हमारा मस्तिष्क खराब कर रही हैं ये चीजें

हमारे रोजमर्रा के जीवन में कई ऐसी चीजें हैं जो हमारे शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक हैं लेकिन हम जाने अनजाने में उनसे प्रभावित हो रहे हैं। आइये जानते हैं किन किन चीजों से हमारा मस्तिष्क खराब हो रहा है।

कीटनाशक – अच्छी फसल के लिए खेतों में कीटनाशक डाला जाता है ताकि फसल खराब ना हो लेकिन यह कीटनाशक फसल तो बचा लेता है लेकिन हमारे दिमाग के लिए बेहद खतरनाक है। इससे पारकिन्सन होने का खतरा बढ़ जाता है। खास तौर पर यह गर्भवती महिलाओं के लिए तो बेहद खतरनाक होता है क्योंकि इससे पैदा होने वाले बच्चे का दिमाग सही विकास नहीं कर पाता। इसीलिए फल और सब्जियों को हमेशा अच्छी तरह धोकर ही खाना चाहिए।

पीबीडीई – यह एक तरह का रसायन होता है, इस रसायन से हम सभी अंजान होते हैं जो फर्नीचर, कपड़ों सहित कई घरेलु सामानों पर लगा होता है। यह रसायन हवा में घुल कर हमारी सांस के जरिए शरीर तक पहुंचता है और हमारे नर्वस सिस्टम और दिमाग पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है।

धुआं – धुआं कई तरह से हवा में फैल कर वायु प्रदूषण बढ़ाता है फिर चाहे वह गाड़ियों से निकलने वाला धुआं हो, लकड़ी/कोयले की आग के कारण होने वाला धुआं या सिगरेट से, इस तरह के धुएं में पीएएच यानी पॉलीसाइक्लिक एरोमैटिक हाइड्रोकार्बन होते हैं जो हमारे शरीर में पहुँचने के बाद हम पर बहुत बुरा प्रभाव डालते हैं। एक शोध में सामने आया है की जिन बच्चों के शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है उनका आईक्यू लेवल सामान्य से भी कम हो जाता है और डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं।

सीसा – पेंट, पानी की पाइप, केबल, बच्चों के खिलौने इत्यादि में सीसा पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक होता है लेकिन खास तौर पर गर्भवती महिलाओं के लिए ये बेहद खतरनाक होता है क्योंकि ये हड्डियों में जमा हो जाता है और फिर होने वाले बच्चे के दिमाग पर बुरा असर डालता है जिससे बच्चे का दिमाग सही तरह से विकसित नहीं हो पाता।

पारा – घर में रोज काम आने वाले सामान जैसे बल्ब, बैटरी, थर्मामीटर इत्यादि में पारा पाया जाता है लेकिन यह पारा हमारे शरीर के लिए बेहद ही खतरनाक होता है। पारा हमारी रक्त कोशिकाओं में जमा होकर हमारे दिमाग तक खून पहुंचने में रुकावट पैदा करता है। पारे की ज्यादा मात्रा लकवे को भी जन्म देती है और इससे भी दिमागी बीमारी भी हो सकती है।

पीसीबी – इलेक्ट्रिकल उपकरणों में काम में लिया जाने वाला पीसीबी यानी पॉली क्लोरीनेटेड बायफिनायल हमारे शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक होता है। यह तंत्रिका तंत्र पर बहुत बुरा प्रभाव डालता है और इससे पागल होने का भी खतरा बना रहता है। कई परिस्थितियों में यह कैंसर का भी कारण होता है।

तो अपने बेहतर स्वास्थ्य और दिमाग की तंदुरुस्ती के लिए इन चीजों से दूर रहें और हमेशा अपना दिमाग उन खेल में लगाएं जिनसे दिमाग तेज बने।

अगर ये जानकारी आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

“दिमाग को तेज बनाने के कारगर तरीके”