सुबह उठने का सही समय क्या है?

जनवरी 18, 2018

आपने ये ज़रूर सुना होगा कि सुबह उठने का सही समय तो ब्रह्म मुहूर्त में होता है यानी सुबह बिस्तर छोड़ देने का सही समय सुबह 4 से 5.30 बजे तक का माना गया है। हमारे दिन की शुरुआत सुबह उठने के साथ ही शुरू होती है और अगर सुबह उठने का सही समय हो तो पूरा दिन अच्छा बीतना तय हो जाता है। ऐसे में सुबह उठने का सही समय ब्रह्म मुहूर्त माने जाने के कुछ कारण हैं जिन्हें आपको भी जानना चाहिए ताकि आप इस समय उठने के महत्व को जान सकें। तो चलिए, आज आपको बताते हैं ब्रह्म मुहूर्त क्यों हैं सुबह उठने का सही समय-

शरीर स्वस्थ रहता है – सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठने का सबसे पहला और सबसे बड़ा फायदा होता है अच्छी सेहत। सुबह 4 से 5.30 बजे तक वायुमंडल में यानी हमारे चारों तरफ ऑक्सीजन ज़्यादा होती है। वैज्ञानिक खोजों ने भी साबित किया है कि इस समय ऑक्सीजन गैस की मात्रा ज्यादा होती है और सूर्योदय हो जाने के बाद ऑक्सीजन कम होने लगती है और कार्बन डाईऑक्साइड बढ़ने लगती है। ऐसे में आप समझ ही गए होंगे कि प्राणवायु कही जाने वाली ऑक्सीजन जिस समय शरीर को ज्यादा मिलेगी, उस समय शरीर को बहुत लाभ मिलेगा और शरीर स्वस्थ बनेगा।

सफलता और समृद्धि मिलती है – कहा जाता है कि ब्रह्म मुहूर्त में उठने से सफलता और समृद्धि प्राप्त होती है। आइये इसका कारण जानें। सुबह जल्दी उठने से दिनभर के कार्य और योजनाएं बनाने के लिए पर्याप्त समय मिल जाता है और देर से उठने पर होने वाली हड़बड़ी का सामना नहीं करना पड़ता है। सुबह के समय शांत वातावरण में मानसिक शांति मिलती है जिसके कारण सही निर्णय लेने में स्थिरता और स्पष्टता होती है। इसी कारण सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठने वाले विद्यार्थी, बिजनेसमैन और हर स्तर के लोग सफल होते हैं।

स्फूर्ति बनी रहती है – देर तक सो लेने के बाद भी आपने महसूस किया होगा कि आप दिनभर ज़्यादा सुस्त बने रहते हैं जबकि सुबह जल्दी उठने पर आप पूरे दिन स्फूर्ति महसूस करते हैं और हर काम को बड़ी आसानी से पूरा करते रहने में उत्साह और एनर्जी भी अनुभव करते हैं। ऐसे में बेहतर तो यही होगा कि हर दिन को ऊर्जा से भरपूर रखने के लिए ब्रह्म मुहूर्त में उठा जाए।

ये समय प्रकृति का संकेत है – ब्रह्म मुहूर्त प्रकृति का संकेत है कि सुबह हो गयी है। इस समय मुर्गे बांग देने लगते हैं, पक्षियों की चहचहाहट सुनाई देने लगती है। ऐसे में लगता है कि प्रकृति भी इसी समय जाग रही हो। ऐसे में प्रकृति के इस संकेत को समझकर देखिये, ऐसा करके आप प्रकृति को करीब से देख पाएंगे और इसका आनंद देर तक सोने के आनंद से कहीं ज़्यादा ही होगा।

दोस्तों, देर तक सोना और आलस्य के चलते जल्दी नहीं उठ पाना शायद आपकी मुश्किल भी रही होगी लेकिन अब आप जान चुके हैं कि सुबह उठने का सही समय क्या है और इस समय उठने से क्या फायदे मिलते हैं।

तो बस, ऐसे में अगर आप ब्रह्म मुहूर्त में ही उठते हैं तो इस समय को बनाये रखें और अगर आप देर से उठने वालों में से हैं तो धीरे-धीरे ही सही, अपने उठने के समय को सही करना शुरू कर दीजिये और हो सके तो एक बार ब्रह्म मुहूर्त में उठकर देखिये, शायद इसके बाद आप जान जाएंगे कि आपके उठने का सही समय भी यही होना चाहिए।

आपको यह लेख कैसा लगा? अगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ है, हमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

“ब्रह्मकुमारी क्या है और क्या है राजयोग”

अगर आप हिन्दी भाषा से प्रेम करते हैं और ये जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी तो जरूर शेयर करें।
शेयर करें