सुबह जल्दी उठने की आदत के है कई आश्चर्यजनक फायदे

678

सदियों पुरानी एक कहावत है जिसमें सफलता और सेहत का मूलमंत्र बचपन से ही सिखाया जाता रहा है “जल्दी सोना और जल्दी उठना”!! लेकिन आजकल भागदौड़ वाली जिंदगी और समय की मार के कारण यह मूलमंत्र हमारे हाथ से छूटता जा रहा है। दूसरी प्राथमिकता के सामने शायद जल्दी उठना अब हमारी प्राथमिकता ना हो या जल्दी उठने की अब कोई जल्दी ही ना हो। लेकिन क्या आप जानते हो सुबह जल्दी उठने की आदत इंसान को धनवान बनाती है। यहाँ धनवान का मतलब है सेहत का धन! अगर सेहत अच्छी होगी तो सभी काम भी समय पर होंगे चाहे वो काम घर का हो, पढ़ाई का हो या दफ्तर का हो. धनवान का दूसरा आशय समय की बचत है। सुबह जल्दी उठने से दिनचर्या के सभी कामों को अच्छे से सुव्यवस्थित कर सकते है जिससे समय की बचत होगी। क्या समय की बचत धन की बचत के समान नहीं है।

अगर आप चाहते हो की सफलता आपके कदम चूमे, तो सुबह जल्दी उठने का कोई विशेष कारण तलाश करे जो आपको जल्दी उठने के लिए प्रेरित करेगा। जिन लोगों में यह आदत बरकरार है वे सिर्फ स्वस्थ ही नहीं बल्कि काम के हिसाब से समय को भी अच्छे से व्यवस्थित कर लेते है। अपने कई बार बड़े-बुज़ुर्गो से सुना होगा जब भी वे प्रार्थना करते थे तो बोलते थे ”हे भगवान मुझे जल्दी उठने की शक्ति देना” क्योंकि वो जानते थे समय पर काम करने से पॉजिटिव रिजल्ट आता है और यही पॉजिटीविटी सफलता की ओर अग्रसर करती है। कई कामयाब लोगों की कामयाबी का एक कॉमन कारण यह भी है की वे सुबह की शुरुआत बहुत जल्दी करते है।

हम अपने लेख में सुबह जल्दी उठने के कई फायदे बताएँगे जिसे अपनाकर आप अपनी दिनचर्या को तुलनात्मक रूप से बेहतर बना सकते है। लेकिन आइये कुछ ऐसे सफल लोगों के उदाहरण पर नजर डाले जिनके लिए सुबह जल्दी उठना एक वरदान की तरह साबित हुआ। दोस्तों हम एक बात क्लियर करना चाहते है सिर्फ सुबह जल्दी उठने से आप सफल नहीं हो सकते। सफलता के लिए जी तोड़ मेहनत की भी जरूरत पड़ती है, सुबह जल्दी उठने की आदत तो सफलता की पहली सीढ़ी है।

उदाहरण पढ़िए और फॉलो कीजिए –

इंदिरा नूई – यह पेप्सिको की सीईओ है. एक इंटरव्यू में इनका कहना था की सुबह 4:30 – 5 बजे के बाद तक वो कभी सोती रही है यह उन्हें याद नहीं। अपनी कामयाबी और मैनेजमेंट स्क‍िल्स का पूरा श्रेय वह अपनी इस आदत को देती है।

पद्मश्री वॉरियर – यह सिस्को की सीटीओ है. इनका रूटीन भी सुबह 4:30 बजे उठने का है। उठने के बाद बिना समय गवाए यह एक घंटे में ई-मेल, वर्क आउट, खबरें और अपने बेटे को तैयार करने में देती है, उसके बाद सुबह 8:30 बजे तक वो ऑफीस में होती है।

जैक डॉर्सी – यह ट्विटर के फाउंडर है. यह ट्विटर और स्क्वायर के सीईओ भी है। अपने दिन के आठ-दस घंटे ट्विटर को देते है तो स्क्वायर के लिए भी इतना ही समय निकालते है। यह सिर्फ पाँच घंटे की नींद के बाद सुबह उठकर दिन की प्लानिंग करना कभी नहीं भूलते।

उद्योगपति नवीन जिंदल, प्रधानमंत्री मोदी, एप्पल के सीईओ टिम कुक आदि ऐसे कई नाम है जिनके लिए सुबह जल्दी उठना प्राथमिकता रही। सुबह जल्दी उठकर आप अपने सपनों को पूरा करने में अधिक समय दे सकते है। समय सबके पास बराबर है फिर ऐसा क्यों, कोई सफल तो कोई असफल।

सुबह जल्दी उठने के फायदे –

1. ईश्वर का अभिवादन – अमृत वेले दिन की शुरुआत बहुत अच्छी होती है। इस वक्त हम शांत मन से अपने परमपिता का स्मरण कर सकते है और धन्यवाद दे सकते है की ”हे प्रभु तेरा शुक्रिया की इतनी सुंदर सुबह को देखने के लिए मैं जीवित और सुरक्षित हूँ” ध्यान के माध्यम से प्रभु के करीब होने की अनुभूति कर सकते है। दलाई लामा कहते है – सुबह अपनी सोच को ऊर्जा से भर दो और कहो मेरा जीवन अनमोल है मैं इसका सही सदुपयोग करूँगा, अपने आत्मविश्वास में दृढ़ता लाऊंगा, दूसरों के हित में जितना कर सकता हूँ करूँगा, दूसरों के लिए अच्छे विचार रखूँगा, किसी से घृणा नहीं करूँगा और ना ही किसी का अहित चाहूँगा। इस तरह से हम सुबह का वक्त प्रार्थना में व्यतीत कर सकते है।

2. सूर्योदय की झलक – देर से उठने वाले लोग प्रकृति की आलौकिक छवि को नहीं देख पाते। सुबह के वक्त प्रकृति अपूर्व रंगों की छटा बिखेरती है। इस वक्त सूर्य की ऊर्जा में भी बहुत शीतलता होती है। सुबह की यह मध्यम धूप शरीर की हड्डियों को मजबूती प्रदान करती है यानी विटामिन डी की भरपूर मात्रा प्राकृतिक तौर पर मिलती है। ऐसे समय में टहलने की तो बात ही कुछ ओर है। अकस्मात मुँह से निकल ही जाता है ”वाह! कितनी शानदार सुबह है, वाकही में”

3. दिन की पॉजिटिव शुरुआत – देर से उठने के बाद सभी कामों को जल्दी से करने की जद्दोजहद में कब और देर हो जाती है पता ही नहीं चलता। नतीजा! ऑफीस जाने में देरी, बच्चों की बस छूट जाती है, अपने कार्य में पिछड़ना, निराशा, नकारात्मकता, अनिंद्रा, चिड़चिड़ापन के आदी हो जाते है। लेकिन वही सुबह जल्दी उठकर अपने सभी कामों को पर्याप्त समय के साथ सुव्यवस्थित कर सकते है। जल्दी उठकर सुबह की 8 बजे तक इतने काम किए जा सकते है की आप कल्पना भी नहीं कर सकते। देरी से उठने वाले लोग जब आपाधापी में लगे होते है उस वक्त आप अपने काम पर जाने की तैयारी कर रहे होते हो। सवेरे जल्दी उठकर इससे अच्छी शुरुआत भला और क्या हो सकती है।

4. दिन की शुरुआत शांति से होगी – सुबह जल्दी उठने वाले लोगों के लिए यह एक वरदान की तरह है। सुबह के वक्त बच्चों का खेलकूद का शोर नहीं होता, गाड़ियों और टीवी की आवाज नहीं होती, प्रदूषण नहीं होता, अगर होता भी है तो ना के बराबर। सुबह का समय बहुत ही सकारात्मक और शांति से भरा होता है। पक्षियों की मधुर ध्वनि, ठंडी हवा, प्रकृति का अपना संगीत, पत्तों का हिलना, फ्रेश ऑक्सिजन, ओस की बूंदे क्या यह सब कुछ सुखद और खूबसूरत नहीं लगता। ऐसे ऩज़ारे को देखने के लिए ना जाने लोग कितनी दूर जाते है जबकि प्रकृति ने ये मनोहर दृश्य सबके लिए फ्री में रखा है। बस जल्दी उठो, जल्दी उठने से आप इस समय को अपना पसंदीदा समय बना सकते है। इस समय मानसिक शांति को बल मिलता है। खुद को समय दे सकते है, कुछ पढ़ सकते है सोच सकते है, खुली हवा में सांस ले सकते है, कसरत कर सकते है या फिर ऐसा कुछ भी जो आपको अच्छा लगता है जो आप समय की कमी के कारण नहीं कर पाते।

5. चाय-नाश्ते का मजा – सवेरे जल्दी उठकर चाय की चुस्की और नाश्ते का मजा अखबार पढ़ते हुए ले सकते है। जरा सोचिए यह कितना सुकूनभरा होगा, जिसका मजा आप पूरे दिन नहीं ले पाते क्योंकि जीवन में भागदौड़ की कोई कमी नहीं, आखिर समय ही कहाँ होता है दिन में। डॉक्टर के अनुसार सुबह का नाश्ता बहुत ही जरूरी माना गया है इसकी कमी से शरीर धीमी गति से काम करता है, इसलिए नाश्ता पेट भर होना चाहिए। ऐसे में आप जल्दी उठते है तो नाश्ते के लिए भी पर्याप्त समय मिल जाता है। इतना ही नही आप शांति से परिवार के साथ बैठकर नाश्ते का मजा ले सकते है, क्योंकि पूरे दिन की थकान भरी रूटीन में परिवार के लिए समय ही कहाँ होता है।

6. दिमाग और शरीर तरोताजा रहता है – सुबह जल्दी उठने से आप अपने दिमाग को बहुत तेज कर सकते हो जैसे किताबें पढ़कर, ध्यान कर के, ज्ञान से भरे चैनल देखकर, रिविजन कर सकते हो, यह भी सोच सकते हो क्या काम बाकी है, क्या-क्या किया जा चुका है, कैसे करना है कब करना है इत्यादि। इस तरह से आप समय की बचत कर सकोगे जिससे दिमाग शांत रहेगा। जल्दी उठने के लिए आपको जल्दी सोना होगा, इससे आपके शरीर और दिमाग को पूरा आराम मिलेगा। जब नींद अच्छी आएगी तो सेहत दुरुस्त रहेगी और आप दिन की शुरुआत तरोताज़गी से करेंगे।

7. दिन खराब नहीं होगा – देरी से उठने का मतलब भागदौड़, तनाव, दबाव बना रहता है। ना खबर पढ़ने का समय ना नहाने का ना नाश्ते का ना बच्चों व परिवार के लिए समय, ना कसरत के लिए समय, परिणाम सेहत का खराब। जल्दी उठिए नींबू पानी पीजिए सारे कामों को व्यवस्थित कीजिए। जल्दी उठने से सभी निजी काम जल्दी हो जाते है फिर आपके पास परिवार के लिए समय होगा, रिश्ते अच्छे रहेंगे तो कोई तनाव नहीं होगा और परिणाम दिन खराब नही होगा। आपका भी दिन अच्छा जाएगा और परिवार का भी।

सुबह जल्दी उठने से कार्य में रचनाशीलता बढ़ती है, क्योंकि इस वक्त एनर्जी का लेवल बहुत हाई होता है, एक अच्छा लक्ष्य निर्धारित कर पाते है, काम पर आना-जाना समय पर होता है, लोगों से मिलने-जुलने का समय मिलता है। शाम को जल्दी फ्री होंगे तो परिवार को समय दे पाएँगे जो की बहुत जरूरी है। आपकी जीवनशैली नियमित होगी जिसका बहुत सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा आप पर। जल्दी उठने से आप अपने कामों और जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए पर्याप्त समय दे पाते है जो आपकी मानसिक शांति के लिए बेहद जरूरी है। अचानक कोई भी काम आ जाने पर भी आप दबाव महसूस नहीं करेंगे क्योंकि आपके पास समय होगा। तो दोस्तों, आज से ही जल्दी उठने के मूलमंत्र को अपनाइए और अपनी सेहत को दुरुस्त रखिए।

दोस्तों! हमने यह आर्टिकल अपने प्रैक्टिकल अनुभव व ज्ञान के आधार पर आपके साथ शेयर किया है। इन उपायों को अपने बेहतर और अच्छी लाइफ के लिए फॉलो कीजिए। अगर आप रात्रिजीवी है तो उसमें जल्द बदलाव लाइए। किसी भी आदत को बदलने में थोड़ी मुश्किलों का आना संभव है लेकिन कोशिश कुछ भी कर सकती है। आपकी यह आदत आपको शिखर तक लेकर जाएगी।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“अगर आपको भी सुबह उठकर थकावट लगती है तो ये टिप्स अपनाएं”
“सुबह उठकर पानी पीने से होते हैं ये जबरदस्त स्वास्थ्य लाभ”

Add a comment