आपकी स्मरण शक्ति के कुछ ऐसे तथ्य जिनको आप नहीं जानते होंगे

फरवरी 17, 2016

स्मरण शक्ति के बिना हमारे जीवन का कोई आधार नही है। यही वो शक्ति है जिस वजह से हमारी ज़िंदगी एक व्यवस्थित रूप से चलती है। शायद ही हम में से कई लोगों ने इस शक्ति का महत्व समझा होगा और ऐसा होना भी स्वाभाविक है क्योँकि कभी भी हमारा इस तरफ ध्यान ही नहीं जाता है। तो चलिए आपको आज इसी स्मरण शक्ति की शक्तियों और तथ्यों के बारे में अवगत कराते हैं।

1. बच्चे के पैदा होने के 20 हफ्ते बाद स्मरण शक्ति बनना शुरू हो जाती है। इससे पहले इसका कोई अस्तित्व नहीं होता है।

2. हमारे दिमाग में हम इतना सब कुछ समाहित कर सकते हैं जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। सीधे शब्दों में यह कहा जा सकता है की दिमाग में कभी ऐसी स्थिति नहीं आती जहाँ आपको ऐसा लगे की अब याद करने की जगह नहीं है।

3. सोना हमारी स्मरणशक्ति को मज़बूत बनाये रखने के लिए बहुत आवश्यक है इसके बिना हमारी स्मरणशक्ति क्षीण होने लगती है।

4. वृद्ध लोगों की स्मरणशक्ति कम इसीलिए हो जाती है क्योँकि जब शारीरिक रूप से इंसान असक्षम हो जाता है वो अपने दिमाग का इस्तेमाल कम कर देता है। जिसका सीधा असर स्मरण शक्ति पर पड़ता है।

5. हम कई बार कुछ चीज़ों के बारें में सोचते हैं जो कभी होता ही नहीं है मगर सोचने के बाद हम वैसा करते भी हैं। यह एक मानसिक विकृति है।

6. सामान्य रूप से देखी गयी चीज़ें हमें ज़्यादा समय तक याद रहती हैं।

7. आप जितना अच्छा सोचेंगे आपकी स्मरणशक्ति उतनी अच्छी होगी।

8. भावों के साथ बोलने से आप अपनी स्मरण शक्ति को मज़बूत कर सकते हैं।

9. हमारा दिमाग इस प्रकार से बना होता है जो हमारे बचपन के शुरुआती दिनों को अपनेआप भुला देता है।

10. ऐसा कई बार होता है की जब हम दरवाज़े से अंदर घुसते है तो हम याद करा हुआ कुछ भी भूल जाते हैं।

11. अगर आप पूरी नींद नहीं लेते हैं तो शायद ऐसा हो सकता है की आप वो भी याद रख लें जो कभी हुआ ही नहीं।

12. दिमाग में हर बार कई नयी तरंगें पैदा होती हैं जब भी हम कुछ नया सोचते या याद करते हैं।

13. यह बात बड़ी अजीब है की हमे बुरी घटनाएँ ज़्यादा अच्छी तरह से याद रहती हैं जबकि अच्छी बातें हम भूल जाते हैं।

14. ज्यादा शराब पी लेने से अगली सुबह हमे कुछ याद नहीं रहता और हम सोचते हैं की हम रात की बात भूल गए हैं लेकिन असल में ऐसा नहीं होता, दरअसल ज्यादा शराब पीने से हमारा दिमाग स्मरण शक्ति विकसित नहीं कर पाता और ऐसे में हमारा दिमाग ठीक से चीज़ों को याद नहीं रख पाता।

15. लगातार करीब 90 मिनट तक पसीने में तर रहने की स्थिति में आप हमेशा के लिये एक मनोरोगी बन सकते हो।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“मौत से पहले इंसान के दिमाग में क्या विचार आते हैं?”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें