स्मॉग क्या है और इससे बचाव के उपचार

जनवरी 9, 2018

आजकल देश-दुनिया के कई शहरों में प्रदूषण का स्तर इतना ज़्यादा बढ़ गया है कि वहां की हवा ही जहरीली हो गयी है और उसमें सांस लेना भी बीमारियों को बुलावा देने जैसा हो गया है। स्मॉग शब्द स्मॉक और फॉग से मिलकर बना है यानी धुआँ और कोहरा मिलकर स्मॉग बनाते हैं। सड़कों पर दिन-रात दौड़ने वाली ढ़ेरों गाड़ियां, खतरनाक और जहरीली गैसें वातावरण में छोड़ती हैं, साथ ही फैक्ट्रियों से निकलने वाली गैसें और धुएं भी हवा को इतना दूषित कर देते हैं कि सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है। ये जहरीले गैसें, धुएं और कोहरा मिलकर स्मॉग बनाते हैं जिसका असर कई दिनों तक हवा में बना रहता है। तेज़ हवा चलने या बारिश होने पर ही स्मॉग का असर ख़त्म होता है।

गाड़ियों और फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुएं में राख, सल्फर, नाइट्रोजन, कार्बन डाई ऑक्साइड के अलावा कई खतरनाक गैसें मौजूद होती हैं जो कोहरे के संपर्क में आकर स्मॉग बनाती है।

स्मॉग को सामान्य समझने की भूल नहीं करनी चाहिए क्योंकि स्मॉग से शरीर पर ऐसे दुष्प्रभाव पड़ रहे हैं-

स्मॉग से बचाव के लिए आपको कुछ सावधानियां रखने की जरुरत है-

स्मॉग से बचाव के लिए इन चीज़ों का सेवन करें–

दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि स्मॉग क्या होता है और इससे बचाव के लिए क्या प्रयास किये जाने चाहिए इसलिए सर्दी के दिनों में इससे खुद का और खुद के परिवार का बचाव करिये और स्वस्थ बने रहिये।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“पीतल के बर्तन के फायदे जानकर आप दंग रह जायेंगे”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

शेयर करें