कोलेस्ट्रॉल कितना होना चाहिए? – कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण के कुछ उपाय

2378

कोलेस्ट्रॉल कितना होना चाहिए? हमारा शरीर ठीक ढंग से अपना कार्य करता रहे उसके लिए हमें एक निश्चित कोलेस्ट्रॉल की आवश्यकता होती है। लेकिन हमारी जीवन-शैली इतनी व्यस्त होती है कि हम अपने स्वास्थ्य की तरफ ध्यान ही नही दे पाते, जिसके परिणाम स्वरूप आज वर्तमान में हार्ट-अटैक, ब्लोकेज, उच्च रक्तचाप और हृदय की अन्य बिमारियाँ होना आम बात हो गई है। पहले यह सारी बिमारियाँ 40-45 के बाद आती थी लेकिन आज यह 20 वर्ष से भी कम उम्र के लोगों में होने लगी है जो हमारे लिए एक गंभीर समस्या है।

इन समस्याओं से निजात पाने का हमारे पास एक ही उपाय है कि हम स्वयं के प्रति जागरूक हो जायें। हमें हमारे शरीर के बारे में सामान्य ज्ञान की भी जानकारी होनी चाहिए। जब हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ता है तो दिल से सम्बंधित बिमारियाँ बढ़ने की भी संभावना बढ़ जाती है। तो आइये हम कुछ सरल आदतों को अपनाएं जिससे कोलेस्ट्रॉल का संतुलन उचित मात्रा में बना रहे।

1. अपनी जीवन-शैली को स्वस्थ बनाये। रात को जल्दी सोए और सुबह जल्दी उठे, समय पर नाश्ता और भोजन ग्रहण करे।

2. अपने ख़ान-पान में हरी सब्जियाँ, दालें, अनाज, मछली का तेल, फल या फलों का रस, सलाद जैसे व्यंजन का चुनाव करे क्योकि इन भोज्य पदार्थों में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा ना के बराबर होती है।

3. धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें क्योकि इनसे कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है।

4. दिन की शुरुआत योग और प्राणायाम से करे, कोलेस्ट्रॉल को कम करने में यह मुख्य सहायक है।

5. नियमित 30 मिनट तक पैदल चलें, सप्ताह में कम से कम पाँच दिन व्यायाम करे।

6. हरी और काली चाय का दिन में 2-3 बार सेवन करे। इन दोनों चाय में एंटीओक्सीडेंट होने के कारण यह कोलेस्ट्रॉल का स्तर घटाने में कारगर है।

7. कोलेस्ट्रॉल को शुरू में ही नियंत्रण में करना सबसे बढ़िया उपाय है।

8. मछली का तेल बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करने में बहुत सहायक है।

9. बासी और जंक फुड से परहेज करें। तली हुई चीज़ें, ज़्यादा चॉकलेट या मिठाई, बटर, पनीर जैसे वसायुक्त पदार्थों का सेवन कम करे।

10. रेशायुक्त भोजन को खाने में शामिल करें, यह शरीर के कोलेस्ट्रॉल को संतुलित बनाये रखता है।

11. वज़न अधिक है तो इसमें कमी लाने का नित्य प्रयास करे, जो भी खाये ताज़ा खाने का प्रयास करे।

इसे आप बिना दवा के भी घर पर थोड़े से प्रयास से कम कर सकते है. तो आइये जाने कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण के कुछ घरेलू और फायदेमंद नुस्खे –

1. प्याज – शोध के अनुसार प्याज बुरे कोलेस्ट्रॉल को ख़त्म और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। एक चम्मच शहद में बराबर मात्रा में प्याज का रस मिलाकर रोजाना पिएं।

2. नारंगी का रस – रोजाना 1-2 गिलास नारंगी का रस पिएं क्योकि इसमे विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है जो कोलेस्ट्रॉल को जल्दी नियंत्रण में लाता है। जूस की जगह आप नारंगी भी खा सकते है।

3. आँवला – रोज सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में आँवले का एक चम्मच पावडर मिला कर पिएं, जल्दी फ़र्क दिखेगा।

4. ऑट्स – अपने सुबह के नाश्ते में ऑट्स को शामिल करें। यह वज़न के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल का लेवल भी नियंत्रित रखता है।

5. बैंगन और बीन्स – इनके सेवन से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहता है, इन्हे अपने आहार में शामिल करे।

6. मेवे – रोजाना एक मुठी मिक्स मेवे खाने में शामिल करे क्योकि इनमें नेचुरल तेल के साथ प्रचुर मात्रा में फाइबर भी होता है जो शरीर की बहुत सी कमियों को दूर करने में मुख्य सहायक है।

7. धनिया – यह मधुमेह के साथ-साथ कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है। साबुत धनिया को रात में आधा गिलास पानी में भिगो दे। सुबह खाली पेट इस पानी को पिएं। कुछ ही महीनो में आराम नज़र आयेगा।

दो चम्मच धनिया को एक कप पानी में उबाल कर छान ले और दिन में एक से दो बार पिएं।

8. नारियल तेल – एक से दो चम्मच इस तेल को रोजाना अपने आहार में शामिल करे क्योकि इस तेल के सेवन से शरीर में वसा की मात्रा कम होती है तो कोलेस्ट्रॉल भी कम रहता है। यह एक आर्गेनिक तेल है।

9. लहसुन – इसमे एलिफिल नामक तेल होता है जो एंटीओक्सीडेंट का खजाना है। लहसुन में सल्फर भी खूब होता है जो हमारे शरीर के लिए एंटी ओक्सीडेंट का काम करता है। इसलिए कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने में लहसुन का कोई जवाब नही है।

10. पानी – पानी सभी बिमारियों में कारगर है। दिन में 8 से 10 गिलास पानी पिएं जिससे शरीर में रक्त का संचार सही तरीके से होता रहे। पानी वसा को कम करने में सहायक है।

यह कुछ सरल और आसान उपाय है जिसे आप अपने घर में बड़ी आसानी से प्रयोग में लाकर कोलेस्ट्रॉल पर कंट्रोल पा सकते है। हमारे द्वारा किये गये यह छोटे-छोटे प्रयास हमें बड़ी बिमारियों से बचा के रखते है। नियमित व्यायाम और संतुलित भोजन को अपने जीवन में प्राथमिकता दे।

इस बात का विशेष ध्यान रखे, कोलेस्ट्रॉल की समस्या अगर आपका पारिवारिक इतिहास है तो 35-40 साल की आयु के बाद साल में एक बार अपनी सामान्य जाँच अवश्य करवाते रहे। जिससे आप भी अवगत रहे कि आपका कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल में है या नही। क्योकि हमारे शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल का 50 से कम और बेड कोलेस्ट्रॉल का 100 से अधिक लेवल का होना घातक है। उम्र के साथ सतर्क रहने में कोई बुराई नही है। आपातकालीन स्थिति में जैसे हार्ट-अटैक आदि गंभीर समस्याओं में जितनी जल्दी हो सके मरीज को प्राथमिक उपचार दे और अस्पताल ले जाकर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे। हमारी ज़रा सी सतर्कता बड़े से बड़े ख़तरे को भी टाल सकती है।

हमारा उद्देश्य आपका सामान्य ज्ञान बढ़ाना है। कोलेस्ट्रॉल कितना होना चाहिए और पुर्ण रूप से इसके उपायों के बारे में जान पाएं उसके लिए आप अपने चिकित्सक से जानकारी ज़रूर ले। कोई भी उपाय करने से पहले आप अपने डॉक्टर से सलाह ज़रूर ले। आपकी समस्या के आधार पर डॉक्टर आपको सही उपचार देंगे।

धन्यवाद!

“पसलियों में दर्द का कारण और उपचार”
“दांतों की समस्या में घरेलू उपचार”
“जिका विषाणु के लक्षण, बचाव एवं उपचार”
“कैसे करें सफेद दागों का घरेलू उपचार?”

Add a comment