यह दवाइयां पूरे विश्व में प्रतिबंधित है पर भारत में आसानी से मिलती है

582

दवाइयों का इस्तेमाल तो हम सभी कभी ना कभी अपने जीवन में करते हैं लेकिन क्या आप यह बात जानते हैं कि यह दवाइयां आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी हो सकती है?? फार्माकोविजिलेंस की 16वीं कांफ्रेंस में वर्ल्ड फार्मास्यूटिकल एक्सपर्ट्स ने कई दवाइयों को प्रतिबंधित कर दिया है। लेकिन यह दवाइयां भारत में आसानी से मिलती हैं इन दवाइयों से गैस्ट्रिक हेमरेज होने का खतरा बढ़ जाता है। कई दवाइयां तो आपके ब्रेन, लीवर, किडनी के लिए अत्यंत रूप से घातक है। लेकिन यह दवाइयां फिर भी भारत में बिक रही है तो चलिए इन दवाओं के बारे में विस्तारपूर्वक जानते हैं।

निम्युस्लाइट यह दवाई दर्द और बुखार के लिए बच्चों में दी जाती है। यह दवाई विदेशों में बैन है लेकिन भारत में इसका इस्तेमाल हो रहा है इस से लीवर खराब होने का खतरा रहता है।

क्लिंडामाइसिन एंटी बैक्टीरियल – यह दवाई टाइफाइड सहित अन्य बीमारियों में रोगियों को दी जाती है। लेकिन यह दवाई भी विदेशों में प्रतिबंधित है इस से बोन मैरो स्प्रेस होता है और यह एक बहुत ही घातक बीमारी में तब्दील हो जाता है।

स्ट्रेप्टोमाइसिन एंटीबायोटिक दवा – यह दवाई TB के मरीजों को दी जाती है लेकिन इसके बहुत ही घातक साइड इफेक्ट्स है इससे मरीज़ बहरा भी हो सकता है यह दवाई विदेशों में प्रतिबंधित है पर भारत में बड़ी ही आसानी से उपलब्ध है

ऐसी ही न जाने कितनी और दवाइयां हैं जिन्हें विदेशों में प्रतिबंधित किया जा चुका है पर भारत में यह दवाइयां बड़े ही आसानी से उपलब्ध हैं। हम आशा करते हैं भारतीय सरकार इस और ध्यान देगी और इन सभी प्रतिबंधित दवाओं पर भारत में भी प्रतिबंध लगेगा।

Add a comment