टैक्स क्यों लगाया जाता है?

आइये जानते हैं टैक्स क्यों लगाया जाता है। हर साल के बजट में एक ख़बर जो सबसे ज्यादा सुर्ख़ियों में रहती है वो होती है टैक्स से जुड़ी ख़बर। हर वर्ग का व्यक्ति जानना चाहता है कि इस साल उसे टैक्स में कितनी राहत मिलेगी या कितना टैक्स बढ़ाकर अदा करना होगा।

ऐसे में आप भी टैक्स के बारे में जानकारी लेना चाहते होंगे इसलिए आज बात करते हैं टैक्स के बारे में और जानते हैं टैक्स क्यों लगाया जाता है।

टैक्स क्यों लगाया जाता है? 1

टैक्स क्यों लगाया जाता है?

सरकार को अपने नागरिकों को सुविधाएँ देने के लिए बहुत ज्यादा खर्चा करना पड़ता है ताकि सरकार अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले नागरिकों और संस्थाओं को बेहतर सुविधाएँ उपलब्ध करा सकें। इसके लिए सड़क, बिजली और पानी, स्वास्थ्य सेवाएं, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं के अलावा सुरक्षा और प्रशासन पर भी बहुत खर्च करना होता है।

इसके अलावा किसानों और गरीब लोगों को भी बहुत-सी सुविधाओं पर दी जाने वाली सब्सिडी भी इसी खर्च का हिस्सा होती हैं। इस खर्च को पूरा करने के लिए भारत सरकार द्वारा दो तरह के टैक्स लगाए जाते हैं-

पहला टैक्स – लोगों की आमदनी में से कुछ हिस्सा लेना जिसे डायरेक्ट टैक्स या प्रत्यक्ष कर कहा जाता है। इनकम टैक्स इसी श्रेणी में आता है।

दूसरा टैक्स – सेवाओं और वस्तुओं के उपयोग पर टैक्स लगाना यानी इनडायरेक्ट टैक्स या अप्रत्यक्ष कर।

डायरेक्ट टैक्स में सबसे बड़ा टैक्स इनकम टैक्स ही होता है और सरकार देश के उन सभी नागरिकों और संस्थाओं से इनकम टैक्स वसूल करती है जिनकी आय टैक्स चुकाने के दायरे में आती है।

इनकम टैक्स देने के लिए ही इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल किया जाता है और इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने में देरी करने पर 10,000 रुपये तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है इसलिए समय रहते टैक्स अदा करके देश के समझदार और जागरुक नागरिक बने रहिये।

उम्मीद है जागरूक पर टैक्स क्यों लगाया जाता है कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

दिमाग में नकारात्मक विचार क्यों आते हैं?

जागरूक यूट्यूब चैनल