बच्चोँ को सिखाएँ मनी मंत्रा

244

यह सच है कि पैसा ही सब कुछ नहीँ होता। लेकिन इस सच्चाई से भी मुंह नहीँ मोडा जा सकता कि जीवन की आवश्यकताओँ की पूर्ति के लिए हमेँ पैसे की आवश्यकता पडती है। इसलिए यह न सिर्फ हमारी आज की जरूरत है बल्कि आने वाली पीढी को भी इसके महत्व के बारे मेँ सिखाना व समझाना बेहद जरूरी है। बच्चोँ को पैसे की अहमियत बडी-बडी बातेँ करके नहीँ सिखाई जा सकती, बल्कि उन्हेँ समझाने के लिए हमेँ उनके लेवल पर सोचकर ही कुछ कदम उठाने होंगे-

क्लीयर हो कांसेप्ट

जब बच्चोँ को यह पता होगा कि पैसे सोच-समझकर खर्च करना किसलिए आवश्यक है तो वह खुद-ब-खुद अनावश्यक खर्च नहीँ करेंगे। इसके लिए हमेँ कुछ अनोखे तरीके अपनाने होंगे। उन्हेँ बताएँ कि अब उन्हेँ पॉकेट मनी मिलती है, इसलिए अपनी छोटी-छोटी जरूरतेँ वे खुद ही पूरी करेँ। मसलन, अगर वह घर मेँ दोस्तोँ को पार्टी दे रहे हैँ या पिकनिक पर जा रहे हैँ तो अपनी पार्टी के लिए स्नैक्स वह खुद ही खरीदेँ। इससे वह आगामी अवसर के लिए अभी से सेव करना शुरू कर देंगे और जल्द ही पैसे की वैल्यू भी समझ जाएंगे। याद रखेँ कि बच्चोँ को डांटकर या गुस्सा करके कभी भी कुछ नहीँ सिखाया जा सकता।

बनेँ रोल मॉडल

हर बच्चे के लिए उसके माता-पिता ही उसके आदर्श होते हैँ। वह बहुत सी आदतेँ अपने घर से ही सीखता है। आखिरकार हर बच्चे का स्कूल उसका घर ही होता है और माता-पिता उसके प्रथम शिक्षक। इसलिए अगर आप बच्चे की गलत जिद के कारण या अन्य वजहोँ से फालतू खर्च करेंगे तो वह जीवन मेँ कभी भी पैसे की कद्र नहीँ कर पाएगा। बच्चे के सामने इतनी सेविंग भी न करेँ कि वह कंजूस ही बन जाए। उसे कंजूस नहीँ बल्कि समझदारी से खर्च करना सिखाएँ।

छोटे लेकिन कारगर कदम

बच्चोँ को मनी मैनेजमेंट सिखाने के लिए बहुत बडे कदम उठाने की आवश्यकता नहीँ है। आप छोटे लेकिन कारगर कदम उठा सकते हैँ। इसके लिए आप बच्चे को पिग्गी बैंक व एक डायरी दे। जिससे वह अपनी सेविंग व खर्च का हिसाब रख सके। साथ ही उसे डायरी की मदद से सेल्फ-एनालिसिस करने मेँ भी आसानी होगी। आप बच्चे के लिए कुछ छोटे गोल भी सेट कर सकते हैँ। शुरूआत मेँ उसे पैसे सेव करने मेँ थोडी दिक्कत हो सकती है लेकिन जल्द ही वह अपने गोल को पूरा करने मेँ सक्षम हो जाएगा। जिस दिन वह अपना गोल पूरा करे तो उसे रिवार्ड के रूप मेँ उसकी फेवरिट आईसक्रीम, गेम या कोई मनपसंद चीज देना बिल्कुल भी न भूलेँ। आपकी यह छोटी सी एक्टिविटी उसे काफी प्रोत्साहित करेगी।

“बच्चों को इस उम्र में दें सेक्स की शिक्षा और ऐसे करें शुरुआत”
“बच्चों को बनाने दें स्वयं का बजट”
“बच्चों को झूठ बोलने की आदत से बचाए”

Add a comment