स्मॉग क्या है और इससे बचाव के उपचार

आजकल देश-दुनिया के कई शहरों में प्रदूषण का स्तर इतना ज़्यादा बढ़ गया है कि वहां की हवा ही जहरीली हो गयी है और उसमें सांस लेना भी बीमारियों को बुलावा देने जैसा हो गया है। स्मॉग शब्द स्मॉक और फॉग से मिलकर बना है यानी धुआँ और कोहरा मिलकर स्मॉग बनाते हैं।

सड़कों पर दिन-रात दौड़ने वाली ढ़ेरों गाड़ियां, खतरनाक और जहरीली गैसें वातावरण में छोड़ती हैं, साथ ही फैक्ट्रियों से निकलने वाली गैसें और धुएं भी हवा को इतना दूषित कर देते हैं कि सांस लेना भी मुश्किल हो जाता है। ये जहरीले गैसें, धुएं और कोहरा मिलकर स्मॉग बनाते हैं जिसका असर कई दिनों तक हवा में बना रहता है। तेज़ हवा चलने या बारिश होने पर ही स्मॉग का असर ख़त्म होता है।

smog-3 स्मॉग क्या है और इससे बचाव के उपचार

गाड़ियों और फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुएं में राख, सल्फर, नाइट्रोजन, कार्बन डाई ऑक्साइड के अलावा कई खतरनाक गैसें मौजूद होती हैं जो कोहरे के संपर्क में आकर स्मॉग बनाती है।

स्मॉग को सामान्य समझने की भूल नहीं करनी चाहिए क्योंकि स्मॉग से शरीर पर ऐसे दुष्प्रभाव पड़ रहे हैं –

  • फेफड़ों और सांस से जुड़ी गंभीर बीमारी का ख़तरा
  • ब्लड प्रेशर के मरीजों को ब्रेन स्ट्रोक आने का खतरा
  • अस्थमा के मरीजों को अटैक आने का खतरा
  • 2 साल से बड़े बच्चों में अस्थमा की बीमारी बढ़ी है
  • 15 साल से कम उम्र के बच्चे ब्रोंकाइटिस बीमारी से ग्रस्त
  • आँखों में जलन और आँखें लाल होना
  • त्वचा सम्बन्धी रोग बढ़ना
  • बाल ज्यादा झड़ना

smog1 स्मॉग क्या है और इससे बचाव के उपचार

स्मॉग से बचाव के लिए आपको कुछ सावधानियां रखने की जरुरत है –

  • अगर बाहर स्मॉग हो तो कोशिश करे कि घर से कम से कम बाहर निकलें।
  • सुबह की बजाये धूप निकलने पर, घर से बाहर जाएँ।
  • घर से निकलते समय मास्क या रुमाल से अपने मुँह को ढ़ककर निकलें।
  • स्मॉग के दिनों में पार्क में जाकर व्यायाम करने की बजाए घर पर ही व्यायाम करने का प्रयास करें क्योंकि सुबह सूरज की किरणों के साथ स्मॉग और भी ज्यादा खतरनाक हो जाता है।
  • आप चाहे तो घर की हवा को शुद्ध रखने के लिए, बाजार में मिलने वाले एयर प्यूरिफायर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
  • अस्थमा के मरीजों को घर पर ही रहना चाहिए और सामान्य व्यक्ति को भी अगर साँस लेने में तकलीफ महसूस हो तो बिना देर किये डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
  • व्यायाम की बजाये योग-प्राणायाम करें।

स्मॉग से बचाव के लिए इन चीज़ों का सेवन करें –

  • हल्दी वाला दूध पियें
  • ओटमील जरुर खाएं
  • शहद से अपनी इम्युनिटी बढ़ाएं
  • जैतून के तेल में खाना पकाएं
  • तुलसी और अदरक की चाय पीयें
  • नीम का प्रयोग करें
  • खाने में लहसुन ज़रूर खाएं
  • विटामिन-सी से भरपूर फलों का सेवन करें

दोस्तों, अब आप जान चुके हैं कि स्मॉग क्या होता है और इससे बचाव के लिए क्या प्रयास किये जाने चाहिए इसलिए सर्दी के दिनों में इससे खुद का और खुद के परिवार का बचाव करिये और स्वस्थ बने रहिये।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“पीतल के बर्तन के फायदे जानकर आप दंग रह जायेंगे”

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

अगर आप किसी विषय के विशेषज्ञ हैं और उस विषय पर अच्छे से लिख सकते हैं तो जागरूक पर जरुर शेयर करें। आप अपने लिखे हुए लेख को info@jagruk.in पर भेज सकते हैं। आपके लेख को आपके नाम, विवरण और फोटो के साथ जागरूक पर प्रकाशित किया जाएगा।
शेयर करें

रोचक जानकारियों के लिए सब्सक्राइब करें

Add a comment