यह विश्व के सबसे अनोखे कलाकार

यह बात तो हम सब जानते हैं कि कला का कोई भी दायरा नहीं होता। एक पत्थर को मूर्ति का रूप सिर्फ एक कलाकार ही दे सकता है। इसीलिए आज हम आपके सामने दुनियाभर के कुछ ऐसे कलाकार लाए हैं जिनकी कला देखकर आप हैरत में पड़ जाएंगे क्योंकि यह ही कुछ निराला। तो चलिए इन सभी कलाकारों के बारे में विस्तारपूर्वक जानते हैं।

सूरज की रोशनी से करते हैं पेंटिंग

जार्डन नामक यह कलाकार सूरज की रोशनी का इस्तेमाल करके मैग्निफाइंग ग्लास के द्वारा पेंटिंग करते हैं। सुनने में यह थोड़ा आपको अजीब लगेगा लेकिन यह मैग्निफाइंग ग्लास को ब्रश की तरह इस्तेमाल करते हैं और पेंटिंग बनाते हैं। इनकी पेंटिंग देखने के बाद आप इस बात पर यकीन नहीं कर पाएंगे कि यह मैग्निफाइंग ग्लास द्वारा बनाई गई पेंटिंग है लेकिन वाकई में ऐसा है वह मैग्निफाइंग लेंस का इस्तेमाल करते हैं और उसके द्वारा पेंटिंग बनाते हैं।

गत्तों का ऐसा इस्तेमाल शायद ही आपने किया हो

Zhongkai Xiang नामक यह कलाकार अपने घर में पड़े पुराने गत्तों या डिब्बे का ऐसा इस्तेमाल करता है कि आप सोच भी नहीं सकते। शायद आप में से कुछ लोग ऐसे होंगे जिन्होंने गत्ते या पुराने डिब्बों का इस्तेमाल करने के बारे में सोचा भी होगा लेकिन ऐसा इस्तेमाल तो शायद ही किसी ने सोचा हो। इन्होंने गत्तों के इस्तेमाल से रोबोट तक बनाया हुआ है यकीन नहीं आता तो खुद ही देख लीजिए।

यह करती है बास्केटबॉल से पेंटिंग

आप सभी ने बास्केटबॉल तो खेली होगी लेकिन क्या कभी आपने सोचा है कि बास्केटबॉल से पेंटिंग भी की जा सकती है। नहीं ना लेकिन यह संभव है Yi-Hong नामक यह कलाकार बास्केटबॉल से पेंटिंग कर सकती हैं और इनकी यह अनूठी कला ही इन्हें दुनिया में सबसे निराला बनाती है यकीन नहीं आता तो खुद देख लीजिए।

यह करते हैं हाथों और पैरों से पेंटिंग

पीटर नामक यह कलाकार अपने दोनों हाथों से पेंटिंग कर सकता है। इतना ही नहीं यह अपने पैरों से भी पेंटिंग कर सकता है जो इन्हें एक अनूठा कलाकार बनाता है। ऐसा भी नहीं है कि इन की पेंटिंग आम दर्जे की है यह उत्तम दर्जे की पेंटिंग अपने हाथों और पैरों से बना सकते हैं।

अपने खून पसीने से करते हैं पेंटिंग

खून पसीने की कमाई के बारे में तो आपने सुना होगा लेकिन क्या कभी आपने यह सुना है कि कोई इंसान अपने खून पसीने से पेंटिंग भी करता है। लेकिन ब्राजील के Vinicius Quesada सच में अपने खून और पसीने से पेंटिंग्स बनाते है। इनकी यह सीरीज काफी मशहूर भी है यह पेंटिंग्स देखने में एकदम असल लगती हैं।

यहां पेंटिंग पानी के अंदर सिखाई जाती है

आप लोगों ने स्कूबा डाइविंग के काफी वीडियोस देखे होंगे। जो लोग नहीं जानते उनके लिए बता दें कि स्कूल स्कूबा डाइविंग गोताखोरी की एक तकनीक होती है जिसमें इंसान को पानी के भीतर ले जाकर वहां का पर्यावरण दिखाया जाता है। लेकिन आज हम आपको जापान के एक ऐसे स्कूल के बारे में बता रहे हैं जहां पानी से करीबन 20 फीट नीचे पेंटिंग करना सिखाया जाता है और पेंटिंग करने के लिए वाटरप्रूफ कलर्स का इस्तेमाल किया जाता है।

अपनी जबान से करते हैं पेंटिंग

अब तक हमने आपको हाथ, पैर बास्केटबाल से पेंटिंग करने वाले लोगों के बारे में बताया। लेकिन यह भारतीय कलाकार अपनी जबान से पेंटिंग करता है। अनिल नामक यह कलाकार बाकी सभी कलाकारों से जुदा है शुरुआत में इन्होंने अपनी नाक से पेंटिंग करनी शुरू करी थी। लेकिन यह काफी लोग कर रहे थे तो उन्होंने कुछ अलग करने की सोची। इसके बाद उन्होंने अपनी जबान से पेंटिंग करनी शुरू करें शुरुआती दिनों में जबान से पेंट करने की वजह से वह बीमार भी पड़ जाते थे। लेकिन अब उनके शरीर को इस चीज की आदत पड़ चुकी है और उन्हें कोई बीमारी नहीं होती। अभी तक अपनी जबान से 20 से भी ज्यादा वाटर कलर पेंटिंग कर चुके हैं।

मरी हुई चीटियों से बनाते हैं पेंटिंग

यह कोई कल्पना भी नहीं कर सकता की मरी हुई चीटियों से भी कोई पेंटिंग बना सकता है। लेकिन यह संभव है क्रिस नामक यह पेंटर लाखों चीटियों के मर जाने के बाद उनसे पेंटिंग बनाता है। इनकी यह पेंटिंग 35,000 डॉलर में बिकी है।