अकसर सिगरेट पीने वाले बनाते है यह बहाने

यह जानते हुए की सिगरेट कितनी हानिकारक है फिर भी लोग इसका सेवन करते है। ऐसा कई बार देखा गया है की ये लोग बड़े ही अजीब अजीब से तर्क भी देते है जिनका कोई अर्थ नहीं होता है। आज हम ऐसे ही कुछ तर्क बताएँगे जिनको आपने भी अक्सर सुना होगा।

* “सिगरेट पीना एक फैशन है इससे हम स्मार्ट लगते है और इम्प्रैशन अच्छा पड़ता है ” जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है।

* “सिगरेट पीने से दिमाग को शांति मिलती है ” जबकी यह सिर्फ भ्रम है ऐसा कुछ भी नहीं है इससे आप मानसिक रोगी भी बन सकते है।

* “सिगरेट पीने से दोस्ती मज़बूत होती है ” देखा जाये तो यह बात बिलकुल निराधार है जिसका वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं है। अगर कोई दोस्त आपको सिगरेट पीने के लिए उकसाता है तो बेहतर है सिगरेट और ऐसे दोस्त दोनों को छोड़ दिया जाये।

* “इसकी खुशबू से हमें प्यार है ” यह भी बस लत ही है और कुछ नहीं है।

* “सुबह सुबह प्रेशर नहीं बनता इसलिए सिगरेट की कश लगाते हैं” लेकिन ये सिर्फ मानसिकता है ऐसा कुछ नहीं होता।

* “ऑफिस की टेंशन और वर्क लोड के कारण सिगरेट पीनी पड़ती है ताकि टेंशन कम हो” लेकिन ये सिर्फ लत है जिसे टेंशन कम करने का बहाना बना लिया जाता है।

* “घर परिवार की जिम्मेदारी और जिंदगी में निराशा के चलते सिगरेट का सहारा लेना पड़ता है” लेकिन ये भी सिर्फ एक मन का भ्रम है क्योंकि सिगरेट किसी परेशानी का हल नहीं होती।

और भी कई ऐसे कारण है और अजीब तर्क है जो एक सिगरेट पीने वाला देता है जिनका कोई आधार नहीं है। तो जितना जल्दी हो सके इस लत को छोडिए और एक खुशहाल जीवन की ओर अग्रसर हों। “नशे को ना और जीवन को हाँ कहें” इसी बात को जीवन का मूल मन्त्र माने।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“कड़ी मेहनत के बावजूद भी क्या कारण है कि हम सफल नहीं हो पाते?”