सीताफल खाने के फायदे

सितम्बर 3, 2018

सीताफल या शरीफा को बहुत चाव से खाने वालों में शायद आपका नाम भी शुमार हो क्योंकि भले ही ये फल इतना मशहूर ना हो लेकिन इसका स्वाद और मिठास इसे अलग पहचान जरूर देते हैं। अगर आप सीताफल खाने से मिलने वाले फायदों के बारे में जान लेंगे तो हैरान हुए बिना नहीं रह पाएंगे इसलिए आज हम आपको बताते हैं, मिठास से भरे इसे गूदेदार फल से मिलने वाले बहुत सारे फायदों के बारे में–

दमकती त्वचा – विटामिन-ए और एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर सीताफल ऊतकों के पुनर्निर्माण में सहायक होता है और कोशिकाओं को क्षति पहुँचने से बचाव करता है। ये फ्री-रेडिकल्स से त्वचा की सुरक्षा करता है और त्वचा को नरम और चमकदार बनाता है। सीताफल खाने से चेहरे पर झुर्रियां कम आती हैं और एजिंग के लक्षण भी कम दिखाई देने लगते हैं यानी सीताफल खाने से आपकी त्वचा जवां और चमकदार बन सकती है। इसके सेवन से त्वचा पर लचीलापन आने के साथ-साथ बालों में भी मजबूती आती है।

वजन बढ़ाने में सहायक – अगर आपका वजन बहुत कम है और आप मनचाहा वजन हासिल करना चाहते हैं तो सीताफल इसमें आपकी मदद कर सकता है क्योंकि सीताफल में वजन बढ़ाने की भरपूर क्षमता होती है इसलिए वजन बढ़ाने के लिए सीताफल खाना शुरू कर दें।

इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाये – सीताफल में विटामिन-सी की प्रचुर मात्रा पायी जाती है जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में सहायक रहती है। इसके अलावा कैल्शियम, आयरन और फास्फोरस भी बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है यानी स्वस्थ रहने के लिए सीताफल जरूर खाएं।

ब्लड प्रेशर को कम करे – आजकल तनाव के चलते ब्लड प्रेशर हाई रहना एक सामान्य बात हो गयी है लेकिन ये हाई बीपी सेहत को बड़ा झटका भी लगा सकता है। ऐसे में सीताफल इस बीपी को कम करने में आपकी मदद कर सकता है क्योंकि इसमें केले की तुलना में पोटैशियम की मात्रा ज्यादा होती है जो दिल की सेहत को बेहतर बनाने और बीपी को सामान्य रखने में कारगर साबित होता है।

दिल को स्वस्थ रखे – दिल के अच्छे स्वास्थ्य के लिए, दिल की मांसपेशियों को आराम पहुंचाने के लिए मैग्नेशियम आवश्यक होता है जो तनाव को कम करता है और दिल पर पड़ने वाले दबाव को भी काफी हद तक संतुलित कर देता है जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम हो जाता है। साथ ही सीताफल खाने से ख़राब कोलेस्ट्रॉल का लेवल भी कम हो जाता है।

पाचन को बेहतर बनाये – पाचन तंत्र की मजबूती के लिए आहार में फाइबर की प्रचुरता का होना जरुरी होता है और सीताफल में फाइबर भरपूर मात्रा में मौजूद होता है इसलिए कब्ज और पाचन से जुड़ी समस्याएं दूर होने लगती हैं।

डायबिटीज को नियंत्रित करे – स्वाद में मीठा सीताफल डायबिटीज की पेचीदगी को कम करता है, शरीर में मौजूद ब्लड शुगर को अवशोषित करने में सहायता करता है और शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ने से रोकता है।

एनीमिया को दूर भगाये – आयरन की कमी से होने वाले रोग एनीमिया को दूर करने में सीताफल बहुत मददगार साबित हो सकता है क्योंकि इसमें आयरन की प्रचुरता मौजूद होती है।

कैंसर से बचाव करे – अध्ययन बताते हैं कि सीताफल में ऐसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो कैंसर से बचाव कर सकते हैं। इसमें मौजूद एसिटोजिनिन और ऐलकोनॉइड्स ट्यूमर सेल्स के विकास को रोकते हैं।

प्रेग्नेंसी में सहायक – सीताफल में फोलेट की ज्यादा मात्रा पायी जाती है जो सुरक्षित प्रेग्नेंसी में मदद करती है और इस दौरान गर्भस्राव की संभावना को भी कम करती है।

गठिया में राहत दिलाये – रिसर्च के अनुसार सीताफल की पत्तियों का काढ़ा रुमेटिक गठिया में राहत दिलाता है। ये एसिड को ख़त्म करके जल संतुलन को बनाये रखता है जिससे गठिया का दर्द कम होने लगता है और गठिया से होने वाली सूजन भी कम होती है।

दोस्तों, अब आप सीताफल के ढेरों फायदे जान चुके हैं लेकिन इसके सेवन के समय ये ध्यान रखे कि इसके बीज विषैले होते हैं इसलिए उनका सेवन ना करें और ज्यादा मात्रा में सीताफल खाने से अपच की समस्या भी हो सकती है।

इसके अलावा कुछ लोगों में सीताफल खाने से एलर्जी भी होने लगती है इसलिए इन सारी बातों का ध्यान रखते हुए सीताफल को अपने आहार में शामिल कर लीजिये और इसकी मिठास और स्वाद के साथ अच्छी सेहत भी पा लीजिये।

हमने आपसे सिर्फ ज्ञानवर्धक जानकारी साझा की है। अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर ले। सदैव खुश रहे और स्वस्थ रहे।

“एंटीबायोटिक क्या होती हैं?”

शेयर करें