टेलीग्राफ का आविष्कार किसने किया था?

आइये जानते हैं टेलीग्राफ का आविष्कार किसने किया था। हर दौर के साथ बहुत से आविष्कार हुए और समय के साथ लुप्त भी हो गए। ऐसे ही एक आविष्कार का नाम है टेलीग्राफ, जो आज भले ही चलन में नहीं है लेकिन एक समय ऐसा था जब इसकी बहुत ज्यादा उपयोगिता हुआ करती थी।

ऐसे में टेलीग्राफ के बारे में थोड़ी जानकारी लेना फायदेमंद हो सकता है इसलिए आज बात करते हैं टेलीग्राफ के बारे में।

आज से बहुत समय पहले सन्देश को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने के लिए ढ़ोल बजाये जाते थे या कबूतर के साथ सन्देश एक जगह से दूसरी जगह भेजे जाते थे लेकिन टेलीग्राफ के आविष्कार ने सन्देश भेजने की प्रक्रिया को, पहले की तुलना में बहुत बेहतर और आसान बना दिया।

सन्देश को दूर तक भेजना टेलीग्राफी कहलाता है। टेलीग्राफ एक यूनानी शब्द है जिसका अर्थ होता है- दूर से लिखना। आजकल विद्युत द्वारा सन्देश भेजने की एक तकनीक को तार प्रणाली कहा जाता है और इस तरह सन्देश भेजने को तार करना (टेलीग्राम) कहा जाता है।

ये तो हम जानते ही हैं कि सूचनाओं और संदेशों को व्यक्त करने के लिए शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है जो अक्षरों और वर्णों से बने होते हैं। तार प्रणाली में इन अक्षरों / वर्णों को संकेतों के बहुत से संयोजनों में प्रस्तुत किया जाता है और इस तरह अक्षरों को संकेतों में प्रदर्शित करने को तार कूट यानी टेलीग्राफ कोड कहा जाता है।

सन्देश भेजते समय टेलीग्राफ कोड की मदद से सन्देश को सिग्नल में बदल दिया जाता है और करंट एलिमेंट्स (विद्युत् धारा के अंश) को तार की लाइनों में भेजा जाता है। सन्देश प्राप्त करने के स्थान पर इन सिग्नल्स को सन्देश में बदल दिया जाता है और सन्देश सही स्थान पर प्राप्त हो जाता है।

टेलीग्राफ का आविष्कार किसने किया था?

तार द्वारा सन्देश भेजने वाले टेलीग्राफ के आविष्कार का श्रेय अमेरिकी वैज्ञानिक सैमुअल एफ. बी. मोर्स को जाता है जिन्होंने 1844 में वाशिंगटन और बाल्टीमोर के बीच तार द्वारा ख़बरें भेजकर इसका सार्वजिक प्रदर्शन किया था।

बदलते दौर के साथ भले ही टेलीग्राफ की जगह टेलीफोन, फैक्स मशीन और इंटरनेट ने ले ली है लेकिन इस बात को नकारा नहीं जा सकता है कि टेलीग्राफ अपने दौर की एक बहुत महत्वपूर्ण खोज रही है।

उम्मीद है जागरूक पर टेलीग्राफ का आविष्कार किसने किया था कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी और आपके लिए फायदेमंद भी साबित होगी।

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाएं?

जागरूक यूट्यूब चैनल