे काफी नुकसानदायक भी मानते हैं। तो आइये जानते हैं SIP क्या है और इसके क्या फायदे और नुकसान हैं।

Visit Jagruk YouTube Channel

SIP क्या है-

SIP के जरिये निवेशक अपनी निश्चित राशि निश्चित अवधि के लिए शेयर बाजार, म्यूचुअल फण्ड और सोने द्वारा निवेश कर सकता है, जिन्हे शेयर बाजार में ज्यादा जानकारी नहीं है उनके लिए SIP के जरिये निवेश करना बेहतर जरिया है। SIP में निर्धारित समय अंतराल में निर्धारित राशि निवेश करनी होती है। निवेशक SIP के जरिये शेयर बाजार, म्यूचुअल फण्ड या Gold ETF में निवेश कर सकता है।

जो लोग जॉब करते हैं उनके लिए SIP निवेश करने का एक बेहतर जरिया है इसमें प्रतिदिन, प्रतिमहीने या प्रतिसाल में निवेश कर सकते हैं। SIP का एक फायदा ये भी है की इसे 500 रूपए प्रतिमाह की राशि से भी करवाया जा सकता है।

SIP के फायदे-

SIP में छोटी राशि निवेश करना भी फायदेमंद हो सकता है क्योंकि छोटी राशि लम्बे समय तक निवेश करने पर भी बड़ा मुनाफा कमाया जा सकता है।

SIP का सबसे बड़ा फायदा ये है की इसमें बाजार नीचे गिर जाने पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता क्योंकि SIP में छोटे छोटे निवेश लम्बे समय तक होते हैं जिसमे नुकसान होने की संभावना बहुत कम हो जाती है। जबकि अगर आप सीधे मोटी रकम शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो बाजार गिरने पर भारी नुकसान हो सकता है।

SIP को जितनी लम्बी अवधि के लिए कराया जायेगा उतना ही फायदा होने की सम्भावना बढ़ जाएगी ऐसे में हर महीने या साल में छोटे निवेश से घर के बजट पर भी ज्यादा फर्क नहीं पड़ता और भविष्य में निवेश की हुई राशि का मोटा मुनाफा भी मिल जाता है।

अगर टैक्स में छूट पाने वाली SIP में निवेश करते है तो SIP के निवेश से तो मुनाफा होता ही है साथ ही टैक्स में भी छूट मिल जाती है।

“जानिए डीमैट अकाउंट क्या होता है और कैसे खोले डीमैट अकाउंट”