कुछ ऐसे भारतीय जिन्होंने बदल डाली अपनी तकदीर

418

वो कहते हैं ना “जो आप सोच सकते हैं उसे पाना भी मुमकिन है” तो आज हम कुछ ऐसे ही लोगों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपने परिश्रम से अपनी तकदीर को पलट के रख दिया। यह लोग कोई बड़े लीडर नहीं है मगर इनके बारे में जानकार आपका जीवन के प्रति नजरिया बदलेगा।

1. नन्द किशोर चौधरी – CMD जयपुर रुग्स : इन्होने आज से कुछ साल पहले कुछ लोगों के साथ कारपेट बनाकर उन्हें बेचने का काम शुरू किया था। पर आज आप यह जान के हैरान हो जायेंगे की जयपुर रुग्स भारत की सबसे बड़ी कारपेट निर्यातक कंपनी है।

2. H. रामकृष्णन – पेशे से पत्रकार और SS म्यूजिक कंपनी के मालिक मगर इनके जीवन की शुरुआत इतनी आसान नहीं थी। मात्र 2 वर्ष की उम्र में इन्हे पोलियो हो गया था जिसमें इनके दोनों पैर ख़राब हो गए थे इसी वजह से यह कभी स्कूल भी नहीं जा पाये। मगर अपने जीवन में हर कार्य को निपुणता से करने के आदि रामकृष्णन ने न ही सिर्फ अपने मास्टर्स की डिग्री पूरी करी इसके अलावा उन्होंने 40 साल तक पत्रकारिता भी की और अपनी म्यूजिक कंपनी को स्थापित भी किया।

3. मनसुख भाई प्रजापति – मनसुख भाई क्ले कंपनी मिट्टीकूल के मालिक है। गुजरात में 2001 में आये भूकम्प में इनका सब कुछ नष्ट हो गया था। मगर इन्होने हार नहीं मानी उन्होंने अपने हुनर का सहारा लेते हुए क्ले से refrigrater बना कर पूरी दुनिया को आश्चर्यचकित कर दिया और पूरे विश्व में नाम कमाया।

4. पेट्रीसिया नारायण – सन्दीपः कंपनी की मालिक जब इनके पति की अकस्मात् मृत्यु हो गयी तब इन्होने अपने घर और 2 बच्चों को बिखरने नहीं दिया। उस समय इन्होने घर के बने आचार और जैम बेचना शुरू किया उस समय उन्हें प्रतिदिन 50 पैसे की कमाई हो जाती थी मगर आज के समय में यह कमाई 2 लाख से भी ज़्यादा हो गयी है। अब उनके 14 से भी ज़्यादा आउटलेट हैं और पूरे देश में कई रेस्टोरेंट भी हैं।

5. ज्योति रेड्डी CEO Keys Software Solutions, USA : एक कृषक के रूप में कार्य की शुरुआत करने वाली ज्योति उस समय 5 रूपये रोज़ कमाती थी। लेकिन जब 1998 में उनके गांव में नेहरू शिक्षा केंद्र खुला उस दिन से उनकी किस्मत ही बदल गयी। अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद इन्होने न ही ग्रेजुएशन पूरी की बल्कि इसके बाद उन्होंने अपनी सॉफ्टवेयर कंपनी भी खोली और आज वो USA में रहती हैं।

इन सभी लोगों को हमारा तहेदिल से सलाम।!

Add a comment